तान्हाजी - द अनसंग वॉरियर : मूवी प्रिव्यू

मंगलवार, 7 जनवरी 2020 (15:31 IST)
बैनर : टी-सीरिज़ सुपर कैसेट्स इंडस्ट्री लि., अजय देवगन फिल्म्स
निर्माता : भूषण कुमार, अजय देवगन, कृष्ण कुमार 
निर्देशक : ओम राउत
संगीत : अजय-अतुल, सचेत-परम्परा
कलाकार : अजय देवगन, काजोल, सैफ अली खान, ल्यूक कैनी, शरद केलकर, पंकज त्रिपाठी 
रिलीज डेट : 10 जनवरी 2020 
 
तान्हाजी मालुसरे 17 वीं शताब्दी के एक नायाब योद्धा थे। युद्ध में अपनी जान गंवाने के बाद भी उनकी वीरता और वीरता के कारनामे युद्ध में सैनिकों को लंबे समय तक प्रेरित करते रहे। 


 
फौलादी शरीर, शेर जैसे निडर और चुस्त दिमाग वाला तान्हाजी, छत्रपति शिवाजी के करीबी सहयोगी और विश्वसनीय थे। अपने राजा और देश के लिए सदैव अपना जीवन दांव पर लगाने के लिए तैयार रहते थे। 


 
मुगल सम्राट औरंगजेब ने पहाड़ी किले कोंडाना को दक्षिणी भारत की राजधानी घोषित किया जहां से उन्होंने दक्षिण भारत में मुगल साम्राज्य का विस्तार करने की योजना बनाई। 


 
मराठा सम्राट छत्रपति शिवाजी महाराज ने अपने सेनापित तान्हाजी को आदेश दिया कि वे किसी भी कीमत पर कोंडाना पर कब्जा कर दक्षिणी भारत को मुगल आक्रमण से बचा सकते हैं। 


 
मुगल सम्राट अपने विश्वसनीय उदय भान को किले की रक्षा के लिए भेजता है। बहादुर तान्हाजी ने कोंडाना किले को वापस पाने के लिए उदयभान के नेतृत्व वाली मुगल सेना के खिलाफ एक सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाई।
 
कोंडाना का किला मराठों का गौरव था। यह किला उदयभान और एक मुगल सेना के नियंत्रण में था। तान्हाजी मुट्ठी भर मराठों के साथ इनसे युद्ध करने गए थे। 
 
यदि मुगलों का बाहुबल था, तो तानाजी की तीक्ष्णता थी। दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि मराठों ने कोंडाना जीता लेकिन उन्होंने अपना शेर खो दिया। तान्हाजी ने ऐसा स्थान छोड़ दिया जो फिर कभी नहीं भर सका। इस लड़ाई को सिंहगढ़ की लड़ाई के रूप में जाना जाता है जिसने दक्षिणी भारत के भाग्य का फैसला किया।
 
तान्हाजी : द अनसंग वॉरियर फिल्म में इस अनसुने योद्धा के जीवन और समय को दर्शाया गया है, जिसकी वीरता आज भी राष्ट्र को गौरवान्वित करती है।
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख JNU हिंसा के विरोध में अनुराग कश्यप ने मोदी-शाह की नकाब वाली फोटो बनाई डीपी, ट्रेंड हुआ #IStandwithAnuragKashyap