Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

दीपावली पूजन मुहूर्त 2020 : स्थिर लग्न में करें लक्ष्मी जी की पूजा, ठहर जाएंगी मां घर में

webdunia
webdunia

पं. हेमन्त रिछारिया

Diwali Puja Muhurat
 
महालक्ष्मी पूजन स्थिर लग्न में अति उत्तम रहता है। इससे स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। वृषभ, सिंह, वृश्चिक व कुंभ स्थिर लग्न होती है। इस वर्ष के स्थिर लग्न मुहूर्त निम्न है-
 
स्थिर लग्नानुसार-
 
प्रात:काल- 7.12 से 9.29 तक (वृश्चिक लग्न)
 
अपराह्न- 1.19 से 2.50 तक (कुंभ लग्न)
 
सायंकाल- 5.54 से 7.50 तक (वृषभ लग्न)
 
मध्यरात्रि- 12.22 से 2.39 तक (सिंह लग्न)

चौघड़िया अनुसार-
 
दिवसकालीन-
 
प्रात:- 7.55 से 9.18 (शुभ)
 
मध्याह्न- 1.00 से 2.49 (लाभ)
 
मध्याह्न- 2.49 से 4.11 (अमृत)
 
सायंकालीन-
 
सायं- 5.34 से 7.12 बजे तक (लाभ)
 
सायं- 8.49 से 10.26 बजे तक (शुभ)
 
रात्रि- 10.26 से 12.00 तक (अमृत)

सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त-
 
प्रात:- 7.55 से 9.18 तक
 
सायं- 5.54 से 7.12 तक
 
मध्याह्न- 1.19 से 2.50 तक

कब क्या करें?-
 
स्नान- प्रातःकाल
 
देवपूजन- स्नान के उपरांत
 
पितर पूजन- दोपहर
 
ब्राह्मण भोजन- दोपहर
 
महालक्ष्मी पूजन- प्रदोषकाल में
 
दीपदान- प्रदोषकाल में
 
मशाल दर्शन- सायंकाल
 
दीपमाला प्रज्वलन- सायंकाल

पूजन सामग्री- रोली, मौली, पान, सुपारी, अक्षत, धूप, घी का दीपक, तेल का दीपक, खील, बताशे, श्रीयंत्र, शंख (दक्षिणावर्ती हो तो अतिउत्तम), घंटी, चंदन, जलपात्र, कलश, लक्ष्मी-गणेश-सरस्वतीजी का चित्र या विग्रह) पंचामृत, गंगाजल, सिन्दूर, नैवेद्य, इत्र, जनेऊ, श्वेतार्क पुष्प, कमल का पुष्प, वस्त्र, कुमकुम, पुष्पमाला, फल, कर्पूर, नारियल, इलायची, दूर्वा।
 
बाईं ओर रखें-
 
जलपात्र, घंटी, धूप, तेल का दीपक।
 
दाईं ओर रखें-
 
घी का दीपक, जल से भरा शंख।
 
सामने रखें-
 
चंदन, रोली, पुष्प, अक्षत व नैवेद्य।
 
तत्पश्चात विधिवत पूजन करें।
 
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
प्रारब्ध ज्योतिष परामर्श केंद्र
संपर्क : [email protected]


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Diwali puja item list : दिवाली पूजन-सामग्री की संपूर्ण सूची