हिंदी सिनेमा में बॉक्स ऑफिस पर नए शिखर छूने वाली टॉप फिल्में

बॉलीवुड फिल्मों के बॉक्स ऑफिस के आंकड़ों पर कभी भी सौ प्रतिशत यकीन नहीं किया जा सकता है। पिछले दस वर्षों से पारदर्शिता आई है, हालांकि अभी भी पूरी तरह से सही आंकड़े प्रस्तुत नहीं किए जाते हैं और कुछ ट्रेड मैग्जीन अपने-अपने हिसाब से फिल्मों के व्यवसाय को पेश करती है। भारत के भीतरी इलाकों के, छोटे शहरों के और कुछ सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों के के कलेक्शन अभी भी नहीं मिल पाते हैं। टैक्स बचाने के लिए सही कलेक्शन नहीं बताए जाते हैं। उपलब्ध आंकड़ों (थिएटर के नेट ग्रॉस कलेक्शन के आधार पर) के जरिये ही विश्लेषण करते हुए आइए चर्चा करते हैं उन फिल्मों की जिन्होंने नए रिकॉर्ड बनाएं और नए शिखर को पहली बार छूआ।

 

किस्मत (1943)

निर्देशक : ज्ञान मुखर्जी

कलाकार : अशोक कुमार, मुमताज शांति, शाह नवाज, डेविड

 
PR

 

किस्मत को भारत की पहली ब्लॉकबस्टर मूवी कहा जा सकता है। खोया-पाया का फॉर्मूला इस फिल्म से पहली बार शुरु हुआ। इस फिल्म में पहली बार मुख्य किरदार ने निगेटिव रोल निभाया। पहली बार एक अविवाहित लड़की को प्रेग्नेंट दिखाया गया। अशोक कुमार इस फिल्म के बाद सुपरस्टार घोषित हो गए। कलकत्ता के एक सिनेमाघर में यह फिल्म लगातार तीन वर्षों तक चली। इस फिल्म ने आज से सत्तर वर्ष पूर्व बॉक्स ऑफिस पर एक करोड़ रुपये (ग्रॉस नेट कलेक्शन) जमा किए। उस समय बेहद कम सिनेमाघर थे और एक करोड़ रुपये की राशि बहुत बड़ी थी। पहली बार किसी हिंदी फिल्म ने एक करोड़ रुपये के आंकड़े को छूआ।

 

छ: वर्ष बाद किस फिल्म ने तोड़ा रिकॉर्ड, पढ़िए अगले पेज पर...

 


बरसात (1949)

निर्देशक : राज कपूर

कलाकार : राज कपूर, नरगिस, प्रेम नाथ, के.एन. सिंह

PR

किस्मत का रिकॉर्ड 6 वर्ष बाद युवा राजकपूर द्वारा निर्देशित फिल्म ‘बरसात’ ने तोड़ा। इस प्रेम कहानी का जादू लोगों के सिर चढ़ कर बोला। जिया बेकरार है, मुझे किसी से प्यार हो गया, पतली कमर है, छोड़ गए बालम, मेरी आंखों में बस गया कोई रे, बरसात में हमसे मिले, जिंदगी में हरदम रोता ही रहा हूं और हवा में उड़ता जाए जैसे गाने गली-गली गूंजे। इस फिल्म का नेट ग्रॉस कलेक्शन एक करोड़ दस लाख रुपये रहा। आर के स्टुडियोज की यह बेहतरीन फिल्मों में गिनी जाती है और इसका संगीत आज भी सुना जाता है।

बरसात का रिकॉर्ड किस फिल्म ने तोड़ा, पढ़िए अगले पेज पर...


