कमलेश तिवारी केस पर यूपी DGP का बड़ा बयान

यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर कहा- तैयार कर रहे हैं रणनीति SIT के चीफ ...और पढ़ें

यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर कहा- तैयार कर रहे हैं रणनीति SIT के चीफ से भी हुई बात गुजरात और महाराष्ट्र ATS किया संपर्क सोशल मीडिया पर भी रखी जा रही है नजर

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया खुलासा, हत्या के बाद लखनऊ की सड़कों पर घूमते रहे बेखौफ हत्यारे

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया खुलासा होटल खालसा-इन में रुके थे मुख्य आरोपी CCTV फुटेज आया सामने ...और पढ़ें

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया खुलासा होटल खालसा-इन में रुके थे मुख्य आरोपी CCTV फुटेज आया सामने होटल में लगे सीसीटीवी में दोनों हत्या के आरोपी कैद हुए हैं हत्या में शामिल अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन खुद की आईडी पर बुक करवाया था कमरा अशफाक हुसैन और पठान मोहनुद्दीन होटल से भगवा कुर्ते पहनकर बाहर निकले हत्यारों के बाहर निकलने की तस्वीरें भी होटल के सीसीटीवी कैमरे में हुईं कैद अशफाक हुसैन और पठान मोहनुद्दीन बिना होटल का बिल चुकाए हो गए थे फरार

वेबदुनिया पर अंग्रेज़ी सीखें- Vocabulary Development - For Everyone (E)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir.

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir.

वेबदुनिया पर अंग्रेज़ी सीखें- Vocabulary Development - For Everyone (D)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom training session)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom training session)

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने करवा चौथ का पर्व मनाया

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने करवाचौथ की कथा सुनाई पत्नी साधना सिंह को,करवा चौथ या पर्व मनाया

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने करवाचौथ की कथा सुनाई पत्नी साधना सिंह को,करवा चौथ या पर्व मनाया

कश्मीर पर मलेशिया के तीखे तेवर..

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने के भारत सरकार के फैसले पर मलेशियाई के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने संयुक्त राष्ट्र महासभा ...और पढ़ें

कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने के भारत सरकार के फैसले पर मलेशियाई के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की आलोचना की थी। इससे दोनों देशों के रिश्तों में खटास आ गई थी। उस समय भारत के विदेश मंत्रालय ने भी परोक्ष रूप से मलेशिया और तुर्की को जमकर लताड़ लगाई थी। अब भारत के एक व्यापारिक कदम के चलते अब मलेशिया बैकफुट पर आता दिख रहा है। प्रधानमंत्री महातिर के रुख में भी नरमी आती दिख रही है। हालांकि सरकार ने सीधे-सीधे इस मामले में हस्तक्षेप नहीं किया है। महातिर की यह नरमी के पीछे उनका हृदय परिवर्तन नहीं है, बल्कि भारत सरकार के एक संभावित फैसले के मद्देनजर है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत मलेशिया से पाम ऑइल की खरीददारी पर रोक लगाने का विचार कर रहा है। ऐसा भी संभव है कि आयात पर ड्यूटी बढ़ा दी जाए। इस बीच, महातिर का बयान भी सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि यदि भारत बहिष्कार या इस तरह का कोई और कदम उठाता है तो हम इस मामले का कूटनीतिक हल निकालने की कोशिश करेंगे। फिलहाल यह निर्णय भारतीय व्यापारियों का है। अत: इस पर प्रतिक्रिया नहीं दी जा सकती। उल्लेखनीय है कि भारतीय व्यापारियों ने आयात ड्यूटी बढ़ने के डर से नवंबर-दिसंबर महीने के लिए मलेशियाई तेल खरीदना बंद कर दिया है। आयतकों को डर है कि भारत सरकार मलेशिया से आयात घटाने के लिए टैक्स बढ़ा सकती है। एक जानकारी के मुताबिक भारत दुनिया भर में खाद्य तेल का सबसे बड़ा आयातक देश है और मलेशियाई पाम तेल का सबसे बड़ा खरीदार है। 2019 के पहले नौ महीनों में भारत ने 39 लाख टन पाम तेल खरीदा है।

मध्यप्रदेश में मुख्‍यमंत्री कौन, शिवराज या कमलनाथ?

