Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सीएम केजरीवाल ने उद्योगपतियों को पत्र लिखकर कोविड से मुकाबले में मांगी मदद

webdunia
सोमवार, 26 अप्रैल 2021 (12:51 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को भारत के सबसे प्रमुख उद्योगपतियों को पत्र लिखकर देश में भयावह कोविड-19 का मुकाबला करने में उनकी मदद मांगी है। मुख्यमंत्री ने पत्र में लिखा है कि यदि प्रमुख उद्योगपति, ऑक्सीजन का उपयोग या उत्पादन करने में शामिल हैं और क्रायोजेनिक टैंकरों में ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद कर सकते हैं तो इस समय दिल्ली की मदद करने के लिए वे उनका आभारी रहेंगे। उन्होंने पत्र में लिखा है कि दिल्ली में कोविड मामलों में अभूतपूर्व वृद्धि के कारण हमारी आवश्यकताओं से काफी कम ऑक्सीजन मिल पा रही है। सीएम ने इसे एसओएस के रूप में लेने का अनुरोध किया है।

 
सीएम ने पत्र में लिखा है कि दिल्ली में ऑक्सीजन का उत्पादन नहीं होता है और दिल्ली को मौजूदा समय में ऑक्सीजन की भारी कमी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने आगे लिखा है कि केंद्र सरकार इस संबंध में दिल्ली की मदद कर रही है, लेकिन कोरोना के प्रसार की तीव्रता इतनी गंभीर है कि इसकी मात्रा अपर्याप्त साबित हो रही है।
 
केजरीवाल ने पत्र में लिखा है कि जैसा कि आप जानते हैं कि दिल्ली में ऑक्सीजन की भारी कमी है। दिल्ली में ऑक्सीजन का उत्पादन नहीं होता है। पिछले कुछ दिनों में कोविड मामलों में अभूतपूर्व वृद्धि के कारण दिल्ली के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो रही है। दिल्ली में ऑक्सीजन की दैनिक आपूर्ति हमारी आवश्यकताओं से कम है।

webdunia
 
केजरीवाल ने आगे कहा है कि केंद्र सरकार भी इस संबंध में हमारी मदद कर रही है, हालांकि कोविड के प्रसार की तीव्रता इतनी गंभीर है कि यह अपर्याप्त साबित हो रहा है। पत्र में आगे लिखा है कि मैं समझता हूं कि आपका संगठन या तो ऑक्सीजन का इस्तेमाल करता है या उत्पादन करता है या फिर किसी से लेता है। यदि आप हमें इस समय क्रायोजेनिक टैंकरों के साथ-साथ ऑक्सीजन का कोई भी स्टॉक प्रदान कर सकते हैं तो मैं इसके लिए आपका आभारी रहूंगा। हम किसी अन्य देश से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकरों के आयात में किसी भी मदद का स्वागत करेंगे। कृपया इसे एसओएस समझें। मैं आपके सहयोग के लिए व्यक्तिगत रूप से आभारी रहूंगा।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Fact Check: क्या वाकई ऑक्सीजन सिलेंडर की जगह इस्तेमाल कर सकते हैं नेबुलाइजर मशीन? जानिए सच