वृश्चिक राशि : साल 2019 में क्या होगा 12 महीनों का हाल, जानिए जनवरी से लेकर दिसंबर तक का भविष्यफल

जनवरी- यह माह आपके लिए नई सौगात लेकर आया है। मनमाफिक कार्य होंगे। मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। राजनीतिज्ञ लोगों के लिए समय सुखद रहेगा। पारिवारिक सहयोग के साथ उन्नति भी होगी। व्यापार-व्यवसाय में यथेष्ट लाभ होगा, वहीं नौकरीपेशाओं के लिए प्रसन्नतादायक स्थिति रहेगी। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा।
 
फरवरी- संतान पक्ष के कार्य में संतोषजनक वातावरण रहेगा। विद्यार्थी वर्ग सुखद स्थिति के साथ राहत पाएंगे। भाग्य के मामलों में अनुकूल स्थिति रहेगी। व्यापारी वर्ग को संभलकर चलना होगा। नौकरीपेशा अपने कार्य के प्रति सजग रहें। स्त्री पक्ष का सहयोग मिलने के साथ धनलाभ की स्थिति रहेगी। शत्रु वर्ग पर प्रभाव बना रहेगा।

 
मार्च- नौकरीपेशाओं के लिए प्रसन्नतादायक खबर मिलेगी। अधिकारी वर्ग भी प्रसन्नता का अनुभव करेंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति प्रगतिवादी रहेगी। स्त्री पक्ष के मामलों में महत्वपूर्ण कार्य बनेंगे। आर्थिक प्रयासों में तेजी के साथ लाभजनक स्थिति रहेगी। साझेदारी के मामलों में सहयोगात्मक स्थिति रहेगी। पारिवारिक सुख-शांति बनी रहेगी।

 
अप्रैल- शत्रुपक्ष पर प्रभाव के साथ कर्ज है, तो कर्ज की स्थिति में कमी आएगी। संतान से प्रसन्नता के साथ विद्यार्थी वर्ग के लिए खुश करने वाला समाचार मिलेगा। वाहनादि सुखों में अनुकूल स्थिति रहेगी। आर्थिक प्रयासों में सफल होंगे। व्यापार-व्यवसाय में प्रगति होकर लाभजनक स्थिति रहेगी। नौकरीपेशा भी अधिकारी वर्ग का सहयोग पाएंगे।
 
मई- मनोरंजन के साधनों पर खर्च होगा, वहीं वाद-विवाद व प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता के योग उत्तम हैं। आर्थिक लाभ के साथ खर्च के योग भी हैं। साहस बल में वृद्धि होकर इच्छित कार्य में सफलता मिलेगी। शत्रुपक्ष प्रभावहीन होंगे। पारिवारिक मामालों में संतोषजनक स्थिति पाएंगे। धर्म-कर्म के मामलों में खर्च होगा।

 
जून- समय का जितना सदुपयोग करते बने, करें। साहस में थोड़ी कमी महसूस करेंगे। स्वास्थ्य के मामलों में लापरवाही से बचना होगा। स्त्री पक्ष का ध्यान रखें व वाद-विवाद से बचें। विद्यार्थी वर्ग के लिए सावधानीपूर्वक चलना होगा। पारिवारिक मामलों में मिली-जुली स्थिति का वातावरण रहेगा। आर्थिक मामलों में लापरवाही न रखें।
 
जुलाई- भाग्य में अनुकूल स्थिति बनने से आपकी महत्वाकांक्षाएं पूरी होंगी। स्त्री पक्ष का सहयोग अनुकूल रहने से प्रसन्नता रहेगी। व्यापार-व्यवसाय में थोड़ा संभलकर चलना होगा व जोखिम के कार्य से बचना होगा। पराक्रम बढ़ा-चढ़ा रहेगा, वहीं शत्रुपक्ष पर प्रभाव बना रहेगा। आर्थिक समस्याओं का समाधान होगा।

 
अगस्त- प्रभाव बढ़ने से आप अपने कार्य में अनुकूलता पाएंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति अनुकूल रहेगी। नौकरीपेशा कामकाज में व्यस्तता का अनुभव करेंगे। स्वास्थ्य की दृष्टि से समय मिला-जुला रहेगा। बाहरी संपर्क लाभदायक रहेगा, वहीं यात्रा के योग भी बन सकते हैं। दांपत्य जीवन में मधुर वातावरण रहेगा।
 
सितंबर- राजनीति से जुड़े व्यक्ति अनुकूल वातावरण मिलने से प्रसन्नता का अनुभव करेंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति में सुधार के साथ प्रगतिवादी समय रहेगा। अधिकारी वर्ग के लिए समय सुखद ही रहेगा। पारिवारिक मामलों में ध्यान रखना होगा। शत्रुपक्ष पर आपका यथेष्ट प्रभाव बना रहेगा। महत्वाकांक्षाएं पूरी होंगी।


अक्टूबर- भाग्य में अनुकूल स्थिति होने से आपके कार्यों में सुगमता रहेगी। शत्रु प्रभावहीन होंगे। समय का सदुपयोग जितना कर सकें, करें। नौकरीपेशाओं के लिए समय अधिक परिश्रमभरा रहेगा। पारिवारिक मामलों में समझदारी से चलना होगा। मकान व भूमि संबंधित मामलों में जोखिम के कार्य से बचें। संतान पक्ष का सहयोग मिलेगा।

 
नवंबर- नौकरीपेशाओं को अपने कार्य में सावधानी रखना होगी। संतान पक्ष का सहयोग किसी कार्य में मिलने से राहत मिलेगी। व्यापारी वर्ग को नवीन कार्य से बचना होगा। स्वास्थ्य की दृष्टि से समय ठीक-ठीक रहेगा। स्त्री पक्ष का सहयोग मिलने से प्रसन्नता पाएंगे। राजनीतिज्ञ लोगों को संभलकर चलना होगा।
 
दिसंबर- पराक्रम में वृद्धि होगी, वहीं मित्रों का सहयोग मिलेगा। साझेदारी के मामलों में सफलता पाएंगे। संचार माध्यम से शुभ समाचार मिलेगा। व्यापार-व्यवसाय में सुखद स्थिति रहेगी। नौकरीपेशाओं के लिए अनुकूल स्थिति बनने से आपके कार्य बनेंगे। धन व कुटुम्ब के मामलों में सहयोगात्मक स्थिति रहेगी। शत्रु परास्त होंगे।

 
उपाय- इस वर्ष मूंगे के साथ पुखराज पहनना लाभदायक रहेगा। प्रति मंगलवार बजरंग बाण पढ़ें। लाल मुंह के बंदरों को गुड़-चना खिलाएं।

ALSO READ: वृश्चिक राशि का वार्षिक राशिफल 2019 : करियर व व्यवसाय, धन, पारिवारिक जीवन और सेहत

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख भगवान शिव ने क्यों लिया था भिखारी का रूप, जानिए अन्नपूर्णा जयंती के शुभ मुहूर्त और पूजन विधि