एक कश्मीरी लड़की की 5 दिन की डायरी

मंगलवार, 13 अगस्त 2019 (16:38 IST)
मिसबाह रेशी (छात्रा, दिल्ली विश्वविद्यालय)
 
फ़ेक न्यूज़ की ताक़त और उसके प्रसार का अंदाज़ा तभी होता है, जब आप संघर्ष वाले इलाक़े में हों, जहां हिंसा और विश्वासघात दोनों हो रहे हों, तब आपको किसी सूचना के सही होने पर भी विश्वास नहीं होता।
 
शुक्रवार से सोमवार शाम तक हम अलग-अलग लोगों से कश्मीर में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किए जाने और यात्रियों व ग़ैर-कश्मीरियों से कश्मीर छोड़ने की अपील की अलग-अलग वजहें सुन रहे थे, लेकिन हमें कोई जानकारी नहीं थी।
 
कुछ लोग यह कह रहे थे कि राज्य को 3 हिस्सों में बांटा जा सकता है। कश्मीर को केंद्र प्रशासित प्रदेश बनाया जा सकता है, जम्मू को राज्य का दर्जा दिया जा सकता है, अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाया जा सकता है। यह भी अफ़वाह थी कि यासिन मलिक की मौत हो चुकी है। हर कोई अपनी बात पर शर्त लगा रहा था।
 
सोमवार को कर्फ्यू लगने की अफ़वाह थी और डर था कि इस बार कर्फ्यू सख़्त और लंबे समय तक रहने वाला है। मैं लाल बाज़ार से अपने घर नाड कडाल के लिए निकली। सड़क पर कोई जल्दबाज़ी में भागता हुआ दिखा। एटीएम के सामने लंबी क़तारें थीं, राशन की दुकानों के सामने दसियों कार खड़ी हो रही थीं। पेट्रोल पंप सूखे थे, क्योंकि शुक्रवार की रात में लोगों की भीड़ ने उसे ख़ाली कर दिया था।
 
एक पेट्रोल पंप पर मेरे कज़न को कहा गया कि पेट्रोल तो है लेकिन उन्हें निर्देश मिला हुआ है कि आम लोगों को नहीं देकर इसे सीआरपीएफ और पुलिस के लिए रिज़र्व रखा जाए।
 
मेरे कज़न की परीक्षा 6 अगस्त को थी, वह पढ़ाई में व्यस्त था तभी देर शाम उसे सूचना मिली कि कश्मीर यूनिवर्सिटी ने अपनी लंबित परीक्षाओं को रद्द कर दिया है। मैंने अपने एक दोस्त को रात 10.30 बजे एक एसएमएस भेजा लेकिन वह डिलीवर नहीं हुआ।
 
मेरा इंटरनेट उस वक्त भी काम कर रहा था इसलिए मैंने ये नहीं सोचा कि कम्प्लीट शटडाउन हो चुका है। मेरे माता-पिता दिल्ली में थे। मैंने अपनी मां को टेक्स्ट मैसेज भेजा और सो गई।
 
सोमवार
 
मैं सोमवार को जब उठी तब किचन में अजीब सन्नाटा पसरा हुआ था। अमूमन सुबह में यहां गुलिस्तां चैनल पर आने वाले सुबह के कार्यक्रम से मेरे दिन की शुरुआत होती थी लेकिन सोमवार को हर कोई चुपचाप बैठकर नाश्ता कर रहा था।
 
मुझे किसी ने बताया कि हमारे घर के बाहर सुबह 4 बजे से सेना के जवान तैनात हैं। टीवी, लैंडलाइन और मोबाइल फोन कुछ भी काम नहीं कर रहा था। कर्फ्यू के ज्यादातर मौकों पर बीएसएनएल के लैंडलाइन फोन काम करते रहे थे लेकिन इस बार उसे भी बंद कर दिया गया था।
हमें खाने की चिंता हो रही थी। दुकानें बंद थीं और कोई भी दुकानदार दिखाई नहीं दे रहा था। मेरे अंकल सब्जी लेने के लिए बाहर गए लेकिन उन्हें सेना के जवानों ने रोक लिया और कहा कि वे अपने जोखिम पर बाहर निकल रहे हैं।
 
