Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Omicron के खतरे के बीच आयुष मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन, इन आयुर्वेदिक उपायों से रहें फि‍ट और हेल्दी

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 11 जनवरी 2022 (13:50 IST)
कोरोना के ओमिक्रॉन खतरे के बीच आयुष मंत्रालय ने अपनी एक नई गाइडलाइन जारी की है। मंत्रालय ने मास्क के इस्तेमाल, हाथों की सफाई, शारीरिक और सामाजिक दूरी का पालन करना, कोविड टीकाकरण, स्वस्थ आहार, बेहतर इम्युनिटी और अन्य हेल्थकेयर से जुड़े नियमों का पालन करने को भी कहा है। कुल मिलाकर आयुष मंत्रालय ने हर नागरिक के व्यक्तिगत स्वास्थ्य पर खासा जोर दिया है।

मंत्रालय ने कहा है कि इनके जरिए यह सुनिश्चित करने की कोशिश की गई है कि महामारी के इस दौर में लोग स्वस्थ रहें और कोरोना महामारी से अपना बचाव कर सकें।

जी हां, इस मुश्किल घड़ी में आयुष मंत्रालय ने हर नागरिक के व्यक्तिगत स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं पर खासा जोर दिया है। केवल इतना ही नहीं मंत्रालय ने आयुष पद्धति के अलग-अलग उपायों पर चर्चा करते हुए उन्हें अपनाने के लिए लोगों से अपील की है ताकि इन्हें अपनाकर व्यक्ति स्वस्थ रह सके।

आयुष मंत्रालय ने कहा कि ये सभी उपाय कोविड-19 एप्रोप्रियेट बिहेवियर के अंतर्गत आते हैं। इन्हें महामारी से बचाव के तौर पर विकल्प के रूप में नहीं लेना चाहिए।

आयुष मंत्रालय ने मास्क के इस्तेमाल, हाथों की सही तरह से सफाई, शारीरिक और सामाजिक दूरी का पालन करना, कोविड टीकाकरण, स्वस्थ आहार, बेहतर इम्युनिटी और अन्य हेल्थकेयर से जुड़े नियमों का पालन करने को भी कहा है।

क्‍या है आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन
सामान्य उपाय
-दिन भर में कई बार गर्म पानी पिएं।
-दिन में कम से कम 30 मिनट योगासन, प्राणायाम और मेडिटेशन जरूर करें।
-मसाले जैसे हल्दी, जीरा और धनिया जरूर खाएं।
-खाना पकाने में लहसून का इस्तेमाल जरूर करें।

इम्यूनटी को बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय
-सुबह 10 ग्राम च्यवनप्राश का सेवन जरूर करें। डायबिटीज रोगियों को शुगर फ्री च्यवनप्राश लेना चाहिए।
-तुलसी और दालचीनी से बनी हर्बल चाय/काढ़ा जरूर पिएं।
-दालचीनी, काली मिर्च, शुंठी (सूखी अदरक) और मुनक्का (किशमिश)-दिन में एक या दो बार जरूर खाएं।
गुड़ (प्राकृतिक चीनी) और नींबू के रस का सेवन भी जरूर करें।
गोल्डन मिल्क- 150 मिलीलीटर गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर दिन में एक या दो बार जरूर पिएं।

सरल आयुर्वेदिक प्रक्रियाएं
तिल का तेल/नारियल का तेल या घी लगाएं नासिका छिद्र में सुबह और शाम लगाएं।
ऑयल पुलिंग थेरेपी- 1 टेबल स्पून तिल या नारियल का तेल मुंह में लें। इसे पिएं नहीं बल्कि 2 से 3 मिनट तक मुंह में घुमाकर थूक दें और फिर गर्म पानी से कुल्ला कर लें। यह दिन में एक या दो बार किया जा सकता है।
सूखी खांसी और गले में खराश के दौरान
-ताजी पुदीना (पुदीना) की पत्तियों या अजवाइन और अदरक के साथ गर्म पानी का भाप जरूर लें।
-लौंग के चूर्ण को गुड़ या शहद के साथ मिलाकर 2-3 लें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

ओडिशा में 7 माह बाद सर्वाधिक 7071 Corona संक्रमण केस