आवारा (1951)

निर्देशक : राज कपूर

कलाकार : राज कपूर, ‍नरगिस, पृथ्वीराज कपूर, के.एन. सिंह

PR

दो वर्ष बाद राज कपूर ने अपनी ही फिल्म ‘बरसात’ का रिकॉर्ड तोड़ा। आवारा भारत की बेहतरीन फिल्मों में से एक मानी जाती है। इस फिल्म ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय फिल्मों की पहचान बनाई। रूस में आज भी लोग आवारा हूं गाते हुए मिल जाएंगे। आवारा के बाद राज कपूर के प्रशंसक दुनिया भर में हो गए। प्रतिष्ठित मैगजीन ‘टाइम’ ने ऑल टाइम 100 ग्रेटेस्ट फिल्म्स में आवारा को स्थान दिया और भारत की श्रेष्ठ दस फिल्मों में से एक इसे माना। ‘अच्छे लोगों के यहां अच्छे और बुरे लोगों के यहां बुरे लोग पैदा होते हैं’, फिल्म की कहानी इस वाक्य के इर्दगिर्द घूमती है। आवारा के गानों- आवारा हूं, एक बेवफा से प्यार किया, अब रात गुजरने वाली है, जब से बलम घर आए, घर आया मेरा परदेसी, दम भर जो उधर मुंह फेरे, तेरे बिना आग ये चांदनी, हम तुझसे मोहब्बत करके सनम- की गिनती हिंदी फिल्म संगीत इतिहास के श्रेष्ठ गीतों में होती है। राज कपूर और नरगिस की जोड़ी को बेहद सराहा गया। इस फिल्म की खास बात ये कि लेखक ख्वाजा अहमद अब्बास चाहते थे कि जज का रोल अशोक कुमार और उनके बेटे का रोल दिलीप कुमार निभाए। मेहबूब खान इसे निर्देशित करने वाले थे, लेकिन ऐन वक्त पर अब्बास ने मेहबूब स्टुडियो से अपनी स्क्रिप्ट वापस ली और इसे राज कपूर ने बनाया। 1953 के कान फिल्म समारोह में ये दिखाई गई और वहां पुरस्कार के लिए नामित भी हुई। इस फिल्म का नेट ग्रास कलेक्शन एक करोड़ पच्चीस लाख रुपये रहा।

एक वर्ष बाद ही टूटा आवारा का रिकॉर्ड, कौन सी फिल्म है वो, अगले पेज पर...


आन (1952)

निर्देशक : मेहबूब खान

कलाकार : दिलीप कुमार, निम्मी, प्रेमनाथ, नादिरा

PR

एक राज परिवार की कहानी ‘आन’ दर्शकों को बेहद पसंद आई, जिसे मेहबूब खान ने अपने अंदाज में प्रस्तुत किया। नादिरा वाला रोल नरगिस करने वाली थीं, लेकिन उनके ना कहने पर नादिरा को लिया गया। संभव है कि नरगिस ने राज कपूर की ‘आवारा’ को प्राथमिकता दी हो। 50 के दशक में हर फिल्म में मधुर गाने हुआ करते थे, इसलिए आन में भी नौशाद द्वारा संगीत बद्ध कुछ बेहतरीन गीत- मान मेरा एहसान, दिल में छुपाके प्यार का, मैं रानी हूं राजा की सुनने को मिले। बॉक्स ऑफिस पर आवारा का रिकॉर्ड इस फिल्म ने एक वर्ष में ही अच्छे-खासे मार्जिन के साथ तोड़ा। इस फिल्म ने डेढ़ करोड़ रुपये कलेक्ट किए और बॉलीवुड की सफल फिल्मों की लिस्ट में अपना नाम दर्ज कराया।

आन का रिकॉर्ड राज कपूर की किस फिल्म ने तोड़ा, पढ़िए अगले पन्ने पर


श्री 420 (1955)

