Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia

Shukra Gochar : शुक्र करेंगे अपनी ही राशि में प्रवेश, 5 राशियों के लोग होने वाले हैं मालामाल

हमें फॉलो करें shukra grah

WD Feature Desk

, शनिवार, 18 मई 2024 (12:59 IST)
Transit of Venus 2024: शुक्र ग्रह की दो राशि है तुला और वृषभ। 19 मई 2024 को सुबह 8:29 पर शुक्र ग्रह वृषभ राशि में गोचर करेंगे। शुक्र को प्रेम, सुंदरता, आनंद और सद्भावना से संबंधित ग्रह और वृषभ राशि को स्थिरता, कामुकता और भौतिकता से संबंधित राशि माना जाता है। इसलिए 4 ऐसी राशियों हैं जिनके जीवन में सुख शांति के साथ समृद्धि बढ़ने वाली है।
1. वृषभ राशि : आपकी कुंडली के पहले और छठे भाव के स्वामी शुक्र का गोचर पहले भाव में हुआ है। इससे परिणामस्वरूप आर्थिक स्थिति मजबूत हो जाएगी। व्यापार में उन्नति होगी। नौकरी में प्रमोशन तय है।
 
2. कर्क राशि : आपकी कुंडली के 4थे और 11वें भाव के स्वामी शुक्र का गोचर 11वें घर में होना आय के सोर्स में बढ़ोतरी कर देगा। करियर और नौकरी में शुभ परिणाम प्राप्त होंगे। अगर आप व्यवसाय के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं तो व्यापार में अच्छी सफलता प्राप्त होगी और ज्यादा मुनाफा मिलेगा। जीवनसाथी के साथ मधुरता बढ़ेगी। आपकी सेहत अच्‍छी रहेगी।
3. कन्या राशि : आपकी कुंडली के दूसरे और नवम भाव के स्वामी शुक्र गोचर आपके नवम भाव में होने वाला है। अटके कार्य पूर्ण होंगे। व्यापारी हैं तो मुनाफा प्राप्त करने में सफल होंगे। आर्थिक मोर्चे पर आप अच्छा पैसा कमाने और बचत करने में भी कामयाब होंगे। सेहत अच्छी रहेगी।
 
4. वृश्चिक राशि : आपकी कुंडली के सप्तम और द्वादश भाव के स्वामी है और आपके सप्तम भाव में ही स्थिति रहने वाले हैं। करियर और नौकरी में यह अच्छे परिणाम देगा। व्यावसायिक क्षेत्र से जुड़े हुए हैं तो यह गोचर व्यवसाय में भाग्य का साथ मिलने से लाभ देगा। आर्थिक स्थिति पहले की अपेक्षा अधिक मजबूत होगी। रिश्तों में आप बेहतर स्थिति पाएंगे।
5. कुंभ राशि : आपकी राशि के चतुर्थ और नवम भाव के स्वामी शुक्र का चतुर्थ भाव में प्रवेश होगा। इसके परिणाम स्वरूप करियर और नौकरी में सफलता और समृद्धि मिलेगी। व्यापार में ज्यादा सफलता और ज्यादा मुनाफा प्रदान करेगा। हालांकि सेहत को लेकर आपको सतर्क रहने की जरूरत है।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Mohini ekadashi 2024: मोहिनी एकादशी व्रत का प्रारंभ और पारण जानें