वे खाली हाथ घर लौट आए, क्योंकि उन्हें डर था कि लंबी दूरी तक चलना पड़ सकता है और एक दुकानदार को उन्होंने देखा भी, जो अपनी सारी सब्जी बेच चुका था। लेकिन ख़ुशकिस्मती ये रही कि आंटी ने कुछ दूसरे इंतजाम कर लिए।
 
वे गर्व से बता रही थीं कि इसी साल फ़रवरी में जब भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ा तब उन्होंने किस तरह की तैयारी की हुई थी। उन्होंने मुझे बताया कि मैंने 2 महीनों का राशन और दूसरी ज़रूरी चीज़ें जुटाकर रख ली थीं। कुछ उसी तत्परता से उन्होंने सप्ताह के अंत में ख़रीदारी की थी।
 
कश्मीर के लिए क्या कुछ होना है, इसके बारे में कुछ पता नहीं चल रहा था। क्या हो सकता है, इसके बारे में पता तब चला, जब घर के पुरुष मस्जिद से नमाज पढ़कर लौटे। दोपहर बाद से अनुच्छेद 370 को ख़त्म किए जाने की बात घर में पहुंच चुकी थी, अंकल ने बताया कि मस्जिद में उन्होंने किसी से ऐसा सुना है।
 
हम सबने इसे एक और अफ़वाह मानकर ख़ारिज कर दिया था। मैंने अपने कज़न को बताया भी कि बिना राज्य सरकार के चुनाव से पहले और वह भी तब जब मामला अदालत में है, वे इसे कैसे ख़त्म कर सकते हैं?
 
ख़ुद का ध्यान बंटाने के लिए मेरे लैपटॉप में लोगों ने सिनेमा देखा। शाम के वक्त हमने सुना कि कुछ चैनलों को प्रसारण करने की इजाज़त दी गई है। हमने देखा कि केवल दूरदर्शन के चैनलों पर कार्यक्रम आ रहे थे, बाक़ी सभी बंद थे।
 
जब हमने समाचार देखा, तब हमें मालूम हुआ कि राज्यसभा ने जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल को पारित किया है। कश्मीर और जम्मू अब केंद्र शासित प्रदेश हो चुका था, लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था। अनुच्छेद 370 और 35ए को ख़त्म किया जा चुका था।
 
आने वाले दिनों में यहां क्या कुछ होने वाला है, इसके बारे में सोचते हुए मेरी आंखें डबडबा आईं। अगले 15 मिनट तक हम लोग एकदम शून्य में बैठे रहे।
 
मेरे छोटे कज़न की उम्र 6 और 9 साल है, वे ऊबने लगे थे लिहाजा घर से लगे बगीचे में हम लोग खेलने गए। हमने 'आइस वॉटर' का खेल शुरू ही किया था कि आंसू गैस से हमारा बगीचा भर गया। मेरे छोटे कज़न खांसने लगे, लेकिन खेल छोड़ना नहीं चाहते थे। मुझे उन लोगों को जबरदस्ती घर के अंदर बंद करना पड़ा ताकि हम लोग आंसू गैस से उबर पाएं।
 
मंगलवार
 
मेरे पास दिल्ली लौटने के लिए गुरुवार का टिकट था, हमारी चिंता यह भी थी कि एयरपोर्ट तक सुरक्षित पहुंचना संभव होगा? हमने योजना बनाई कि अंकल के घर से बुधवार को सुबह निकलकर एयरपोर्ट के नजदीक तक पहुंचा जाए।
 
मंगलवार दोपहर तक सभी टीवी चैनलों को प्रसारण की अनुमति मिल गई थी। लेकिन हम टीवी चैनलों पर आ रहीं ख़बरों को सहन नहीं कर पाए, क्योंकि उसमें जश्न की तस्वीरें दिखाई जा रही थीं और हम यहां अपने घरों में बंद थे, किसी से हमारा संपर्क नहीं था। हमारे भविष्य पर असर डालने वाले सरकार के फ़ैसले के ख़िलाफ़ असहमति और ग़ुस्सा दिखाना भी संभव नहीं था।
 
मंगलवार की शाम को एक बार फिर हमारा घर आंसू गैस से भर गया। हमारे घर एक रिश्तेदार आए और उन्होंने बताया कि वे अपना घर छोड़कर एक दूरदराज के घर में जा रहे हैं, क्योंकि श्रीनगर के उनके घर के बाहर ख़ूब पत्थरबाज़ी हो रही है और आंसू गैस से उनके बच्चे काफ़ी डरे हुए हैं। उनके बच्चे इस बात के लिए ज़ोर दे रहे थे कि वे एक घर के भीतर ही बंद होकर रहें।
 