निर्देशक : राज कपूर

कलाकार : राज कपूर, नरगिस, नादिरा

PR

राज कपूर को यूं ही शो-मैन नहीं कहा जाता है। उनकी हर फिल्म न केवल फिल्म समीक्षकों को बल्कि आम आदमी को भी पसंद आती थी। लिहाजा उनकी ज्यादातर फिल्मों ने सफलता की नई इबारत लिखी। आन का रिकॉर्ड इस फिल्म ने तीन वर्ष बाद तोड़ दिया। इस फिल्म ने दो करोड़ रुपये के आंकड़े को छूआ। उस समय एक अमेरिकन डॉलर की कीमत चार रुपये अस्सी पैसे थी। उस हिसाब से श्री 420 के कलेक्शन आज के हिसाब से जोड़ लीजिए। श्री 420 की कहानी एक छोटे शहर से आए बम्बई आए लड़के राज की कहानी है। पढ़ा-लिखा और अनाथ राज बंबई अपने सपनों को पूरा करने के लिए आता है और महानगर की जीवनशैली से उसका सामना होता है। राज कपूर की तमाम फिल्मों की तरह इसका गीत-संगीत भी कानों को सुकून देने वाला है। दिल का हाल सुने दिलवाला, मेरा जूता है जापानी, मुड़ मुड़ के ना देख, प्यार हुआ इकरार हुआ, रमैया वास्तावैया की मधुरता आज भी कायम है। राज कपूर के निर्देशन में बनी ये श्रेष्ठ फिल्मों में से एक है।

दो वर्ष बाद किसने तोड़ा श्री 420 का रिकॉर्ड, पढ़िए अगले पेज पर...


मदर इंडिया (1957)

निर्देशक : मेहबूब खान

कलाकार : नरगिस, सुनील दत्त, राजेन्द्र कुमार, राजकुमार

PR

मदर इंडिया ने सफलता का नया इतिहास लिखते हुए आवारा से दो करोड़ रुपये ज्यादा यानी कि चार करोड़ रुपये जमा किए। यह एक ऐसी महिला की कहानी है जो अपने पति के चले जाने के बाद अपने बच्चों की परवरिश कर उन्हें बढ़ा करती है और सच्चाई के लिए अपने बेटे को गोली मारने से भी नहीं हिचकती। यह त्याग, नैतिकता और आदर्शों की कहानी है। नरगिस ने इस फिल्म में अविस्मरणीय भूमिका निभाई। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान सुनील दत्त ने उन्हें आग से बचाया और इसके बाद नरगिस ने सुनील दत्त से शादी की। भारत की महानतम फिल्मों में से एक मानी जाने वाली मदर इंडिया को भव्य पैमाने पर बनाने में निर्देशक मेहबूब खान ने कोई कसर नहीं छोड़ी। इस फिल्म का कितना क्रेज था इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि राष्ट्रपति भवन में रिलीज के पहले स्पेशल स्क्रीनिंग की गई जिसमें कई प्रमुख नेताओं ने फिल्म देखी। इस फिल्म को कई भाषाओं में डब कर विदेश में भी रिलीज किया गया। यह फिल्म भारत से ऑस्कर के लिए भी भेजी गई। रिपीट रन में भी इस फिल्म ने नए रिकॉर्ड बनाए। नौशाद ने नगरी-नगरी द्वारे-द्वारे, दुनिया में हम आए हैं तो, ओ गाड़ीवाले, दुख भरे दिन बीते रे भैया, होली आई रे कन्हाई, ना मैं भगवान हूं जैसे मधुर गीत संगीतबद्ध किए।

तीन वर्ष बाद टूटा मदर इंडिया का रिकॉर्ड, पढ़िए अगले पेज पर...


मुगल-ए-आजम (1960)

