अक्षय तृतीया और वास्‍तु : चाहिए मनचाही आय, तो कर लीजिए 7 उपाय,आखातीज पर जरुर आजमाएं

akshaya tritiya vastu tips
 
अक्षय तृतीया वैशाख मास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है। इस बार यह 26 अप्रैल को मनाई जा रही है...इस दिन कोई भी शुभ कार्य करने के लिए पंचाग देखने की जरूरत नहीं है। अक्षय तृतीया के दिन वास्तु के कुछ उपाय भी किए जाते हैं। इन उपाय को करने से घर में हमेशा बरकत आती है। आइए जानते हैं अक्षय तृतीया के दिन करने वाले कुछ वास्तु के उपाय…
 
1.वास्तु शास्त्र के अनुसार, अक्षय तृतीया के दिन आप घर या फिर दुकान में धन रखने के लिए उत्तर और पूर्व दिशा को चुनें। इस दिशा में धन रखने से आर्थिक तरक्की में कोई बाधा नहीं आएगी।
 
2. अक्षय तृतीया के दिन आप घर या फिर कार्यक्षेत्र में अच्छे से देख लें कि मकड़ी के जाले ना हों। वास्तु के अनुसार, मकड़ी के जाल धन आने का रास्ता रोक देते हैं इसलिए सफाई करते रहें।
 
3.अक्षय तृतीया के दिन घर में थोड़ा परिवर्तन करें। आप इस दिन उत्तर दिशा में दर्पण लगाएं। इस दिशा में दर्पण लगाने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ती है। जिससे आय और धन में वृद्धि होती है।
 
4.अगर आपके घर में कोई नल टपक रहा है तो अक्षय तृतीया के दिन सही करा लें। वास्तु के अनुसार, नल से पैसा टपकने का मतलब है कि आपका पैसा भी इसी तरह बह रहा है। इसलिए अपने घर के सभी नलों को सही करा लें। पानी का घर में लगातार बहना अशुभ माना जाता है।
 
5.अक्षय तृतीया के दिन आप घर में फिश पॉट जरूर रखें। इस फिश पॉट में आठ गोल्डन फिश के साथ एक काले रंग की मछली रखें। ऐसा करने से भाग्य में वृद्धि होती है। फिश पॉट को घर में ड्राइंग रूम के दाएं हाथ पर रखें। आपके सभी बिगड़े काम बनना शुरू हो जाएंगे। 
 
6.अक्षय तृतीया के दिनआप जिस चीज का बिजनेस या फिर जिस प्रकार की नौकरी करते हैं, उससे जुड़ी तस्‍वीरें घर पर लगाएं। इससे आपके व्‍यापार धंधे में वद्धि होती है और नौकरी में प्रमोशन भी मिलता है। जो व्‍यापार आप करते हैं उसी से जुड़े विश्‍व प्रसिद्ध व्‍यक्तियों के चित्र सही दिशा में उपयुक्‍त स्‍थान पर लगा सकते हैं।
 
7.इस दिन मिट्टी की मटकी पर खरबूज रख कर किसी सुहागन को दान कर सकते हैं और उनसे एक रुपए का सिक्का लेकर गल्ले में रखें। यह मनचाहे धन के लिए सटीक उपाय है...

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 2nd day of Ramadan 2020 : सब्र का प़ैगाम और ईमान को नेकी देता है दूसरा रोजा