हमारे घर के ऊपर कई हेलिकॉप्टरों के मंडराने की आवाज़ें आ रही थीं, उनकी आवाज़ और नीचे आंसू गैस ने हमें यकीन दिला दिया था कि हम लोग किसी युद्ध जैसी स्थिति में हैं। लोग ये तो बता रहे थे कि कुछ लड़कों की मौत हो गई है, कुछ ज़ख्मी हुए हैं लेकिन कोई भी किसी भी बात की पुष्टि नहीं कर रहा था।
 
मंगलवार की रात को मेरा कज़न कटरा स्थित अपनी यूनिवर्सिटी से लौटा। उसने बताया कि उसके कॉलेज प्रशासन ने सभी कश्मीरियों को कैंपस छोड़ने को कहा था। उन्हें कहा गया था कि यूनिवर्सिटी कैंपस के अंदर और बाहर उनकी सुरक्षा की गारंटी नहीं ली जा सकती है।
 
उसे अपने घर तक पहुंचने में कुल 24 घंटे लगे। उसने इस दौरान कई पुलिस वालों से व कई जगहों पर मदद मांगी और अपने घर जाने की इजाज़त भी ली। मंगलवार की रात को हम लोग बैठकर सोच रहे थे कि यह सिलसिला कब तक चलेगा?
 
बुधवार
 
मैं सुबह 5 बजे उठ गई और एयरपोर्ट के नजदीक पीरबाग के लिए निकल पड़ी। मैंने आंसुओं के साथ अपनी आंटी को गुडबाई कहा। उन्होंने मुझे दुबई में रह रहे अपने बेटे से बात करने को कहा। वह रविवार की रात को अपने बेटे से फ़ोन पर बात नहीं कर पाने का अफ़सोस जता रही थीं और कह रही थीं कि उन्हें नहीं मालूम कि अब उससे कब बात होगी? उनके बेटे तक संदेश पहुंचाने की मैं इकलौती माध्यम थी।
 
बाहर सड़कें बंद थीं, बैरिकेड और कांटेदार तार लगे हुए थे। हमने एक छोटी सी जगह तलाशी, जहां से कार निकल सकी, सुबह-सुबह का वक्त था तो किसी ने हमें रोका नहीं। पीरबाग पहुंचकर हमने देखा कि वहां भी काफी बैरिकेड लगे हुए हैं, छोटी गलियों में भी जाने पर पाबंदी थी।
 
देर शाम में मेरी आंटी आईं और उन्होंने बताया कि उनके कज़न के बच्चे को आंसू गैस के धुएं से इंफेक्शन हो गया है, वे दवा लाने के लिए नहीं जा पा रहे हैं, क्योंकि उनकी कार में पेट्रोल नहीं है और कर्फ्यू के चलते कोई सार्वजनिक वाहन भी उपलब्ध नहीं हो पाया।
 
गुरुवार
 
दिल्ली के लिए निकलना बेहद मुश्किल था। अपने माता-पिता से बीते 4 दिनों में मेरी कोई बात नहीं हो पाई थी। मैं जानती थी कि वे भी बेहद परेशान हो रहे होंगे लेकिन कश्मीर में मौजूद अपने परिवार को कैसे गुडबाई कहूं, ये समझ नहीं आ रहा था। वे जिन परिस्थितियों में थे, उन्हें उस हाल में कैसे छोड़ देती और सामान्य ज़िदगी की तरफ आ जाती?
 
लेकिन मैं एक जिम्मेदारी के साथ वहां से निकली कि दिल्ली पहुंचकर सभी कजिन से संपर्क करके उन्हें बताऊंगी कि मैं उनके माता-पिता से मिलकर लौटी हूं और वे सुरक्षित हैं।
 
मैं उन्हें ये भी बताऊंगी कि उनके घर में ढेर सारा राशन-पानी मौजूद है और उन्होंने दवाइयां भी ख़रीदकर रखी हुई हैं। हम इस पर भी बात करेंगे कि किस निराशा और बेबसी के बीच ईद मनाई गई और यह सोच हमारे भविष्य को कैसे लंबे समय तक प्रभावित करेगी?

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

अगला लेख श्रीलंका : मुसलमानों की दुकान से सामान नहीं ले रहे लोग