निर्देशक : के.आसिफ

कलाकार : दिलीप कुमार, मधुबाला, पृथ्वीराज कपूर, दुर्गा खोटे

PR

मुगल प्रिंस सलीम और अनारकली की प्रेम कहानी को के. आसिफ प्रेम की चाशनी में डूबो कर इस तरह पेश किया कि यह फिल्म भारत की महानतम फिल्मों में शामिल हो गई। के. आफिस ने इसे पूरी तल्लीनता के साथ बनाया और किसी भी किस्म का समझौता नहीं किया। अभिनय, निर्देशन, सिनेमाटोग्राफी, संगीत, गायन हर विधा में यह फिल्म भव्य है। छोटी-छोटी सी चीजों पर ध्यान दिया गया है। प्यार किया तो डरना क्या गाने के लिए बेल्जियम ग्लास से शीश महल बनवाया गया। इस सेट को बनाने में दो वर्ष और पन्द्रह लाख रुपये लगे। उस समय पन्द्रह लाख रुपये में एक फिल्म बन जाती थी। कलाकारों की ड्रेस डिजाइन, जूते, ज्वैलरी में भी लाखों रुपये खर्च किए गए। युद्ध के लिए दो हजार ऊंट, 400 घोड़ों और 8000 हजार जूनियर आर्टिस्टों का प्रयोग किया गया। मुगले आजम को लेकर इतने किस्से हैं कि एक किताब लिखी जा सकती है। दिलीप कुमार और मधुबाला की केमिस्ट्री ऐसी लगती है मानों वे युगों-युगों के प्रेमी हों। मुगले आजम के कारण पृथ्वीराज कपूर को आज भी लोग भूले नहीं हैं। फिल्म के संवाद अद्भु त हैं। मोहे पनघट पे, प्यार किया तो डरना क्या, मोहब्बत की झूठी, तेरी महफिल में, ऐ मोहब्बत जिंदाबाद जैसे गानों से सजी इस फिल्म ने साढ़े पांच करोड़ रुपये का नेट ग्रॉस कलेक्शन किया और यह रिकॉर्ड पन्द्रह वर्ष बाद ही टूट पाया। 2004 में मुगले आजम का रंगीन वर्जन रिलीज किया गया था।

पन्द्रह वर्ष बाद किसने तोड़ा मुगल-ए-आजम का रिकॉर्ड, पढ़िए अगले पेज पर...


शोले (1975)

निर्देशक : रमेश सिप्पी

कलाकार : धर्मेन्द्र, अमिताभ बच्चन, संजीव कुमार, हेमा मालिनी, जया बच्चन, अमजद खान

PR

मुगले आजम का रिकॉर्ड टूटने में पन्द्रह वर्ष लग गए, लेकिन शोले ने मुगले आजम के साढ़े पांच करोड़ रुपये का रिकॉर्ड 65 करोड़ रुपये के नेट ग्रास कलेक्शन कर तोड़ा। फिल्म जब रिलीज हुई थी उस समय एक यूएस डॉलर की कीमत 8 रुपये 94 पैसे थी। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि शोले कि सफलता कितनी बड़ी है। जानकार बताते हैं कि यह आंकड़ा इससे भी अधिक बड़ा है। 65 करोड़ रुपये कलेक्ट कर आज भी एक फिल्म हिट बन जाती है और इतना कलेक्शन शोले ने वर्षों पूर्व ही कर लिया था। मुंबई के मिनर्वा सिनेमाघर में यह फिल्म पांच वर्ष तक चली। 60 से ज्यादा सिनेमाघरों में यह फिल्म पचास सप्ताह से ज्यादा और सौ से ‍अधिक सिनेमाघरों में यह पच्चीस सप्ताह से ज्यादा तक चली। फिल्म का एक-एक किरदार, संवाद लोगों को आज भी याद है। इस फिल्म की सफलता, मेकिंग और किस्सों की चर्चा करना यह संभव ही नहीं है। शोले जब रिलीज हुई तो शुरुआती दिनों में इसका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। निर्देशक रमेश सिप्पी तो इसका अंत बदलने की सोच रहे थे, लेकिन कुछ दिनों बाद फिल्म ने ऐसी रफ्तार पकड़ी कि बॉलीवुड की सफलतम फिल्मों में शामिल हो गई। इसका रिकॉर्ड तोड़ने में अगली फिल्म को 19 वर्ष लगे। ये भी तभी संभव हुआ जब टिकट दरों की कीमत में बहुत ज्यादा इजाफा हुआ। अमिताभ, धर्मेन्द्र तो छोड़िए लोगों को मैकमोहन, जगदीप और विजू खोटे द्वारा निभाए गए छोटे से किरदार तक याद है। फिल्म के संवादों के रिकॉर्ड और कैसेट्स की भी खूब बिक्री हुई। बैंगलोर के निकट रामगढ़ का सेट बनाया गया और सेट तक पहुंचने के लिए एक रोड भी बनाई गई। रमेश सिप्पी ने भव्य फिल्म बनाई और जब तक वे संतुष्ट नहीं हुए उन्होंने कई रिटेक्स लिए। शुरुआत में इस फिल्म की फिल्म समीक्षकों ने आलोचना की थी, लेकिन सफलता के बाद तारीफों के पुल बांध दिए। बीबीसी इंडिया ने 1999 में ‘शोले’ को फिल्म ऑफ द मिलेनियम घोषित किया।

