Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

स्टिल अबॉउट सेक्शन 377 में 'गे कपल' गांव जा पहुंचता है : अमित खन्ना

webdunia

समय ताम्रकर

इन दिनों वेब सीरिज़ को काफी पसंद किया जा रहा है और इसमें ऐसे विषय देखने को मिल रहे हैं जो कि टीवी या फिल्मों से अछूते रहे हैं। एलजीबीटी कम्यूनिटी पर आधारित 'ऑल अबॉउट सेक्शन 777' नामक वेब सीरिज आई थी अब इसका दूसरा सीज़न 'स्टिल अबॉउट सेक्शन 377' नाम से लेकर निर्देशक अमित खन्ना आ रहे हैं। यह एक ऐसा विषय है जिसके बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है। 
 
पहले भाग में ऐसा क्या बताना रह गया था जो आप दूसरा भाग लेकर आ रहे हैं? पूछने पर अमित बताते हैं 'पहले सीज़न में शहरी लोगों की कहानी दिखाई गई थी। दूसरे सीज़न में भारत के ग्रामीण इलाके की कहानी को दर्शाया गया है। एक शहरी 'गे कपल' गांव जाकर अपने परिवार को इस रिश्ते के लिए राजी करने की कोशिश करता है। गांव में लोगों को 'एलजीबीटी कम्यूनिटी' के बारे में बहुत कम जानकारी है। वे इसे एक बीमारी मानते हैं। दूसरे भाग में फोकस रूरल एरिया पर है।'  

webdunia


अपनी बात आगे बढ़ाते हुए अमित कहते हैं 'इस बार ट्रांसजेंडर ट्रेक भी दिखाया गया है। यह शायद ही पहले किसी वेबसीरिज में दर्शाया गया हो। गांव के ट्रांसजेंडर के प्रति समाज का क्या दृष्टिकोण है इस सीरिज के माध्यम से पेश किया गया है।' 
 
अमित ने सीरिज़ बनाने के पूर्व काफी रिसर्च भी किया है। शहरी और ग्रामीणों की 'एलजीबीटी कम्यूनिटी' के प्रति सोच में क्या अंतर है? इस पर अमित बताते हैं 'शहरी लोग थोड़े-बहुत खुल गए हैं, लेकिन भारत के भीतरी इलाकों के लोग इस बारे में बिलकुल बात नहीं करते। उन्हें जानकारी भी नहीं है। वहां इस समुदाय के लोगों को सब कुछ छिपा कर रखना होता है।' 

webdunia


फिल्मों में एलजीबीटी समुदाय के लोगों का चित्रण अजीब तरीके से होता है। इस बारे में अमित कहते हैं 'आमतौर पर फिल्मों में 'गे' या 'लेस्बियन' को लेकर फूहड़ हास्य रचा जाता है। जब वे स्क्रीन पर आते हैं तो अजीब तरह का संगीत बजता है। इससे बहुत नुकसान पहुंचा है। आश्चर्य की बात तो यह है कि टीवी और फिल्म उद्योग के भी कुछ लोग एलजीबीटी कम्यूनिटी के हैं, लेकिन वे खुद बात को सही तरीके से पेश करने में घबराते हैं।' 
 
आपने बात कहने के लिए फिल्म या टीवी के बजाय वेबसीरिज का माध्यम क्यों चुना? पूछने पर अमित कहते हैं 'यहां बात कहने की भरपूर आजादी है। सेंसर जैसी कोई चीज नहीं है यहां पर। इसीलिए अब यह निर्देशकों का यह प्रिय माध्यम बनता जा रहा है।' 
 
अनूया कुडचा द्वारा निर्मित 'स्टिल अबॉउट सेक्शन 377' में गुंजन मल्होत्रा, गुलशन नैन और अंकित भाटिया ने प्रमुख भूमिकाएं निभाई हैं। 
 
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

यूलिया वंतूर को लांच करेंगे सलमान खान, राधा क्यों गोरी मैं क्यों काला होगी पहली फिल्म