Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

क्या आपका पेट भी भरा भरा रहता है? तो इसे जरूर पढ़ लीजिए

webdunia
खाना मुँह को आना ये सिर्फ कहावत नहीं बल्कि हियेटल हर्निया नाम की बीमारी है
 
कई लोगों में पेट से जुड़ी एक गंभीर समस्या होती है जिसमें पेट भरा भरा लगना, भारीपन, पेट से भोजन नाली की और जलन महसूस होती है। अगर आपको भी ये समस्या होती है तो थोड़ा सावधान रहने की ज़रूरत है क्यूंकि या हियेटल हार्निया भी हो सकता है।
 
क्या है हियेटल हर्निया हमारी आहार नाली गले के निचे से शुरू होकर डायफ्रॉम यानि पेट तक पहुँचती है ...इसके बीच में एक छोटा सा भाग होता है जो सीने तथा पेट के अंगों को एकदूसरे से अलग रखते हुए शरीर के दोनों क्षेत्रों को हिस्सों में विभाजित करता है, हियेटल कहलाता है... कुछ स्वस्थ्य परिस्थितियों में यह हियेटल का आकर सामान्य से बड़ा हो जाता है.... ऐसी स्थिति में पेट, जो की डायफ्रॉम के के नीचे की तरफ होता है, खिसक कर ऊपर की और आ जाता है.. इस स्थिति को ही हियेटल हर्निया कहते हैं...
 
हियेटल हर्निया के लक्षण
हियेटल हर्निया की स्थिति में खाना खाने के बाद मरीज़ हो महसूस होता है की खाना ऊपर की और आ रहा है या खाना मुँह को आ रहा है।
 
पेट में भारीपन बना रहना या फिर पेट भरा भरा लगना भी इसका एक लक्षण है, ऐसे में मरीज़ को महसूस होता है की खाना पेट में ऊपर की तरफ ही पड़ा हुआ है।
 
हियेटल हर्निया होने पर एसिडिटी बनी रहती है और कई बार सीने में जलन या दर्द की स्थिति भी बनती है।
 
खाना निगलने में समस्या आना, गले में खराश होना और सांस फूलना, अपच, जी मचलाने की समस्या भी हियेटल हर्निया के लक्षण हैं।
 
बचाव
अधिक भारी या मसालेदार भोजन करने से बचें, साथ ही एक बार में बहुत अधिक भोजन करने से भी बचें।
 
भोजन करने के तुरंत बाद लेटें नहीं, अन्यथा खाना पेट से आहार नाली की तरफ आएगा और आपको ज्यादा समस्या महसूस हो सकती है।
 
भोजन को टुकड़ों में खाएं, अच्छी तरह चबाकर खाएं।
 
और थोड़ा थोड़ा खाएं ताकि वह आसानी से पेट में जाकर पाचन की क्रिया का हिस्सा बन सके।
 
अपने वजन को नियंत्रित रखें क्योंकि वजन ज्यादा होने से हियेटल हर्निया होने पर आप अधिक भार या दबाव महसूस करेंगे।
 
अल्कोहल, चाय कॉफ़ी का अधिक सेवन या गर्म तासीर के चीज़ें खाने से बचें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

'भारत, भारतीयों का है' के प्रमुख प्रणेता स्वामी दयानंद सरस्वती की जयंती