19 वर्ष बाद किस फिल्म ने तोड़ा शोले का रिकॉर्ड... पढ़िए अगले पेज पर


हम आपके हैं कौन (1994)

निर्देशक : सूरज बड़जात्या

कलाकार : सलमान खान, माधुरी दीक्षित, मोहनीश बहल, रेणुका शहाणे

PR

1994 में बहुत कम प्रिंट्स और बहुत ज्यादा टिकट दर के साथ राजश्री प्रोडक्शन्स ने ‘हम आपके हैं कौन’ को रिलीज किया। यह इसी बैनर की ‘नदिया के पार’ का रीमेक थी। फिल्म को ऐसा रिस्पांस मिला कि इसके प्रिंट्स की संख्या लगातार बढ़ती चली गई। 206 मिनट की लंबी फिल्म एक फैमिली ड्रामा है जिसे ढेर सारे गानों के साथ पेश किया गया। फिल्म समीक्षकों ने इस फिल्म को शादी का वीडियो कैसेट कह कर खिल्ली उड़ाई थी, लेकिन दर्शकों को यह फिल्म खूब भाई। उस समय एक्शन फिल्मों का दौर था, लेकिन हम आपके हैं कौन में परिवार, आदर्शों, एकता और रिश्तों की बात कही गई और इसकी सफलता चौंकाने वाली थी। राम लक्ष्मण द्वारा संगीत बद्ध किए गए गीत - दीदी तेरा देवर दीवाना, मौसम का जादू, जूते दे दो, पैसे ले लो, पहला-पहला प्यार है युवाओं में बेहद लोकप्रिय हुए। इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 69 करोड़ 75 लाख रुपये का नेट ग्रास कलेक्शन कर शोले का रिकॉर्ड तोड़ा।

पांच साल में टूटा रिकॉर्ड हम आपके हैं कौन का... किसने तोड़ा, पढ़िए अगले पेज पर...


गदर : एक प्रेम कथा (2001)

निर्देशक : अनिल शर्मा

कलाकार : सनी देओल, अमीषा पटेल, अमरीश पुरी

PR

15 जून 2001 का दिन ‍बॉलीवुड के यादगार दिनों में से एक है। इस दिन दो फिल्में, गदर और लगान, रिलीज हुईं और दोनों ने ही कामयाबी के झंडे गाड़े। ये बात और है कि लगान की तुलना में गदर की सफलता कई गुना ज्यादा है। यह बात इस उदाहरण से ही समझी जा सकती है कि लगान का कुछ सर्किट में जो व्यवसाय तीसरे हफ्ते का था वो गदर के दसवे सप्ताह का था। यह एक प्रेम कहानी है जो वर्ष 1947 के आसपास की है। इसमें एक पति अपनी पत्नी को पाकिस्तान से तमाम विपत्तियों से जूझते हुए भारत लाता है। गदर की सफलता ऐतिहासिक है और इस फिल्म को वो श्रेय नहीं मिला जिसकी ये हकदार है। यदि टिकटों की संख्या की बात की जाए तो इससे ज्यादा टिकट अब तक सिर्फ शोले के ही बिके हैं। दबंग और 3 इडियट्स जैसी फिल्में भी इससे बहुत पीछे हैं। नेट ग्रास कलेक्शन की बात की जाए तो इस फिल्म ने हम आपके हैं कौन के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 75 करोड़ 50 लाख रुपये जमा किए। साढे अठारह करोड़ रुपये में बनाई गई इस फिल्म की सफलता चौंकाने वाली है। सनी देओल के करियर की यह सबसे बड़ी हिट फिल्म है। उन्होंने एक मासूम प्रेमी जो अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए सब कुछ दांव पर लगा देता है कि भूमिका में जान फूंक दी। जब परदे पर वे गुस्से का इजहार करते हैं तो ऐसा लगता है कि उनकी सांसों से आग बरस रही हो। उनके द्वारा हैंडपंप उखाड़ने का सीन फिल्म का हाईलाइट सीन है। उड़जा काले कावां, मुसाफिर जाने वाले, मैं निकला गड्डी लेके जैसे गाने बेहद हिट हुए।

