Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Panchak 2021: 12 फरवरी से शुरू होगा चोर पंचक, जानें क्या रखें सावधानी

हमें फॉलो करें webdunia
Panchak Start 12 Feb 2021
 
पंचक क्या है?- ज्योतिष शास्त्र में धनिष्ठा से रेवती तक। जो 5 नक्षत्र- धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद एवं रेवती होते हैं, उन्हे पंचक कहा जाता है। ज्योतिष में आमतौर पर माना जाता है कि पंचक में कुछ विशेष कार्य नहीं किए जाते हैं। हिन्दू मान्यता के अनुसार पंचक का समय अशुभ समय माना जाता है। पंचक के अंतर्गत आने वाले इन्हीं पांच नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग को 'पंचक काल' कहा जाता है।
 
कब से शुरू हो रहा है चोर पंचक- इस बार पंचक शुक्रवार, 12 फरवरी 2021 से प्रारंभ हो रहा है, जो कि मंगलवार, 16 फरवरी 2021 तक जारी रहेगा। अत: इस समयावधि में अधिक सतर्क रहना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शुक्रवार से शुरू हुए पंचक, जिसे 'चोर पंचक' कहा जाता है, के दौरान यात्रा नहीं करनी चाहिए। इसके अलावा धन से जुड़ा कोई कार्य भी पूर्णत: निषेध माना गया है। ऐसी मान्यता है कि इस दौरान धन हानि होने की प्रबल संभावनाएं रहती हैं। अत: सावधानी बरतते हुए कोई भी लेन-देन का कार्य करना चाहिए।
 
पंचक से डर क्यों?- पंचक काल के 5 नक्षत्रों का जीवन पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। जहां धनिष्ठा नक्षत्र में अग्नि का भय रहता है, वहीं शतभिषा नक्षत्र में कलह के योग बनते हैं। पूर्वा भाद्रपद को रोग कारक नक्षत्र माना गया है और उत्तरा भाद्रपद में धन के रूप में दंड होता है। साथ ही रेवती नक्षत्र आने से धन हानि की संभावना भी होती है।
 
इसीलिए जहां पंचक में हर तरह से सावधानी बरतने की आवश्यकता है, वहीं नक्षत्र के अशुभ प्रभावों से डर लगना स्वाभाविक है। अत: इन समयावधि में घास, लकड़ी, ईंधन आदि एकत्रित न करने की सलाह दी जाती है।
 
इतना ही नहीं इस समय काल में दक्षिण दिशा की यात्रा नहीं करना चाहिए तथा इन दिनों घर की छत बनाने से बचना चाहिए और किसी की मृत्यु होने पर कुश की घास या आटे के 5 पुतले जलाने के बाद ही विधि-विधान से दाह संस्कार करना उचित माना गया है। अत: पंचक के समय में विशेष सावधानी बरतना आवश्यक होता है। 
 
पंचक काल का समय- इस बार पंचक की शुरुआत- 12 फरवरी 2021, शुक्रवार को प्रातः 2.11 मिनट से हो रही है तथा 16 फरवरी 2021, मंगलवार को रात्रि 8.57 मिनट पर पंचक की समाप्ति होगी।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कुंभ संक्रांति पर गंगा स्नान करने से मिलेगा पुण्य, जानिए 5 खास बातें