Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

टीका निर्माताओं को प्रधानमंत्री ने दिया हर मदद का भरोसा, कहा- बढ़ाएं अपना उत्पादन

webdunia
बुधवार, 21 अप्रैल 2021 (00:34 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को सामर्थ्य, संसाधन और सेवा भाव को भारत के टीका उद्योग की सबसे बड़ी ताकत बताया और टीका निर्माताओं से अपनी उत्पादन क्षमता में लगातार वृद्धि करने का आग्रह किया ताकि कम से कम समय में अधिक से अधिक लोगों को कोविड-19 रोधी टीका लगाया जा सके।
प्रधानमंत्री ने देशभर के टीका निर्माताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संवाद के दौरान कहा कि निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य ढांचे ने कोविड-19 के खिलाफ देश की लड़ाई में बड़ी भूमिका निभाई है और आने वाले दिनों में निजी क्षेत्र टीकाकरण अभियान में और भी अधिक सक्रिय भूमिका निभाएंगे। उन्होंने टीका निर्माताओं को हरसंभव मदद और अन्य आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराने के साथ ही टीके की मंजूरी की प्रक्रिया भी तेज और वैज्ञानिक बनाने का भरोसा दिया।

प्रधानमंत्री ने टीका निर्माताओं की उपलब्धियों और उनकी व्यवसायिक कुशलता की सराहना की और कहा कि उनकी क्षमताओं पर विश्वास जताते हुए ही सरकार ने एक मई से 18 साल के ऊपर के लोगों के टीकाकरण कार्यक्रम को मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक मोदी ने नए टीकों को विकसित करने की दिशा में वैज्ञानिकों द्वारा किए जा रहे शोध और प्रयासों की भी सराहना की।
 
प्रधानमंत्री ने रिकार्ड समय में टीकों को विकसित करने और उनका उत्पादन करने का श्रेय टीका निर्माता कंपनियों को देते हुए कहा कि भारत में निर्मित टीके विश्व में सबसे सस्ते हैं। उन्होंने कहा कि आज भारत में विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान जारी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि टीकों के विकसित होने और और उनके उत्पादन की पूरी प्रक्रिया के दौरान देश ने मिशन कोविड सुरक्षा के तहत सार्वजनिक निजी भागीदारी की भावना के साथ काम किया और शुरु से अंत तक टीका विकसित करने का तंत्र विकसित किया।

 
उन्होंने कहा कि सरकार ने ना सिर्फ यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया कि सभी टीका उत्पादकों को हरसंभव मदद और तार्कित सहयोग मिल सके बल्कि यह भी कोशिश की कि टीकों को मंजूरी की प्रक्रिया तेज और वैज्ञानिक हो। उन्होंने कहा कि नए टीकों की दौड़ में जो हैं, उन्हें सरकार की ओर से हरसंभव मदद दी जाएगी और अनुमति प्रक्रिया को आसान बनाया जाएगा।
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में देश के निजी क्षेत्रों के स्वास्थ्य ढांचे ने बहुत अहम भूमिका निभाई और आने वाले दिनों में निजी क्षेत्र टीकाकरण अभियान में और भी सक्रिय भूमिका निभाएंगे। उन्होंने कहा, इसके लिए अस्पतालों और उद्योग के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता होगी। पीएमओ के बयान के मुताबिक टीका निर्माताओं ने 18 वर्ष की आयु से ऊपर के सभी लोगों के लिए टीकाकरण की अनुमति देने के सरकार के फैसले के लिए और अधिक प्रोत्साहन और लचीलापन प्रदान करने वाले विभिन्न कदम उठाने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। बयान में कहा गया, टीका निर्माताओं ने टीका विकास और उत्पादन की प्रक्रिया के दौरान भारत सरकार से प्राप्त समर्थन के लिए प्रधानमंत्री के नेतृत्व की भी सराहना की। टीका निर्माताओं ने इस संवाद के दौरान उत्पादन, आगामी वैक्सीन उम्मीदवारों और नए वेरिएंट पर शोध करने के लिए अपनी योजनाओं पर भी चर्चा की।
 
बायोटेक बढ़ाएगा उत्पादन : भारत बायोटेक अगले महीने कोविड-19 टीके 'कोवैक्सिन' की 3 करोड़ खुराक का उत्पादन करेगी। कंपनी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक कृष्णा एल्ला ने मंगलवार को यह जानकारी दी। मार्च में कंपनी ने कोवैक्सिन की 1.5 करोड़ खुराक का उत्पादन किया था।

 
वैक्सीन विनिर्माता ने बयान में कहा कि उसने कोवैक्सिन की सालाना उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 70 करोड़ खुराक कर लिया है। एल्ला का यह बयान ऐसे समय आया है जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सीन विनिर्माताओं से टीके का उत्पादन बढ़ाने को कहा है, जिसमें कम से कम समय में सभी भारतीयों का टीकाकरण किया जा सके।
 
सरकार ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) तथा भारत बायोटेक को भविष्य में आपूर्ति बढ़ाने के लिए 4,500 करोड़ रुपए का अग्रिम भुगतान करने की भी अनुमति दी है। एल्ला ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कंपनी बेंगलुरु में दो नए वैक्सीन संयंत्रों को शुरू करने जा रही है। कंपनी ने शुरुआत में एक संयंत्र से उत्पादन शुरू किया था। अब कंपनी के हैदराबाद में चार संयंत्र परिचालन में हैं।
 
एल्ला ने कहा कि पिछले महीने हमने डेढ़ करोड़ खुराक का उत्पादन किया था। इस महीने हम दो करोड़ खुराक का उत्पादन कर रहे हैं। अगले महीने हम 3 करोड़ खुराक का उत्पादन करेंगे। उसके बाद सात से साढ़े सात करोड़ खुराक का उत्पादन किया जाएगा। (भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

दिल्ली में संक्रमण से सर्वाधिक 277 मरीजों की मौत, 28 हजार से अधिक नए मामले