Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

शनि मार्गी : इन तीन राशियों की खत्म हो सकती हैं परेशानी, जानिए उपाय

webdunia
धनु, मकर और कुंभ राशि पर चल रही है शनि की साढ़े साती, शनिवार को करें ये उपाय
 
धनु, मकर और कुंभ राशि पर शनि साढ़ेसाती चल रही है। शनि ग्रह इस समय मकर राशि में वक्री हैं। यानि मकर राशि में शनि उल्टी चाल चल रहे हैं। शनि की साढ़े साती जीवन में परेशानी प्रदान करती है। आइए जानते हैं इसके उपाय।
 
धनु, मकर और कुंभ राशि वालों के लिए यह समय बहुत संभल कर चलने का है। क्योंकि शनि की साढ़ेसाती आप पर चल रही है। ज्योतिष शास्त्र में शनि की साढ़े साती को बहुत ही अशुभ माना गया है। शनि की साढ़े साती जब आती है तो व्यक्ति का जीवन संकट और परेशानियों से भर जाता है।
 
इस समय शनि का गोचर मकर राशि में हैं। मकर राशि में शनि इस समय वक्री हैं। शनि इस राशि में 29 सितंबर 2020 को मार्गी होंगे। वक्री अवस्था में शनि और भी अधिक अशुभ फल देते हैं।

जिन राशियों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है उनकी परेशानियां 29 सितंबर के बाद कुछ कम हो सकती हैं। क्योंकि शनि अपनी सीधी चाल चलने लगेंगे। जब शनि उल्टी चाल चलते हैं तो पीड़ित माने जाते हैं। जिस कारण व्यक्ति की परेशानियों को बढ़ा देते हैं।
 
शनि की अशुभता को दूर करने के लिए शनिवार का दिन महत्वपूर्ण माना गया है। शनिवार के दिन शनि देव की विधि पूर्वक पूजा करने से शनि ग्रह की अशुभता को दूर करने में मदद मिलती है। इसलिए शनिवार के दिन शनि देव की विशेष पूजा करनी चाहिए।
 
शनि अशुभ हों तो देते हैं ये फल
 
शनि जब किसी के जीवन में अशुभ होते हैं तो उसका जीवन संकटों से भर देते हैं। जन्म कुंडली में शनि जब अशुभ होते हैं तो व्यक्ति को वाद विवाद में फंसा देते हैं। पुलिस और अदालत के मामलों में उलझा देते हैं। झूठे आरोपों से व्यक्ति परेशान होने लगता है। धन हानि करते हैं और जमा पूंजी को भी अशुभ शनि नष्ट करते हैं। शनि दांपत्य जीवन में भी बाधा पहुंचाते हैं। तलाक की स्थिति भी बना देते हैं। इसलिए शनि का उपाय करना बहुत ही आवश्यक है।
 
धनु,मकर और कुंभ राशि 
धनु राशि, मकर राशि और कुंभ राशि पर शनि ग्रह की साढ़ेसाती चल रही है। इसलिए इन राशियों को सामान्यत: सावधान रहने की जरुरत है। शनिवार के दिन शनि देव और हनुमान जी की पूजा करें और शनि का दान करें। 
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Navgraha Effects : जानिए नवग्रहों का क्या होता है असर