किस महीने में ख़रीदें कार, कब करें नौकरी का जुगाड़

शुक्रवार, 28 दिसंबर 2018 (11:35 IST)
- अमांडा रगेरी और मिरियम क्विक (बीबीसी फ़्यूचर)
 
नया साल शुरू होते ही हम में से बहुत से लोग अपनी ज़िंदग़ी को नए सिरे से देखने लगते हैं। भविष्य को लेकर नई कल्पनाएं गढ़ने लगते हैं। पश्चिमी देशों में लोग अक्सर मई-जून में इम्तिहान देते हैं और गर्मियों के दिनों में शादियां करते हैं। इसके अलावा नया घर ख़रीदना हो या नई नौकरी के लिए अर्ज़ी लगानी हो, ये काम हम पूरे साल करते हैं। पर क्या, इन कामों को कुछ ख़ास महीनों में करने से बेहतर नतीजे मिल सकते हैं?
 
 
इस सवाल का जवाब 'हां' है।... यूं तो आप पूरे साल, इस तरह के रिसर्च के आधार पर नहीं चल सकते हैं। लेकिन, जब भी मुमकिन हो, ऐसा करके देख सकते हैं। तमाम रिसर्च की बुनियाद पर कहा जा सकता है कि इससे नतीजे बेहतर ही आएंगे। आप अपने पूरे साल का कैलेंडर कुछ इस तरह से तैयार कर सकते हैं:-
 
 
नौकरी की अर्ज़ी के लिए सर्वोत्तम
जनवरी- नौकरी के लिए अर्ज़ी देने का सबसे अच्छा महीना है। गूगल में नई नौकरी की तलाश जनवरी के महीने में सबसे ज़्यादा होती है। लेकिन, जो लोग ये तलाश करते हैं, उनमें से बहुत कम ही ऐसे होते हैं, जो जनवरी में नई नौकरी के लिए अप्लाई करें।
 
 
तो, ये आप के लिए बेहतरीन मौक़ा हो सकता है, जब आप नौकरी की अर्ज़ी लगाएं। जनवरी से जून के बीच में जुलाई से सितंबर के मुक़ाबले 14 प्रतिशत कम अर्ज़ियां आती हैं। ब्रिटेन में ज़्यादातर लोग ग्रेजुएशन गर्मियों में पूरा करते हैं। नतीजा ये होता है कि उस दौरान नौकरी तलाशने वालों की भीड़ ज़्यादा होती है।
 
 
जनवरी का महीना नई नौकरी ढूंढने के लिए और वजहों से भी अच्छा होता है। ये मौक़ा होता है, जब कम लोग छुट्टियों पर जाते हैं। यानी इस दौरान नौकरी का फ़ैसला लेने वाले ज़्यादातर लोग दफ़्तर में ही होते हैं। इसी दौरान कंपनियों को नई नौकरी के लिए बजट मिलते हैं। अक्सर कंपनियां सालाना बोनस दिसंबर में देती हैं, तो बहुत से लोग नौकरी बदलने के लिए जनवरी का इंतज़ार करते हैं। यानी इस दौरान नौकरियों की उपलब्धता भी ज़्यादा होती है।
 
 
बीमा लेने के लिए बेहतरीन
ब्रिटेन में औसतन कार के बीमे का प्रीमियम दिसंबर में सबसे ज़्यादा होता है। फिर जनवरी महीने में कार के इंश्योरेंस का प्रीमियम कम हो जाता है। रिसर्च से साबित हुआ है कि जो लोग दिसंबर में कार का बीमा कराते हैं, वो फरवरी के मुक़ाबले 15 प्रतिशत ज़्यादा प्रीमियम भरते हैं।
 
 
वजह साफ़ है। दिसंबर में छुट्टियों के लिए लोग घरों से निकलते हैं। गाड़ियों और ड्राइवरों की तादाद ज़्यादा होती है। ठंड के दिन होने की वजह से इस दौरान जाम और हादसे भी ज़्यादा होते हैं। वहीं, कॉल सेंटरों में कम ही लोग होते हैं। नतीजा ये कि बीमा का कवर कराना महंगा पड़ता है।
 
 
एक बात हमेशा ध्यान रखें
बीमा किसी भी महीने में लें। कार का बीमा ख़त्म होने के तीन हफ़्ते पहले ही इसे रिन्यू कराना सबसे अच्छा होता है। इससे ये संदेश जाता है कि आप बीमा को लेकर संजीदा हैं। आप बहुत अनुशासन में काम करते हैं। आख़िरी मौक़े पर बीमा कराने का मतलब ये निकाला जाता है कि आप लापरवाह हैं।
 