किस फिल्म ने तोड़ा गदर का रिकॉर्ड... पढ़िए अगले पेज पर...


धूम 2 (2006)

निर्देशक : संजय गढ़वी

कलाकार : रितिक रोशन, ऐश्वर्या राय, बिपाशा बसु, अभिषेक बच्चन, उदय चोपड़ा

PR

धूम की कामयाबी के बाद इसका सीक्वल धूम 2 बड़े सितारों को लेकर बनाया गया और शानदार लोकेशन पर इसे फिल्माया गया। ये धूम फ्रेंचाइजी का ही कमाल था कि इस फिल्म को जबरदस्त सफलता मिली। रितिक, ऐश्वर्या, बिपाशा जैसे स्टार युवाओं में बेहद लोकप्रिय है, साथ ही इसकी कहानी युवाओं को बेहद अपील करती है, लिहाजा पांच वर्ष बाद नेट ग्रास कलेक्शन के आधार पर इस फिल्म ने गदर का रिकॉर्ड तोड़ा। इस फिल्म ने 80 करोड़ 25 लाख का कलेक्शन किया। बिपाशा का स्कीन शो, रितिक-ऐश्वर्या की जबरदस्त पेयर और उनका लिप-लॉक सीन, तेजी से भागती कहानी, आधुनिक तकनीक का उपयोग इस फिल्म की खासियत है। क्रेजी किया रे, टच मी टच मी गाने बेहद लोकप्रिय हुए।

दो वर्ष बाद टूटा धूम 2 का रिकॉर्ड... किसने तोड़ा, पढ़िए अगले पेज पर...


गजनी (2008)

निर्देशक : ए.आर. मुरुगदास

कलाकार : आमिर खान, असिन, जिया खान, प्रदीप रावत

PR

वर्ष 2005 में रिलीज हुई तमिल फिल्म का रीमेक और क्रिस्टोफर नोलान की मेमेंटो से प्रेरित फिल्म गजनी ने गजब का बिज़नेस किया। आमिर खान ने इस फिल्म के लिए खासतौर पर एट पैक एब्स बनाए और नया लुक अपनाया। यह कहानी है संजय सिंघानिया की, जिसकी प्रेमिका कल्पना को गजनी मार डालता है। एंटेरोग्रेड अम्नेशिया से पीड़ित संजय किस तरह बदला लेता है यह बेहद ही रोमांचक तरीके से फिल्म में दिखाया गया है। जबरदस्त एक्शन, रोमांच, मधुर गाने और संजय-कल्पना के रोमांस ने दर्शकों के दिल को छूआ। गजनी पहली फिल्म बनी जिसने भारत में थिएटर बिजनेस के जरिये सौ करोड़ के आंकड़े को पार किया। आमिर खान ने शानदार अभिनय किया और दर्शकों को यह फिल्म पैसा वसूल लगी। एआर रहमान द्वारा संगीतबद्ध किए गुजारिश, कैसे मुझे, बहका गाने बेहद लोकप्रिय हुए। फिल्म ने 114 करोड़ 67 लाख जमा कर नया रिकॉर्ड बनाया।

गजनी का रिकॉर्ड टूटा एक वर्ष बाद... पढ़िए अगले पेज पर...


