Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

त्योहारों के बीच corona को लेकर एक्सपर्ट्‍स की चेतावनी, BA 2.75 वैरिएंट नवंबर में मचा सकता है तबाही

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 20 अक्टूबर 2022 (20:20 IST)
पुणे। COVID-19 : कोविड-19 संक्रमण के ऑमिक्रॉन वैरिएंट से जुड़े बीजे. और बीए 2.75 दो उप प्रकार के कॉम्बिनेशन से बने एक्सबीबी वैरिएंट से रोगियों के संक्रमित होने के कई मामले सामने आए हैं। एक्सपर्ट्‍स ने चेतावनी दी है कि नवंबर में इस वैरिएंट के मामले तेजी से बढ़ेंगे। वैरिएंट को देखते हुए हाल में मास्क के लिए फिर एडवायजरी जारी की थी।
 
एक्सबीबी वैरिएंट ओमिक्रॉन फैमिली से संबंधित है, जिसे वैज्ञानिक रूप से बीए 2.10 के रूप में जाना जाता है और यह बीजे .1 और बीए .2.75 के कॉम्बिनेशन से बना है। अमेरिका में पहली बार अगस्त में इसका पता चला था। विशेषज्ञों ने चेताया कि देश में त्योहारी सीजन समाप्त होने के बाद एक्सबीबी संस्करण नवंबर के मध्य में अपने चरम पर पहुंच जाएगा।
 
सिंगापुर में कोरोना के नए मामलों में तेज उछाल के लिए नया ओमिक्रॉन सब-वेरिएंट एक्सबीबी जिम्मेदार माना जाता है। यह अब भारत में भी अपने पैर पसार रहा है। देश में कम से कम 10-15 प्रतिशत नमूनों का अनुक्रम अपनी मौजूदगी दिखा रहा है। 
 
इन राज्यों में आए मामले : महाराष्ट्र ,बंगाल ,ओडिशा और तमिलनाडु में इस तरह मामले 70 मामले आ चुके हैं। महाराष्ट्र में अक्टूबर 10 और 16 के बीच कोविड -19 मामलों में 17.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। देश में लगभग 88 प्रतिशत नए संक्रमण बीए .2.75 के कारण हुए जबकि एक्सएक्सबी के कारण 7 प्रतिशत संक्रमण पाए हुए।
 
राष्ट्रीय संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के सलाहकार डॉ. नरेश पुरोहित ने बताया कि इस बात की आशंका है कि त्योहारी सीजन के दौरान इससे कोविड के नए मामले बढ़ सकते हैं। महाराष्ट्र में कोविड के मामलों में हालिया वृद्धि और पुणे में ओमाइक्रोन बीक्यू.1 सबवैरिएंट का पहला मामला सामने आने पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि बीक्यू.1 संस्करण ओमाइक्रोन बीए.5 संस्करण का वंशज है। जो फिलहाज में अमेरिका में प्रमुख रुप से पाया जाता है।
 
उन्होंने कहा कि ये सभी नेक्स्ट जनरेशन स्ट्रेन हैं या एसएआरएस- सीओवी -2 के ओमिक्रॉन वैरिएंट की संतान हैं। इस साल जनवरी में ओमिक्रॉन के उभरने के बाद से देश ने वायरस का पूरी तरह से नया रूप नहीं देखा है। 
 
उन्होंने इन सब-वैरिएंट्स, जिन्हें सबलाइनेज भी कहा जाता है, के प्रति आगाह किया, उनमें भी उछाल पैदा करने की क्षमता होती है, इसलिए उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।
 
महामारी नियंत्रण विशेषज्ञ ने बताया कि देश में अधिकांश नए संक्रमण ओमिक्रॉन के बीए .2 के बीए .2.75 प्रकार के कारण हुए है। उन्होंने कहा ‘द लैंसेट इंफेक्शियस डिजीज जर्नल ’ में प्रकाशित एक हालिया रिचर्स के अनुसार ओमिक्रॉन का बीए.2.75 संस्करण बड़े पैमाने पर रक्त में एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने से बचता है और कई कोविड -19 एंटीबॉडी उपचारों के लिए प्रतिरोधी है। 
 
उन्होंने कहा कि नया कोविड संस्करण एक्सबीबी कुछ राज्यों में मामलों में वृद्धि कर रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि उत्सव समाप्त होने के बाद एक्सबीबी संस्करण नवंबर के मध्य में अपने चरम पर पहुंच जाएगा। वार्ता Edited by Sudhir Sharma

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

अयोध्या में इस बार जगमगाएंगे रिकॉर्ड 15 लाख दीपक, हर साल बन रहा है नया कीर्तिमान