Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

रविवार को पहनें सूर्य का खूबसूरत रत्न माणि‍क,जानिए क्यों व किसके साथ पहनें?

webdunia
माणिक सब रत्नों का राजा माना गया है। कहने का मतलब यह रत्न अनमोल है। यह रत्न सूर्य ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है और इसे सूर्य के कमजोर व पत्रिकानुसार स्थिति जानकर इस रत्न को धारण करने का विधान है। इसके बारे में एक धारणा यह है कि माणिक की दलाली में हीरे मिलते हैं। 
 
कौन पहनें :- मेष, मिथुन, कन्या, वृश्चिक, धनु मीन लग्न वाले सूर्य की शुभ स्थिति में माणिक पहन सकते है। 
 
कब पहनें यह रत्न :- माणिक को शुक्ल पक्ष के किसी भी रविवार को सुबह 9.15 से 11.00 बजे तक धारण कर सकते हैं।  
 
कीमत : कीमत में इसका कोई मोल नहीं है, इसकी क्वॉलिटी पारदर्शिता व कलर पर निर्भर करता है इसका मूल्य। 
 
सबसे उत्तम बर्मा का माणिक माना गया है। यह अनार के दाने-सा दिखने वाला गुलाबी आभा वाला रत्न बहुमूल्य है। इसकी कीमत वजन के हिसाब से होती है। यह करूर, बैंकॉक का भी मिलता है; लेकिन कीमत सिर्फ बर्मा की ही अधिक होती है। बाकी 100 रु. से 500 रु. कैरेट तक में मिल जाता है, लेकिन बर्मा की किमत 1000 रु. कैरेट से आगे होती है। एक कैरेट 200 मिली का होता है व पक्की रत्ती 180 मिली की होती है। 
 
किसके साथ पहनें :- माणिक को मोती के साथ पहन सकते हैं, तो पुखराज के साथ भी पहन सकते हैं।

मोती के साथ पहनने से पूर्णिमा नाम का योग बनता है।

जबकि माणिक व पुखराज प्रशासनिक क्षेत्र में उत्तम सफलता का कारक होता है।

माणिक व मूंगा भी पहन सकते हैं, ऐसा जातक प्रभावशाली व कोई प्रशासनिक क्षेत्र में सफलता पाता है।

वृषभ लग्न में केन्द्र चतुर्थ का स्वामी होता है सूर्य कि स्थितिनुसार इस लग्न के जातक भी माणिक पहन सकते हैं।
 
इसे पुखराज, मूंगा के साथ भी पहना जा सकता है।

पन्ना व माणिक भी पहन सकते है, इसके पहनने से बुधादित्य योग बनता है। जो पहनने वाले को दिमागी कार्यों में सफल बनाता है। 
 
माणिक, पुखराज व पन्ना भी साथ पहन सकते हैं।

माणिक के साथ नीलम व गोमेद नहीं पहना जा सकता है।

सिंह लग्न में जब सूर्य पंचम या नवम भाव में हो तब माणिक पहनना शुभ रहता है।

- पं. अशोक पंवार मयंक

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

लव मैरिज करना चाहते हैं? जानिए कुंडली में किन योगों से होता है प्रेम विवाह पक्का...