Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

नौतपा में 9 दिनों तक क्यों तेज गर्मी पड़ती है, क्या होता है रोहिणी का गलना?

हमें फॉलो करें Nautapa
बुधवार, 24 मई 2023 (19:04 IST)
Nautapa 2023 date time 2023 : नौतपा का प्रारंभ 25 मई की रात्रि में हो रहा है। कहते हैं कि इन नौ दिनों में बहुत तेज गर्मी पड़ती है इसीलिए इसे नौतपा कहते हैं। यह धरती पर ग्रीष्म ऋतु में 9 दिनों का तपन काल रहता है। इस दौरान गर्मी अपने शिखर पर होती है और तेज तपन के साथ गर्म हवाओं से मौसम शुष्क व गर्म हो जाता है। ऐसे में लू लगने का खतरा बढ़ जाता है। आखिर ऐसा क्यों होता है?
 
 
कब से प्रारंभ होता है नौतपा : जब सूर्यदेव रोहिणी नक्षत्र में 15 दिन के लिए प्रवेश करते हैं तो उसकी शुरुआत के 9 दिन को नौतपा कहते हैं क्योंकि इन शुरुआती 9 दिनों में धरती काफी तेज तपती है। परंतु सवाल यह उठता है कि उन इलाकों में गर्मी क्यों नहीं पड़ती जो ठंडे हैं? जैसे अमेरिका और योरप के कुछ क्षेत्र के साथ ही भारत में हिमाचल, कश्मीर और उत्तराखंड में गर्मी के दिनों में भी गर्मी का प्रकोप नहीं होता है। 
 
हलांकि यह हमें समझना होगा कि सूर्य के रोहणी में जाने से सूर्य की किरणे सीधी धरती पर पड़ती है और तब उन क्षेत्रों में ज्यादा गर्मी होती है जो दक्षिणी ध्रुव या उत्तरी ध्रुव से दूर है। हिमालय क्षेत्र में भी सर्दी या ठंड के दिनों की अपेक्षा गर्मी के दिनों में भले ही वैसी गर्मी नहीं लगती जैसे मैदानी क्षेत्रों में लगती है परंतु गर्मी के कारण बर्फ जरूर पिघलने लगती है।
webdunia
समुद्र तट पर सूर्य का वास : ज्योतिष मान्यता के अनुसार इस बार रोहिणी नक्षत्र का निवास समुद्र के तट पर तथा वास रजक के यहां, वहीं वाहन सिचाणु रहेगा। अर्थात जब सूर्यदेव रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करते हैं तो उस समय उनका वास समुद्र तट पर होता है। समुद्र तट पर वास होने से यह माना जाता है कि वर्षा अच्छी होगी। क्योंकि तब समुद्र का जल वाष्प में बदलकर ऊपर जाकर बादल बनता है।
 
क्या होता है रोहिणी का गलना : ऐसी ज्योतिष धारणा है कि जिस क्षेत्र में नौतपा के दौरान बारिश हो जाती है तो उसे रोहिणी का गलना कहते हैं। मान्यता अनुसार फिर उसे क्षेत्र में पर्याप्त बारिश नहीं होती है, परंतु जो क्षेत्र पूरे 9 दिनों तक तपता है उस क्षेत्र में पर्याप्त बारिश होती है। सूर्य के 15 दिनों तक रोहिणी में रहने तक जिस क्षेत्र में बिल्कुल भी बारिश नहीं होती है वहां फिर भरपूर बारिश होती है।
 
नौतपा का में इस बार क्या होगा : नौतपा में यदि वर्षा नहीं होती है और यह अच्‍छे से तपता है तो अच्‍छी वर्षा होती है। ऐसे में फसल के भी अच्छे होने के संकेत मिलते हैं। इस वर्ष नौतपा के दौरान 25 मई 26 मई का दिन सामान्य रहेगा। वही 27, 28, 29, 30 के दिन प्रचंड तेज हवा के साथ गर्मी देखने को मिल सकती है। इसके साथ ही आगामी अंतिम 3 दिन 31,1 और 2 को तेज हवा के साथ उमस भरा मौसम रहने की संभावना है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

गुरुवार, 25 मई 2023: आज किन राशियों के चमकेंगे सितारे, जानें अपना दैनिक राशिफल