 
शादी के लिए सबसे अच्छा महीना
अमेरिका में शादी करने के लिए ज़्यादातर लोग पतझड़ को तरज़ीह देते हैं। इसका मतलब ये है कि उस दौरान शादी से जुड़ी चीज़ें महंगी हो जाती हैं। उत्तरी गोलार्ध के देशों में अगर आप ऑफ़ सीज़न में शादी करते हैं, तो ये आप के लिए फ़ायदे का सौदा हो सकता है। क्योंकि उस दौरान शादी से जुड़ी चीज़ों की क़ीमतें कम रहती हैं। ख़ास तौर से जनवरी, फ़रवरी और मार्च में।
 
 
ऑस्ट्रेलिया में शादियों का पीक सीज़न नवंबर का महीना होता है, तो, वहां जून में शादी करना सस्ता पड़ता है। अमेरिका में तो एक रिसर्च ये दावा करती है कि जो लोग कम ख़र्च में शादियां करते हैं उनकी शादी ज़्यादा दिनों तक चलती है।
 
गर्भ धारण के लिए मुफ़ीद
अप्रैल का महीना बच्चे के लिए कोशिश करने का सबसे अच्छा माह माना जाता है। गर्भ धारण के लिए शुक्राणुओं का सेहतमंद होना सबसे अहम शर्त है। बहुत से तजुर्बों में पाया गया है कि ऐसा बसंत के दिनों में ख़ूब होता है। अमेरिका से लेकर स्विटज़रलैंड तक के रिसर्च से ये बात साफ़ हो चुकी है कि बसंत ऋतु सेहतयाब शुक्राणुओं के उत्पादन के लिए सबसे मुफ़ीद होती है।
 
 
बड़े फ़ैसले लेने वाला महीना
हालांकि आम तौर पर लोग नए साल की शुरुआत में अपनी ज़िंदगी को नई नज़र से देखते हैं। लेकिन, अगर रिसर्च के नज़रिए से देखें, तो ये बड़े फ़ैसले लेने का सही मौक़ा नहीं है। इसकी वजह ये है कि सर्दियों में अक्सर हमारा मूड अच्छा नहीं होता। बहुत से लोग सर्दियों में डिप्रेशन के शिकार होते हैं। ऐसे मूड में फ़ैसला लेना ठीक नहीं होता। हालांकि इस दौरान हम जोखिम का हिसाब-किताब ज़्यादा गंभीरता से लगाते हैं। फिर भी, कोई बड़ा फ़ैसला लेने में सिर्फ़ जोख़िम ही अहम नहीं होता।
 
 
डिप्रेशन के शिकार लोग अक्सर कई विकल्प भूल जाते हैं। ये ऐसे विकल्प होते हैं, जो शायद उनके फ़ैसले में सहयोग करें। डिप्रेशन में अनिर्णय की स्थिति भी होती है। विकल्प सीमित नज़र आते हैं। तो, अच्छा ये होता है कि हम लंबे दिनों का इंतज़ार करें। और मई महीना इसके लिए सबसे ठीक होता है।
 
 
इलाज का सबसे सही महीना
वैसे तो कभी भी बीमार होना अच्छी बात नहीं है। लेकिन, कुछ महीनों में बीमार होना बहुत ही ख़राब हो जाता है। ठंड के दिनों में बीमार होना तो और भी तकलीफ़देह हो जाता है। गर्मियों के दिनों में नए डॉक्टर नौकरी पर आते हैं। इन नातजुर्बेकार डॉक्टरों से भला कौन इलाज कराना चाहेगा?
 
 
अमेरिका से ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन तक हुई रिसर्च के बाद लोग इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि अगर आप को अस्पताल जाने का समय चुनने का मौक़ा मिले, तो जून का महीना सबसे ठीक रहेगा।
 
 
इम्तिहान के लिए मुफ़ीद
इम्तिहान कब होंगे, ये इम्तिहान लेने वाला तय करता है। लेकिन, अगर हमें विकल्प दिया जाए, तो इसके लिए जुलाई का महीना सबसे ठीक रहता है। इस दौरान याददाश्त बेहतर होती है। लोग फ़ोकस कर पाते हैं। हालांकि नॉर्वे में हुई एक रिसर्च ये कहती है कि साल का कोई भी समय हो, उसका याददाश्त से कोई ताल्लुक़ नहीं। लेकिन, अगर मौक़ा लगे तो जुलाई में ही इम्तिहान दें। नतीजे बेहतर आने की ज़्यादा उम्मीद होती है।
 