थ्री इडियट्स

निर्देशक : राजकुमार हिरानी

कलाकार : आमिर खान, करीना कपूर, आर. माधवन, शरमन जोशी, बोमन ईरानी, ओमी वैद्य

PR

रांचो, फरहान और राजू की कहानी ने दर्शकों का दिल जीत लिया। चेतन भगत के उपन्यास ‘फाइव पाइंट समवन’ से प्रेरित यह फिल्म दर्शाती है कि पैरेंट्स को अपने बच्चों पर किसी किस्म का दबाव न डालते हुए उनकी इच्छानुसार करियर चुनने का विकल्प रखना चाहिए। इस फिल्म को युवा वर्ग ने बेहद पसंद किया। फोर्टी प्लस आमिर ने इसमें कॉलेज स्टुडेंट की भूमिका निभाई। उन्होंने बैडमिंटन खेल कर वजन कम किया और युवा वर्ग के बीच रहकर उनकी बॉडी लैंग्वेज का अध्ययन किया। फिल्म में बहुत हल्के-फुल्के अंदाज में हिरानी ने अपनी बात रखी। इस फिल्म ने सारे कीर्तिमान ध्वस्त किए और इसका नेट ग्रास कलेक्शन 202 करोड़ 57 लाख रुपये तक जा पहुंचा।

चार बाद किसने तोड़ा रिकॉर्ड... अगले पेज पर


चेन्नई एक्सप्रेस (2013)

निर्देशक : रोहित शेट्टी

कलाकार : शाहरुख खान, दीपिका पादुकोण

 
PR

 

रोहित शेट्टी द्वारा निर्देशित इस फिल्म ने पहले शो से ही आय के नए रिकॉर्ड बनाना शुरू किए और बॉक्स ऑफिस पर एक्सप्रेस ट्रेन की तरह दौड़ लगाई। महज चार दिन में सौ करोड़ रुपये के आंकड़े को जब इस फिल्म ने पार कर लिया तो लगने लगा कि यह थ्री इडियट्स का रिकॉर्ड तोड़ देगी और ऐसा हुआ भी। शाहरुख खान ने इस फिल्म में उत्तर भारत के लड़के की तो दीपिका पादुकोण ने दक्षिण भारतीय लड़की की भूमिका निभाई। रोहित शेट्टी ने अपनी स्टाइल में इस रोमांटिक फिल्म को फिल्माया। साफ-सुथरी फिल्म होने के नाते हर उम्र के दर्शक और वर्ग ने यह फिल्म देखी। शाहरुख और रोहित के कॉम्बिनेशन ने ऐसा गजब ढाया कि यह दो सौ करोड़ रुपये का आंकड़ा पार करने वाली दूसरी फिल्म बनी। फिल्म ने 227.13 करोड़ रुपये का कलेक्शन किया। 

ढाई महीने में ही टूटा चेन्नई एक्सप्रेस का रिकॉर्ड... अगले पेज पर


कृष 3 (2013)
निर्देशक : रोहित शेट्टी
कलाकार : रितिक रोशन, प्रियंका चोपड़ा 


राकेश रोशन ने अपनी उस सीरिज को आगे बढ़ाया जो कोई मिल गया से शुरू हुई थी। बच्चों में यह फिल्म बेहद लोकप्रिय है और दिवाली की छुट्टियों में रिलीज होने के कारण फिल्म को फायदा भी मिला। एक बार फिर रोशन्स (राकेश और रितिक) का जादू बॉक्स ऑफिस पर काम कर गया। सुपरहीरो की तरह कृष ने अपना कमाल दिखाया और दुनिया का बचाया। फिल्म में कुछ शानदार स्पेशल इफेक्ट्‍स थे जो देखने लायक थे। चेन्नई एक्सप्रेस से यह फिल्म आगे निकल गई और फिल्म ने 244.92 करोड़ रुपये का आंकड़ा हासिल कर नया कीर्तिमान बनाया। 
डेढ़ महीने में ही टूटा कृष 3 का रिकॉर्ड... अगले पेज पर

