Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Winter Hair care Tips : ठंड में रूसी होगी जड़ से खत्म, जानें ये 5 आसान घरेलू उपचार

हमें फॉलो करें webdunia
सर्दी के मौसम में त्वचा पर तो रूखापन आ ही जाता है। साथ ही स्कैल्प पर यह समस्या होने लग जाती है। जिससे बाल डैमेज होने लगते हैं। हेयरफॉल बढ़ जाता है। इतना ही नहीं कई लोगों के बाल सफेद होने लग जाते हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अगर आपके बालों में रूसी होगी तो आपके चेहरे पर उसका प्रभाव दिखता है। इतना ही नहीं फोरहेड पर फुंसी होने लगती है। तो आइए जानते हैं किस तरह से रूसी से छुटकारा पाएं।

आइए, जानते हैं सर्दी के मौसम में रूसी की समस्या से छुटकारा पाने के उपाय -

1. बालों को स्वस्थ रखने और समस्याओं से बचने के लिए तेल की मसाज बेहद आवश्यक है। बालों में तेल न लगाने के कारण त्वचा रूखी होती है, जिससे रूसी की समस्या होती है। इससे बचने के लिए आप नारियल तेल, बादाम तेल या फिर जैतून के तेल की मालिश कर सकते हैं। मालिश के लिए हल्के गुनगुने तेल का इस्तेमाल करना बेहतर होता है।

2. रूसी से निपटने के लिए नींबू के रस में शहद मिलाकर बालों पर लगाने से फायदा होता है। नींबू में प्राकृतिक अम्ल होता है जो रूसी को आसानी से खत्म कर देता है और शहद रूखापन दूर करने में मदद करता है। इसमें किसी तेल को मिलाकर भी सिर की त्वचा पर लगाया जा सकता है।

3. सि‍र की त्वचा से रूखापन हटाने के लिए जैतून का तेल बेहद लाभप्रद होता है। यह आश्चर्यजनक रूप से सूखे और रूसी वाले बालों के लिए फायदेमंद होता है। शहद के साथ भी इसका प्रयोग किया जा सकता है। शहद में संक्रमण विरोधी के साथ सूजन विरोधी गुण भी पाया जाता है।

4. सिरका आपके बालों को रूखेपन से बचाने में मदद करता है और आपके सिर से रूसी की परत हटाता है। इसके लिए सिरके से अपने बालों पर मालिश करें और 15 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद शैंपू से बालों को धो लें, रूखापन कम हो जाएगा।  

5. दही में भी प्राकृतिक रूप से अम्ल होता है, जो रूसी को खत्म कर रूखापन खत्म करने में मदद करता है। इसके लिए दही में बेसन या शहद को मिलाकर अपने सिर की त्वचा पर आधा घंटा लगाकर रखें और शैंपू से धो लें। दही के साथ अंडे का सफेद हिस्सा भी बालों में लगाया जाता है। इस प्रयोग से रूसी की समस्या समाप्त हो जाएगी।
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

जिसकी कहानि‍यों में सिहरन थी, घुटन थी उस लेखक का नाम था ‘सआदत हसन मंटो’