 
घर ख़रीदने का सबसे सही महीना
अमेरिका में लोग बसंत के दिनों में ज़्यादा घर ख़रीदते हैं। शायद अच्छे मौसम का असर होता है। अप्रैल, मई और जून में मकानों की उपलब्धता ज़्यादा होती है। इस दौरान आप को ज़्यादा विकल्प मिलते हैं। अप्रैल के महीने में ख़रीदारों की भरमार होती है। मकान महंगे बिकते हैं।
 
 
अमेरिका में सबसे सस्ते मकान जनवरी-फ़रवरी में मिलते हैं। उस वक़्त वो औसत क़ीमत से 8।5 फ़ीसदी तक सस्ते मिलते हैं। तो, कुल मिलाकर हमारा तजुर्बा कहता है कि अगस्त और सितंबर में मकान ख़रीदने की सोचें, तो ब्रिटेन और अमेरिका में आप इस सौदे में फ़ायदे में रहेंगे।
 
 
बच्चे के जन्म के लिए सबसे सटीक महीना
हम कब पैदा होंगे, इसका चुनाव हम तो नहीं ही कर सकते। लेकिन, अगर आप अपने बच्चे की प्लानिंग को बड़ी बारीकी से करते हैं, तो आप के लिए ये जानना ज़रूरी है कि सितंबर में हुए बच्चे इम्तिहान में बेहतर रिज़ल्ट लाते हैं। यूं तो बसंत में गर्भधारण करना सबसे अच्छा होता है। मगर, बच्चे पैदा करने का सबसे सही महीना सितंबर है।
 
 
उनकी ज्ञान अर्जन की क्षमता और याददाश्त बेहतर होती है। उन्हें लोग आसानी से धमका नहीं पाते। सितंबर में पैदा हुए बच्चे बड़े संस्थानों में पढ़ाई करते हैं। अमेरिका में 100 साल से ज़्यादा जीने वाले लोगों पर हुई रिसर्च में पता चला कि जो लोग सितंबर में पैदा हुए थे, उनका 100 साल जीने का औसत ज़्यादा था।
 
 
शेयर ख़रीदने का महीना
पश्चिमी देशों में कहावत है कि मई में शेयर बेचिए और निकल जाइए। मान्यता है कि गर्मियों में शेयरों का हाल ठीक नहीं होता। यानी आप को बसंत में अपने शेयर बेचने की कोशिश करनी चाहिए। और पतझड़ आने से पहले शेयर ख़रीदने के मौक़े देखने चाहिए। क्योंकि इसके बाद शेयरों की क़ीमत में इज़ाफ़ा होने लगता है।
 
 
साल के आख़िरी महीनों में निवेशक, नए साल की प्लानिंग करने लगते हैं। यही वजह है कि गर्मी के दिनों में उनका उत्साह कम हो जाता है और शेयरों के भाव गिर जाते हैं। वैसे तो शेयर बाज़ार में जनवरी का अपना असर होता है और गर्मियों के दिनों का अलग प्रभाव दिखता है। आख़िर में हम ये कहना चाहेंगे कि हम ये बातें निवेश की सलाह के तौर पर नहीं कह रहे हैं।
 
 
पासपोर्ट की अर्ज़ी का महीना
जब पासपोर्ट का रिन्युअल बहुत ज़्यादा होता है, तो उस वक़्त नए पासपोर्ट के लिए अर्ज़ी देना घाटे का सौदा होता है। अमेरिका और ब्रिटेन में हुई रिसर्च बताती है कि अगस्त से दिसंबर और ख़ास तौर से नवंबर-दिसंबर में बहुत कम लोग देश से बाहर जाने की योजना बनाते हैं। पासपोर्ट की अर्ज़ियां जनवरी में बहुत ज़्यादा आती हैं।
 
कार ख़रीदने के लिए बेहतरीन महीना
अमेरिका में मार्च और मई में गाड़ियों की बिक्री सबसे ज़्यादा होती है। लेकिन, 2009 से दिसंबर में गाड़ियों की सबसे ज़्यादा फ़रोख़्त होती देखी जा रही है। इसकी वजह ये होती है कि साल के आख़िर में कार कंपनियां कई तरह के डिस्काउंट देती हैं। क्लियरेंस सेल करती हैं। साल के आख़िर में सेल्स का टारगेट भी पूरा करना होता है। तो, दिसंबर में कारों पर सबसे ज़्यादा डिस्काउंट मिलता है। आम तौर पर दिसंबर में कारें 6 फ़ीसदी तक सस्ती हो जाती हैं।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

अगला लेख कर्ज़ माफ़ीः इलाज है या बस पेन किलर? : ग्राउंड रिपोर्ट