धूम 3 (2013)
निर्देशक : विजय कृष्ण आचार्य
कलाकार : आमिर खान, कैटरीना कैफ

धूम 2 की तरह धूम 3 ने भी नया कीर्तिमान बनाया। धूम सीरिज की दो फिल्मों ने इस सूची में स्थान बनाकर एक अनोखा रिकॉर्ड बनाया। विजय कृष्ण आचार्य द्वारा निर्देशित फिल्म में हॉलीवुड फिल्मों की तरह स्टंट्स देखे गए। पहली बार किसी हिंदी फिल्म इस तरह का एक्शन देखने को मिला। आमिर खान ने डबल रोल में बेहतरीन अभिनय किया। बाकी कलाकार उनके सामने बौने साबित हुए। कमर्शियल फॉर्मेट को ध्यान में रखकर बनाई गई धूम 3 ने बॉक्स ऑफिस से 284.27 करोड़ रुपये कलेक्ट कर इतिहास बना दिया। 
साल भर लगा धूम 3 का रिकॉर्ड टूटने में... अगले पेज पर 

पीके (2014)
निर्देशक : राजकुमार हिरानी
कलाकार : आमिर खान, अनुष्का शर्मा


धूम 3 का रिकॉर्ड तोड़ने में सलमान और शाहरुख खान की फिल्में असफल रहीं। धूम 3 से आगे आमिर की फिल्म 'पीके' निकली। ऐसा लगा कि आमिर का मुकाबला खुद आमिर से है। अंधविश्वास और धर्म के नाम पर फैली कुरीतियों के खिलाफ हिरानी ने दमदार फिल्म बनाई। एलियन के एंगल से दुनिया को अलग तरीके से दिखाया गया। फिल्म के पोस्टर में आमिर न्यूड नजर आए और इस पोस्टर ने लोगों में फिल्म के प्रति उत्सुकता पैदा कर दी। फिल्म का विरोध भी हुआ, लेकिन आम लोगों ने फिल्म को कामयाब बनाकर दिखा दिया कि उन्हें फिल्म अच्छी लगी है। फिल्म ने 340.8  करोड़ रुपये का कलेक्शन कर धूम 3 का रिकॉर्ड तोड़ दिया। 
दो वर्ष बाद टूटा पीके का रिकॉर्ड... अगले पेज पर 

दंगल (2016)
निर्देशक : नितेश तिवारी 
कलाकार : आमिर खान, साक्षी तंवर
आमिर खान की आमिर खान से ही प्रतियोगिता है। वे ही हर फिल्म के जरिये अपने कीर्तिमान भंग कर रहे हैं। दंगल पहलवान महावीर फोगाट के जीवन से प्रेरित है। हरियाणा के इस पहलवान के यहां एक के बाद एक लड़कियां पैदा होती है तो वह अपने सपने को दफन कर देता है। वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण पदक जीतने का अपना सपना लड़के के जरिये पूरा करना चाहता है। एक दिन उसे महसूस होता है कि छोरियां भी छोरे से कम नहीं होती हैं और वह तमाम विरोध के बावजूद अपनी लड़की को चैम्पियन पहलवान बनाता है। आमिर खान ने इस फिल्म के लिए  98 किलोग्राम तक वजन बढ़ाया। फिर कम किया। फिल्म में आइटम सांग की बात तो छोड़िए, रोमांस भी नहीं था। कॉमेडी और एक्शन भी नहीं था। ये सब बातें फिल्म की सफलता के लिए अनिवार्य मानी जाती हैं, लेकिन 'दंगल' ने इन बातों को झूठला दिया। फिल्म की स्क्रिप्ट इतनी अच्छी है कि फिल्म में बहाव महसूस होता रहता है। कई फिल्म समीक्षकों ने इसे भारत की सबसे बेहतरीन स्पोर्ट्स फिल्म करार दिया। फिल्म के रिलीज होने के पहले ही उम्मीद थी कि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर धूम मचाएगी और वैसा हुआ भी। फिल्म ने आय के सारे कीर्तिमान ध्वस्त कर दिए। 17 दिनों में यह पिछली सर्वाधिक कलेक्शन करने वाली फिल्म 'पीके' से आगे निकल गई। बीस दिनों में इस फिल्म ने  356.90  करोड़ रुपये का कलेक्शन कर लिया है। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख नाना पाटेकर ने कहा, "मैं उनके सिर और चेहरे तोड़ देता"