Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

21 नवंबर को बुध ग्रह मिल गया सूर्य से और बना बुधादित्य योग, 10 दिसंबर तक 3 राशियों को होगा धन लाभ

webdunia
सोमवार, 22 नवंबर 2021 (13:44 IST)
Sun and Mercury Transit: बुध ग्रह (Mercury) 21 नवंबर को वृश्चिक राशि में गोचर करेंगे। इस राशि में सूर्य देव (Sun) 16 नवंबर से विराजमान हैं। बुध के सूर्य के साथ संयोग या युति से बुधादित्य (Budhaditya Yoga) योग का निर्माण होगा। इस योग से धन, समृद्धि और सुख शांति बढ़ती है। ज्योतिष शास्त्र में बुधादित्य योग को शुभ फलदायी माना जाता है। इससे राजयोग भी बनता है। जानिए बुधादित्य योग से होगा 6 राशियों ( Zodiac Signs Astrology ) को महालाभ।
 
 
ज्योतिष में सूर्य ग्रह को आत्मा, पिता, सम्मान, आदि का कारक माना गया है वहीं, बुध को ज्ञान, बुद्धि, व्यापार का कारक ग्रह माना जाता है। ऐसे में जब ये दोनों ग्रह मिलते हैं तो बुधादित्य योग (Surya Budh Ki Yuti) का निर्माण होता है। बुधादित्य योग जब वृष, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, कुंभ लग्न में हो तो व्यक्ति प्रभावशाली होता है। यह योग 10 दिसंबर तक रहेगा क्‍योंकि ये दोनों ग्रह 10 दिसंबर तक वृश्चिक राशि में रहेंगे। 20 दिन तक चलने वाला बुधादित्‍य योग 6 राशि वालों के लिए बेहद शुभ रहेगा।
 
1. सिंह (Leo): सिंह राशि के चतुर्थ भाव में सूर्य-बुध की युति बन रही है। चतुर्थ भाव सुघ, समृद्धि, वाहन, माता और धन का कारक है। इस योग से अपार धन के लाभ के साथ ही पारिवारिक सुख बढ़ेगा। वाहन सुख मिलेगा। माता-पिता का सहयोग मिलेगा। कार्यक्षेत्र में शुभ परिणाम देखने को मिलेंगे। सेहत भी अच्‍छी रहेगी।
 
2. कुंभ (Aquarius) : कुंभ राशि के दशम भाव में सूर्य-बुध की युति बन रही है। ऐसे में करियर से जुड़ी परेशानियां खत्म होंगी। आर्थिक स्थिति बेहतर होगी औार पद-सम्‍मान बढ़ेगा। मेहनत का पूरा फल मिलेगा। सफल यात्रा का योग है।  
 
3. मीन (Pisces): धन का आगमन होता रहेगा। माता लक्ष्मी की विशेष कृपा रहेगी। धन लाभ होने से आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। नौकरी में पदोन्नती होगी। बोरोजगार हैं तो नई नौकरी मिलेगी।
 
इसके अलावा वृषभ, कन्या, कर्क और मकर राशियों वालों के लिए भी बुध का यह परिवर्तन सकारात्मक संदेश लेकर आ रहा है। 
 
डिसक्लेमर : यह लेख ज्योतिष की मान्यता पर आधारित है। किसी विशेषज्ञ से पूछकर ही इसे समझें, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि दैनिक गोचर अनुसार हर दिन राशियों में परिवर्तन होता रहता है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

24 नवंबर: सिख धर्म के नौंवें गुरु, गुरु तेग बहादुर सिंह जी का शहीदी दिवस