#MPChiefMinister #ShivrajSighChauhan #KamalNathgovernment * मध्यप्रदेश में कागजों में आज भी मुख्‍यमंत्री हैं शिवराज * गैस एजेंसी के बिलों ...और पढ़ें

#MPChiefMinister #ShivrajSighChauhan #KamalNathgovernment * मध्यप्रदेश में कागजों में आज भी मुख्‍यमंत्री हैं शिवराज * गैस एजेंसी के बिलों पर योजनाओं के प्रचार में शिवराज * शिवराज को बताया जा रहा है राज्य का सीएम * कमलनाथ को मुख्‍यमंत्री बने 10 माह से ज्यादा हो चुके हैं

Ayodhya मामले में सबसे लंबी 40 दिन चली सुनवाई

#Ayodhyacase #RamMandir #supremeCourt #SCHearingStart #Rss #AyodhyaHearing नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय में अयोध्या विवाद की सुनवाई न्यायिक इतिहास ...और पढ़ें

#Ayodhyacase #RamMandir #supremeCourt #SCHearingStart #Rss #AyodhyaHearing नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय में अयोध्या विवाद की सुनवाई न्यायिक इतिहास की दूसरी सबसे लंबी सुनवाई हो गई है। इस मामले में बुधवार को सुनवाई का 40वां दिन है। पीठ ने कहा कि अब बहुत हो चुका। आज सुनवाई का आखिरी दिन होगा। इससे पहले आधार की संवैधानिकता को चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई 38 दिनों तक चली थी, जबकि 68 दिनों की सुनवाई के साथ ही केशवानंद भारती मामला पहले पायदान पर बना हुआ है। 1973 में केशवानंद भारती बनाम केरल राज्य के मामले में सर्वोच्च न्यायालय की 13 न्यायाधीशों की पीठ ने अपने संवैधानिक रुख में संशोधन करते हुए कहा था कि संविधान संशोधन के अधिकार पर एकमात्र प्रतिबंध यह है कि इसके माध्यम से संविधान के मूल ढांचे को क्षति नहीं पहुंचनी चाहिए। अपने तमाम अंतर्विरोधों के बावजूद यह सिद्धांत अभी भी कायम है और जल्दबाजी में किए जाने वाले संशोधनों पर अंकुश के रूप में कार्य कर रहा है। केशवानंद भारती बनाम केरल राज्य के मामले में 68 दिन तक सुनवाई हुई, यह तर्क-वितर्क 31 अक्टूबर 1972 को शुरू होकर 23 मार्च 1973 को खत्म हुआ था। आधार की संवैधानिकता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर शीर्ष कोर्ट में तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली बेंच ने सुनवाई की थी। इस बेंच में न्यायमूर्ति एके सीकरी, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति अशोक भूषण शामिल थे। आधार मामले में 38 दिनों तक चली सुनवाई के बाद गत वर्ष 10 मई को फैसला सुरक्षित रख लिया गया था, जबकि इस पर गत वर्ष सितंबर में फैसला सुनाया गया था। इस मामले में विभिन्न सेवाओं में आधार की अनिवार्यता की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई थी।

1813 से 2019 तक, संपूर्ण जानकारी...

#Ayodhyacase #RamMandir #supremeCourt #SCHearingStart #Rss #AyodhyaHearing 1813 : पहली बार हिन्दू संगठनों ने दावा किया कि 1528 ...और पढ़ें

