Ayodhya : विनय कटियार के बयान पर भड़के मुस्लिम पक्षकार

संदीप श्रीवास्तव

मंगलवार, 5 नवंबर 2019 (14:43 IST)
अयोध्या। भाजपा के फायर ब्रांड नेता व पूर्व राज्यसभा सदस्य विनय कटियार ने उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक बयान के दौरान कहा कि हम सभी को अयोध्या राम जन्मभूमि के फैसले का बेसब्री से इंतजार है। इसके बाद बाद राम जन्मभूमि पर मंदिर का भव्य निर्माण किया जाएगा।
 
कटियार यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि राम मंदिर के बाद मथुरा व काशी हमारे एजेंडे में होगा। इस पर टिप्पणी करते हुए बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब ने विरोध जताते हुए कहा कि फैसले का हम सभी को भी इंतजार है, लेकिन कटियार का बयान बेबुनियाद है। उन्हें भगवान सद्‍बुद्धि दे और अपने को वे संभालकर रखें तो बेहतर है। हम कुछ कहना नहीं चाहते हैं। फैसला जो भी आएगा वह सर-आंखों पर।
ALSO READ: EXCLUSIVE : अयोध्या के बाद काशी-मथुरा हमारे एजेंडे में, सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले भाजपा नेता विनय कटियार का बड़ा बयान
दूसरे मुस्लिम पक्षकार पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि उन्होंने सुनना बंद कर दिया है। प्रशासन सुन और देख रहा है, जो करना है वह करे। हम आने वाले फैसले का पालन करेंगे।
 
सतेन्द्र दास भी नाराज : श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास ने कटियार के बयानों का पूर्ण समर्थन किया, किंतु राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी महंत सतेन्द्र दास ने कटियार के बयान पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि हम तो शांति की बात करते हैं। कोर्ट के आदेश का हम सभी को पालन करना चाहिए। पहले राम जन्मभूमि की समस्या का समाधान हो, क्योंकि विवाद राम जन्मभूमि का ही चल रहा है।
 
महंत सतेन्द्र दास ने कहा कि इस प्रकार की भाषा बोलकर ही लोग मामले को बिगाड़ते रहे हैं। राजनीति के जुड़ जाने के कारण ही रामलला इतने समय से त्रिपाल में हैं। लोगों को लगता है कि हमारी राजनीति नहीं चलेगी इसीलिए ऐसी भाषा बोल रहे हैं, जो अनुचित है।
 
राम जन्मभूमि आंदोलन में सक्रिय रहे स्वामी परमहंस ने कटियार की बातों का समर्थन करते हुए कहा कि उनका बयान सभी रामभक्तों का बयान है, क्योंकि अयोध्या के साथ-साथ मथुरा व काशी हमारा अभिन्न हिस्सा है। किसी भी कीमत पर हम इसे छोड़ेंगे नहीं। हम भारतीय संस्कृति को मिटने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि के साथ मथुरा, काशी और तेजो महालय जिसके इतिहास को विकृत कर 'ताजमहल' कहा जाता है, उस पर अपना हक नहीं छोड़ेंगे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख आर्थिक सुस्ती का अब सोने पर भी असर, ग्राहकों ने बनाई दूरी, 32% घटी मांग