Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

35 प्रतिशत कोरोना मरीज वैष्णोदेवी के श्रद्धालु और पर्यटक, इसके बावजूद प्रशासन रोक लगाने को तैयार नहीं

webdunia

सुरेश एस डुग्गर

बुधवार, 21 अप्रैल 2021 (20:26 IST)
जम्मू। जम्मू कश्मीर में 35 प्रतिशत कोरोनावायरस (Coronavirus) मरीज वैष्णोदेवी आने वाले श्रद्धालु तथा अन्य टूरिस्ट हैं। यही दशा लद्दाख में भी है, पर इस सच्चाई को स्वीकार करने के बावजूद दोनों प्रशासन न ही वैष्णोदेवी की यात्रा को बंद करने को राजी हैं और न ही टूरिस्टों पर कोई रोक लगाने को। यह सब इस सोच के साथ किया जा रहा है कि लोगों की रोजी्-रोटी चलती रहे, पर अब स्थानीय लोग सरकार के इस फैसने के विरोध में स्वर बुलंद करने लगे हैं।

इसे आधिकारिक तौर पर माना गया है कि जम्मू कश्मीर में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों का एक बड़ा कारण बाहर से आने वाले यात्री और सैलानी हैं। प्रदेश सरकार ने यह जानकारी केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला की अध्यक्षता में कोविड-19 प्रबंधन पर हुई एक बैठक में खुद दी है। केंद्र शासित लद्दाख ने भी कोरोना संकट के लिए बाहर से आने वालों को जिम्मेदार ठहराया है।

जम्मू कश्मीर में रोजाना मिल रहे कोविड संक्रमितों में लगभग 35 प्रतिशत बाहर से आने वाले यात्री ही हैं। मार्च माह के दौरान सिर्फ श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही करीब एक हजार लोग कोविड पॉजिटिव मिले थे। यह सभी विभिन्न राज्यों से कश्मीर आए थे। इनमें से कई सैलानी ही थी।
ALSO READ: Coronavirus की चपेट में आए राजनीति के ये 10 दिग्गज
स्वास्थ्य विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि जम्मू कश्मीर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर और कोरोनावायरस का जो नया स्ट्रेन है, सैलानियों के जरिए ही पहुंचा है। कश्मीर में फरवरी से पर्यटकों की आमद लगातार बढ़ रही थी जो बीते चंद दिनों में घटी है। उसका असर भी कोरोना संक्रमित यात्रियों की संख्या में कमी में साफ झलकता है।

प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना संक्रमितों की संख्या से संबंधित रोजाना दी जाने वाली जानकारी के मुताबिक, इस साल पहली से 19 अप्रैल तक 3606 यात्री और पर्यटक कोविड-19 से संक्रमित मिले हैं। इनमें 1593 सिर्फ श्रीनगर शहर में ही हैं।
ALSO READ: आखिर चीन कैसे बचा Coronavirus की दूसरी लहर से?
जम्मू कश्मीर में बीते 19 दिनों के दौरान 10476 लोग कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें 34.4 प्रतिशत बाहर से आने वाले स्थानीय नागरिक या सैलानी ही हैं। कश्मीर में महाराष्ट्र और गुजरात के दो पर्यटकों की बीते माह कोविड-19 से मौत हुई थी। श्रीनगर एयरपोर्ट पर जांच के दौरान ही इनमे कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी।
ALSO READ: इंसानों के साथ जंगल को भी खा रहा है Coronavirus
सूत्रों ने बताया कि केंद्र शासित जम्मू कश्मीर और केंद्र शासित लद्दाख प्रदेश के अधिकारियों ने भी माना है कि कोरोना संक्रमण के मामले बाहर से आने वाले यात्रियों के कारण ही ज्यादा तेजी से बढ़े है। स्थिति पर काबू पाने के लिए रात्रिकालीन कर्फ्यू को सहारा लेने के अलावा बाजारों के खुलने के समय की अवधि को भी घटाया गया है। यात्री वाहनों में सवारियों की संख्या को घटाया गया है। पर टूरिस्टों और श्रद्धालुओं के आने पर कोई रोक नहीं लगाई गई है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

नासिक की घटना पर PM मोदी ने जताया शोक, CM उद्धव ने किया 5-5 लाख रुपए के मुआवजे का ऐलान