#Ayodhyacase #RamMandir #supremeCourt #SCHearingStart #Rss #AyodhyaHearing 1813 : पहली बार हिन्दू संगठनों ने दावा किया कि 1528 में बाबर के सेनापति मीर बांकी ने मंदिर तोड़कर अयोध्या में मस्जिद बनाई। 1853 : विवाद की शुरुआत 1853 में हुई जब इस स्थान के आसपास पहली बार सांप्रदायिक दंगे हुए। 1859 : अंग्रेजी प्रशासन ने विवादित जगह के आसपास बाड़ लगा दी और मुसलमानों को ढांचे के अंदर और हिंदुओं को बाहर चबूतरे पर पूजा करने की अनुमति दी गई। 1885 : फरवरी 1885 में महंत रघुबर दास ने फैजाबाद के उप-जज के सामने याचिका दायर कर मंदिर बनाने की इजाजत मांगी, लेकिन उन्हें अनुमति नहीं मिली। 1949 : असली विवाद तब शुरू हुआ जब 23 दिसंबर 1949 को भगवान राम और लक्ष्मण की मूर्तियां विवादित स्थल पर पाई गईं। उस समय हिंदुओं का कहना था कि भगवान राम प्रकट हुए हैं, जबकि मुसलमानों का आरोप था कि रात में चुपचाप किसी ने मूर्तियां रख दी। उस समय सरकार ने इसे विवादित ढांचा मानकर ताला लगवा दिया। 1950 : 16 जनवरी 1950 को गोपालसिंह विशारद नामक व्यक्ति ने फैजाबाद के सिविल जज के सामने याचिका दाखिल कर पूजा की इजाजत मांगी, जो कि उन्हें मिल गई, जबकि मुस्लिम पक्ष ने इस फैसले के खिलाफ अर्जी दाखिल की। 1984 : में मंदिर बनाने के लिए विश्व हिंदू परिषद ने एक कमेटी का गठन किया। 1986 : फैजाबाद के जज ने 1 फरवरी 1986 को जन्मस्थान का ताला खुलवाने और हिन्दुओं को पूजा करने का अधिकार देने का आदेश दिया। इसके विरोध में बाबरी मस्जिद संघर्ष समिति का गठन किया गया। उस समय केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी और राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे। 1990 : भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने सोमनाथ से अयोध्या के लिए एक रथयात्रा शुरू की, लेकिन उन्हें बिहार में ही गिरफ्तार कर लिया गया। 1992 : यूपी के तत्कालीन मुख्‍यमंत्री कल्याणसिंह ने विवादित स्थान की सुरक्षा का हलफनामा दिया, लेकिन 6 दिसंबर 1992 को कथित रूप से भाजपा, विश्व हिन्दू परिष, और शिवसेना समेत दूसरे हिंदू संगठनों के लाखों कार्यकर्ताओं ने ढांचे को गिरा दिया। देश भर में हिंदू-मुसलमानों के बीच दंगे भड़के गए, जिनमें करीब 2000 लोग मारे गए। 2003 : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2003 में झगड़े वाली जगह पर खुदाई करवाने के निर्देश दिए ताकि पता चल सके कि क्या वहां पर कोई राम मंदिर था। 2010 : 30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आदेश पारित कर अयोध्या की 2.77 एकड़ विवादित भूमि को 3 हिस्सों में बांट दिया। एक हिस्सा रामलला के पक्षकारों को मिला। दूसरा हिस्सा निर्मोही अखाड़े को, जबकि तीसरा हिस्सा सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मिला। 2011 : उच्चतम न्यायालय ने 2011 में हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी। 2019 : सुप्रीम कोर्ट ने इस बहुचर्चित मामले की 6 अगस्त से 16 अक्टूबर 2019 लगातार सुनवाई। अब फैसले का इंतजार।

वेबदुनिया पर अंग्रेज़ी सीखें- Vocabulary Development - For Everyone (B)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom session)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom session)

वेबदुनिया पर अंग्रेज़ी सीखें- Vocabulary Development - For Everyone (C)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom session)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom session)

वेबदुनिया पर अंग्रेज़ी सीखें- Vocabulary Development - For Everyone (A)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom session)

Absolutely amazing course to boost your vocabulary for all competitive exams - by Sandeep Manudhane sir. (classroom session)

करवा चौथ पर चांद-सा चेहरा पाने के लिए जानिए गोल्ड फेशियल करने की विधि

करवा चौथ के अवसर पर चेहरे पर चांद सा निखार पाने चाहती है, तो हम आपको बता रहे हैं घर ...और पढ़ें

करवा चौथ के अवसर पर चेहरे पर चांद सा निखार पाने चाहती है, तो हम आपको बता रहे हैं घर पर ही गोल्ड फेशियल करने की आसान विधि -

करवा चौथ पर ऐसे हो तैयार कि पति को दोबारा हो जाए आपसे प्यार

वैसे तो आपके पति आपसे प्रेम करते ही है लेकिन करवा चौथ के खास मौके पर एक बार फिर अपने ...और पढ़ें

