Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

छछूंदर का घर में होना शुभ या खतरनाक?

हमें फॉलो करें webdunia

अनिरुद्ध जोशी

छछूंदर सर्वभक्षी, खतरनाक और साहसी प्राणी है। चूहे और सांप को तो यह देखते ही चट कर जाती है। कुत्ते, लोमड़ी और अन्य जानवर भी इसे खाने की हिम्मत नहीं करते हैं। पक्षियों में सिर्फ एक उल्लू ही इसे खा सकता है लेकिन उसे खाते ही वह बीमार पड़ जाता है इसीलिए उल्लू भी इसे नहीं खाते हैं।
 
छछूंदर को खाने से दूसरे जीव इसलिए डरते हैं कि उसके थूक की गिल्टियों में काले नाग के जैसा भयंकर विष पाया जाता है। इसके दांत लगते ही शिकार को कुछ सूझ नहीं पड़ता, मस्तिष्क में धुंध छा जाती है, सांस लेने में कष्ट होता है और इसके बाद उसे लकवा मार जाता है। छछूंदर लगातार अपने मुंह से बदबू छोड़ती रहती है जिसके कारण कोई भी खतरनाक जीव उसके पास नहीं फटकता है। चूहा, गिलहरी व छछूंदर जैसे जानवरों में जहां चूहे का जीवन चक्र औसतन 3 साल है, वहीं छछूंदर 10 से 30 साल तक जीता है।
 
 
सफाईकर्मी है छछूंदर
*छछूंदर के बारे में कहा जाता है कि यह जिस भवन में घूमती हैं वहां लक्ष्मी की वृद्धि होती है। हालांकि इसमें कितनी सचाई है यह तो हम नहीं जानते लेकिन एक बात तो तय है कि जहां छछूंदर होती है वहां चूहे-सांप, कीड़े-मकोड़े और अन्य तरह के जीव-जंतु नहीं होते हैं। यह घर के सारे बैक्टीरिया को खा जाती है। कहना चाहिए कि यह घर की बहुत बड़ी सफाई और सुरक्षाकर्मी होती है। संभवत: इसीलिए कहा गया होगा कि जहां यह होती है वहां लक्ष्मी का वास होता है।
 
 
इंसानों के लिए भी खतरनाक है छछूंदर
*हालांकि छछूंदर जिस तरह अन्य जीव और जंतुओं के लिए खतरनाक होती है उसी तरह यह मानव के लिए भी खतरनाक हो सकती है। अत: यदि आपके घर में छछूंदर है तो घर के भोजन को उससे संक्रमित होने से बचाइए, क्योंकि उसका थूक जहरीला होता है। दूसरी बात, इसका भी ध्यान रखें कि छछूंदर आपको काटे नहीं। वैसे वह किसी को अनावश्यक परेशान नहीं करती है।
 
*छछूंदर आपके या आपके बच्चों के पैरों की अं‍गुलियां भी कुतर-कुतर के खा जाएगी तो आपको इसका पता भी नहीं चलेगा। इसका कारण यह कि यह अपने थूक से उतने हिस्से को सुन्न कर देती है।
 
*कभी छछूंदर के काटने पर 'एंटी रैबीज इंजेक्शन' लगवाने पड़ते हैं। कुत्ता, बिल्ली, चमगादड़, चूहा, छछूंदर, नेवला, लोमड़ी, बाघ, शेर व अन्य स्तनपायी जानवरों के काटने पर लापरवाही बरतने से रैबीज होने का खतरा बढ़ जाता है। इससे होने वाली बीमारी हाइड्रोफोबिया कहलाती है। हाइड्रोफोबिया होने से रोगी की मौत भी हो सकती है इसलिए आप छछूंदर को हल्के में न लें, यह एक खतरनाक जीव है।
 
छछूंदर से जुड़े शुभ शकुन
*कहते हैं कि छछूंदर जिस भी व्यक्ति के चारों ओर घूम जाए तो समझो कि उसे निकट भविष्य में कोई बड़ा लाभ होने वाला है।
*इसी तरह छछूंदर यदि घर के चारों ओर घूम जाए तो उस घर की विपत्ति टल जाती है।
*माना जाता है कि जो व्यक्ति दिवाली की रात को छछूंदर देख ले तो उसकी किस्मत खुल जाती है। इसके दिखने का मतलब है कि आप बेहद भाग्यशाली हैं और धन से जुड़ी आपकी सारी समस्याएं खत्म होने वाली हैं।
*जिस घर में छछूंदर घूमती रहती है वहां लक्ष्मी का आगमन होता है। हालांकि जिस घर में साफ-सफाई अत्यधिक है वहां छछूंदर के आने के चांस कम हो जाते हैं।
 
 
छछूंदर भगाने के उपाय
*छछूंदर को भगाने के लिए घर के हर कोनों में रूई में पिपरमेंट को लेकर रख दें।
*पुदीने की पत्ती या फूल को लेकर कूट लें और इसे छछूंदर के बिल के पास या आने वाली जगहों के पास रख दें।
*लालमिर्च के पाउडर को छछूंदर के आने जाने वाली जगह पर रख दें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

3 मार्च को बुध आएंगे मीन राशि में, क्या होगा 12 राशियों पर असर...