Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कोराना की वजह से आए ‘स्‍ट्रेस और ड‍िप्रेशन’ ‘मीम्‍स’ देखने से होंगे खत्‍म, रिसर्च में खुलासा

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 19 अक्टूबर 2021 (15:06 IST)
कोरोना महामारी ने कई तरह के मानसिक रोग पैदा किए हैं। लोग ठीक तो हो गए लेकिन कोरोना उन्‍हें तनाव, ड‍िप्रेशन, भावुकता, अकेलापन और नकारत्‍मकता जैसी मानसिक बीमारियां दे गया। कोराना का यह असर लोगों पर अब तक बना हुआ है।


लेकिन अब एक रिसर्च में सामने आया है कि अगर आप आपने कोरोना के साइड इफैक्‍ट से छुटकारा पाना चाहते हैं तो सोशल मीडि‍या में आने वाले मीम्‍स का सहारा ले सकते हैं, यह मीम्‍स आपके तनाव को कम करने में मदद कर सकते हैं। अमेरिका के 800 लोगों पर हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है।

पेन्सिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी ने इस बारे में रिसर्च की है। इस रिसर्च के शोधकर्ताओं का कहना है कि  सोशल मीडिया या इंटरनेट पर 3 मीम्स देखकर ही आपका तनाव दूर हो सकता है।

उनके मुताब‍ि‍क रिसर्च में शामिल जिन लोगों ने मीम्स देखे उन्होंने खुद को हल्का महसूस किया और खुश नजर आए।

दरअसल, कोविड ने मरीजों के दिमाग पर बुरा असर डाला है। इसकी वजह से लोगों में तनाव और बेचैनी का स्तर बढ़ा। रिसर्च के दौरान यह देखा गया कि जिन लोगों ने तस्वीरों के साथ कैप्शन वाले मीम्स देखे उनकी मेंटल हेल्थ में सुधार दिखा।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) सलाह देता है कि सोशल मीडिया पर कोविड से जुड़ी तस्वीरों को देखने से बचें। रिसर्च में सामने आया है कि अगर कोविड से जुड़े फनी मीम्स देखते हैं तो मरीज बेहतर महसूस करता है। ऐसा करने पर वो महामारी की स्थिति का सामना करने में समक्ष हो जाता है। यानी हम अब तक सोशल मीडि‍या को गलत ही मानते रहे, लेकिन यह इस मामले में फायदेमंद भी है।

कोरोना की वजह कोई डिप्रेशन और कोई स्ट्रेस में आया है। ऐसे में घर में अब खुशहाली का माहौल बनाए रखें। दोस्तों, और रिश्तेदारों से मिलते रहें। नकारात्मक विचार आए तो दोस्‍तों से शेयर करें। अकेले न रहें!

खुद को व्यस्त रखें, अपने पसंद के काम करते रहें। म्यूजिक सुनें, किताबें पढें। फ‍िल्‍म देखें। वॉक पर जाएं, एक्‍सरसाइज करें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

उत्तराखंड के चम्पावत में बारिश का कहर, बाढ़ में फंसे 2400 लोगों को किया गया रेस्क्यू