वैसे तो आपके पति आपसे प्रेम करते ही है लेकिन करवा चौथ के खास मौके पर एक बार फिर अपने पति का स्नेह और प्रेम खुद के प्रति जगाना चाहती है और अपने रिश्तों में नई मिठास घोलना चाहती हैं, तो आप इस खास दिन के लिए ऐसे तैयार हो कि वे एक बार फिर आप पर फिदा हो जाएं। आइए, जानते हैं कुछ खास टिप्स - करवा चौथ के एक या दो दिन पहले से ही चेहरे को खूबसूरत बनाने की तैयारी शुरू कर दें, इसके लिए मुल्तानी मिट्टी या शहद का फेस पैक बनाकर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। इससे त्वचा में निखार आएगा। खूबसूरत त्वचा पाने के लिए अपनी डाइट में हरी सब्जियां, फल और हेल्दी चीजें शामिल करें। करवा चौथ के दिन दमकती त्वचा के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीना अभी से शुरू कर दे। #KarvaChauth2019

शरद पूर्णिमा विशेष : केसरिया शाही बासमती खीर

खुशबूदार बासमती चावल की शाही खीर सामग्री : ढ़ाई लीटर दूध, बासमती चावल दो मुट्ठी, पाव ...और पढ़ें

खुशबूदार बासमती चावल की शाही खीर सामग्री : ढ़ाई लीटर दूध, बासमती चावल दो मुट्ठी, पाव कटोरी मेवे (बादाम, पिस्ता व काजू) की कतरन, चार बड़े चम्मच शक्कर, आधा चम्मच पिसी इलायची, 3-4 लच्छे केसर दूध में भीगे हुए। विधि : खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व चावल धोकर पानी में गला दें। दूध को मोटे तले वाले बर्तन में डालकर गैस पर चढ़ा दें। चार-पांच उबाल लें। पूरा पानी निथार कर चावल को दूध में डाल दें। बीच-बीच में चलाती रहें और गाढ़ा होने तक पकाएं। चावल पकने के बाद शक्कर डाल दें और शक्कर पिघलने तक लगातार चलाती रहें, बीच में छोड़े नहीं। अब इसमें मेवे की कतरन और पिसी इलायची डाल दें। अब केसर के लच्छे को अच्छे से मैश करके उबलते खीर में डाल दें। खीर अच्छी गाढ़ी होने के पश्चात गैस बंद कर दें। तैयार केसरिया शाही बासमती खीर से त्योहार का आनंद उठाएं। #SharadPurnima2019

द स्काई इज़ पिंक : फिल्म समीक्षा

जन्म और मृत्यु दो छोर हैं और उसके बीच का हिस्सा जिंदगी होता है। कुछ लोग तमाम सुख-सुविधा होने के ...और पढ़ें

जन्म और मृत्यु दो छोर हैं और उसके बीच का हिस्सा जिंदगी होता है। कुछ लोग तमाम सुख-सुविधा होने के बावजूद दु:खी रहते हैं और कुछ तमाम अभावों के बावजूद जिंदगी का मजा लेते हुए आगे बढ़ते रहते हैं। इस फलसफे पर आधारित कुछ फिल्में बनी हैं और 'द स्काई इज़ पिंक' भी इसी को आगे बढ़ाती है।

370 हटने के बाद कैसे हैं कश्मीर के हालात

श्रीनगर में डाउनटाउन के बाद दूसरा सबसे तनावपूर्ण इलाका है सौरा। श्रीनगर से नौ किलोमीटर दूर यह अर्ध शहरी इलाका ...और पढ़ें

श्रीनगर में डाउनटाउन के बाद दूसरा सबसे तनावपूर्ण इलाका है सौरा। श्रीनगर से नौ किलोमीटर दूर यह अर्ध शहरी इलाका सुरक्षाबलों के लिए भी बेहद चुनौतीपूर्ण बना हुआ है। 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा और अनुच्छेद 35ए खत्म करने के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ कश्मीर घाटी में पहला विरोध प्रदर्शन इसी इलाके में हुआ था। 9 अगस्त को हुए इस प्रदर्शन मे तकरीबन 10 हजार लोग शामिल थे।

