Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

विवाह करें इन 9 योग को छोड़कर इन 2 योग में, सफल होगा वैवाहिक जीवन

webdunia

अनिरुद्ध जोशी

बुधवार, 20 नवंबर 2019 (14:06 IST)
सूर्य-चन्द्र की विशेष दूरियों की स्थितियों को योग कहते हैं। लगभग योग 27 प्रकार के होते हैं। दूरियों के आधार पर बनने वाले 27 योगों के नाम क्रमश: इस प्रकार हैं- 1.विष्कुम्भ, 2.प्रीति, 3.आयुष्मान, 4.सौभाग्य, 5.शोभन, 6.अतिगण्ड, 7.सुकर्मा, 8.धृति, 9.शूल, 10.गण्ड, 11.वृद्धि, 12.ध्रुव, 13.व्याघात, 14.हर्षण, 15.वज्र, 16.सिद्धि, 17.व्यतिपात, 18.वरीयान, 19.परिध, 20.शिव, 21.सिद्ध, 22.साध्य, 23.शुभ, 24.शुक्ल, 25.ब्रह्म, 26.इन्द्र और 27.वैधृति।
 
 
अशुभ योग कौन से हैं?
27 योगों में से कुल 9 योगों को अशुभ माना जाता है तथा सभी प्रकार के शुभ कामों में इनसे बचने की सलाह दी गई है। ये 9 अशुभ योग हैं- विष्कुम्भ, अतिगण्ड, शूल, गण्ड, व्याघात, वज्र, व्यतिपात, परिध और वैधृति।

 
शुभ योग में क्या करें?
शुभ योग में योगानुसार शुभ या मंगल कार्य कर सकते हैं। प्रत्येक कार्य के लिए अलग अलग योग का निर्धारण किया गया है। शुभ योग में यात्रा करना, गृह प्रवेश, नवीन कार्य प्रारंभ करना, विवाह आदि करना शुभ होता है। वैसे तो उपरोक्त 9 योगों को छोड़कर अन्य योग में विवाह आदि मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं लेकिन मुख्य रूप से 2 योगों को विवाह हेतु ही माना गया है।
 
 
1.सौभाग्य योग : यह योग सदा मंगल करने वाला होता है। नाम के अनुरूप यह भाग्य को बढ़ाने वाला है। इस योग में की गई शादी से वैवाहिक जीवन सुखमय रहता है। इसीलिए इस मंगल दायक योग भी कहते हैं। लोग मुहूर्त तो निकलवा लेते हैं परंतु सही योग के समय में प्रणय सूत्र में नहीं बंध पाते। अत: सुखमय वैवाहिक जीवन के लिए सौभाग्य योग में ही विवाह के बंधन में बंधने की प्रक्रिया पूरी की जानी चाहिए।

 
2.प्रीति योग : जैसा कि इसका नाम है प्र‍ीति योग इसका अर्थ यह है कि यह योग परस्पर प्रेम का विस्तार करता है। अक्सर मेल-मिलाप बढ़ाने, प्रेम विवाह करने तथा अपने रूठे मित्रों एवं संबंधियों को मनाने के लिए प्रीति योग में ही प्रयास करने से सफलता मिलती है। इसके अलावा झगड़े निपटाने या समझौता करने के लिए भी यह योग शुभ होता है। इस योग में किए गए कार्य से मान सम्मान की प्राप्ति होती है।

 
आप किसी भी पंडित या ज्योतिष से पूछकर उचित योग और मुहूर्त में विवाह का समय निकाल सकते हैं। किसी जानकार ज्योतिष से पूछ सकते हैं कि सौभाग्य और प्रीति योग कब आएंगे। बेहतर होगा की आप शुक्ल पक्ष की गोधूलि बेला का चयन करें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

jupiter transit in capricorn 2020 : गुरु का राशि परिवर्तन, नए साल में कर देगा धनवान, पढ़ें 12 राशियां