शरद पूर्णिमा विशेष : मेवा और खसखस की खीर

शरद पूर्णिमा पर बनाएं अलग तरह की यह खीर, सर्दी के दिनों में बनाएगी आपकी सेहत सामग्री ...और पढ़ें

शरद पूर्णिमा पर बनाएं अलग तरह की यह खीर, सर्दी के दिनों में बनाएगी आपकी सेहत सामग्री : डेढ़ लीटर दूध, आधा कप पोस्त दाना (खसखस) भीगे हुए, 2 बड़े चम्मच शक्कर, 5-7 भीगे बादाम, पाव चम्मच इलायची पावडर, सूखे मेवे की कतरन (अंदाज से), ताजी मलाई पाव कटोरी, कुछेक केसर के लच्छे, सूखी बादाम और पिस्ता कतरन सजाने के लिए। विधि : सबसे पहले भारी पेंदे के बर्तन में दूध को उबलने के लिए रख दें। अब भीगे बादाम के छिलके उतार लें। खसखस और बादाम को मिक्सी में पीस लें और गरम दूध में डालें। अच्छी तरह उबलने के बाद शक्कर डालें और लगातार हिलाते हुए गाढ़ा होने तक पकाएं। फिर सूखे मेवे की कतरन, इलायची डालें एवं 10-15 मिनट तक पकाएं। तत्पश्चात मलाई डालकर मिलाएं और आंच बंद कर दें। अब ऊपर से केसर, बादाम और पिस्ता कतरन से सजाएं और पौष्टिकता से भरपूर मेवा-पोस्त दाना की खीर पेश करें।

शरद पूर्णिमा पर ऐसे बनाएं स्वादिष्‍ट खीर कि सब अंगुलियां चाटते रह जा

सामग्री : 2 लीटर गाय का दूध, डेढ़ मुट्ठी बासमती चावल, पाव कटोरी मेवे की कतरन (बादाम-पिस्ता, काजू), 3 बड़े ...और पढ़ें

सामग्री : 2 लीटर गाय का दूध, डेढ़ मुट्ठी बासमती चावल, पाव कटोरी मेवे की कतरन (बादाम-पिस्ता, काजू), 3 बड़े चम्मच शक्कर, 3-4 लच्छे केसर दूध में भीगे हुए, 1/2 चम्मच इलायची पावडर। विधि : खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व चावल धोकर पानी में गला दें। दूध को मोटे तले वाले बर्तन में डालकर गैस पर चढ़ा दें। दूध में चार-पांच उबाल आने पर चावल का पूरा पानी निथार कर उसमें डाल दें। बीच-बीच में चलाती रहें और गाढ़ा होने तक पकाएं। चावल पकने के बाद शक्कर डाल दें और शक्कर पिघलने तक लगातार चलाती रहें, बीच में छोड़े नहीं। अब इसमें मेवे की कतरन और पिसी इलायची डाल दें। अब कटोरी में रखी भीगी केसर को मैश कर दें और उबलते खीर में डाल दें। खीर अच्छी गाढ़ी होने के पश्चात गैस बंद कर दें। तैयार गाय के दूध से बनी शाही खीर से भगवान को भोग लगाकर त्योहार का आनंद उठाएं। #SharadPoornima2019 #SharadPoornimaPuja #SharadPoornimarecipes

sharad purnima 2019 : सिर्फ 1 रात के ये 5 उपाय और 2 मंत्र, कर देंगे 1 ही माह में मालामाल

भागवत महापुराण में कहा गया है कि आप चाहते हैं आपका भाग्य, सौभाग्य बन जाए तो शरद पूनम पर चमकीले, ...और पढ़ें

भागवत महापुराण में कहा गया है कि आप चाहते हैं आपका भाग्य, सौभाग्य बन जाए तो शरद पूनम पर चमकीले, श्वेत और सुंदर चंद्र देव को इस मंत्र से पूजें । चांदी के बर्तन में दूध और मिश्री का भोग लगाकर इस मंत्र का रात भर जप करें। शरद पूर्णिमा की रात आप इस मंत्र से सौभाग्य का आशीर्वाद पा सकते हैं मंत्र है "पुत्र पौत्रं धनं धान्यं हस्त्यश्वादिगवेरथम् प्रजानां भवसि माता आयुष्मन्तं करोतु मे।"