Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Health Tips: सेहतमंद रहने के लिए नियमित करें व्यायाम

हमें फॉलो करें webdunia
सेहतमंद रहने के लिए अपनी दिनचर्या में व्यायाम को शामिल करना बहुत जरूरी है, वहीं अगर आप अपने शरीर को सही आकार देना चाहते हैं, मन को शांत रखना चाहते हैं, तो सूर्य नमस्कार इसके लिए बहुत लाभकारी है। नियमित रूप से सूर्य नमस्कार का अभ्यास करने से आप फिट तो रहते ही हैं, साथ ही आपकी रोगों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है। सूर्य नमस्कार के नियमित अभ्यास से शरीर लचीला होता है और आप मानसिक रूप से स्वस्थ रहते हैं।
 
सूर्य नमस्कार में 12 चरण होते हैं। इन चरणों के अलग-अलग नाम होते हैं और इनको अलग-अलग तरह से किया जाता है। सूर्य नमस्कार को महिला, पुरुष, बच्चों और हर आयु के लोगों द्वारा किया जाता है। जो लोग नियमित रूप से इसे करते हैं, उनका शरीर सेहतमंद रहता है। यदि आप खुद को अंदर में मजबूत रखना चाहते हैं, तो सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास अवश्य करें।
 
सूर्य नमस्कार रोज करने से अनेक फायदे होते हैं। यदि आपको उच्च रक्तचाप है, तो सूर्य नमस्कार से इसे सही किया जा सकता है। बस, आपको यह व्यायाम सही तरीके से करना है। इसमें किसी भी तरह की गलती नहीं होनी चाहिए। मोटापे से परेशान लोग अगर रोजाना सूर्य नमस्कार करें, तो वे अपने वजन को कम कर सकते हैं और शरीर को फिट बना सकते हैं। इसकी मदद से उपापचय को भी सही किया जा सकता है।
 
ऐसे कई लोग हैं जिनका पाचन तंत्र कमजोर होता है। अगर यह परेशानी आपके साथ भी है तो सूर्य नमस्कार इस परेशानी से निजात दिलाने में कारगर है। जिन लोगों का कमजोर पाचन तंत्र कमजोर है, उन्हें सूर्य नमस्कार जरूर करना चाहिए, क्योंकि इसको करने से पाचन तंत्र को मजबूती मिलती है और गैस की समस्या से भी राहत प्रदान होती है। इसलिए जिन लोगों का पाचन तंत्र वीक (कमजोर) है, वे इसे जरूर करें।
 
जिन स्त्रियों को समय पर मासिक धर्म नहीं होते हैं और जिनको इन दिनों के दौरान पेट में काफी दर्द रहता है, उनके लिए सूर्य नमस्कार लाभदायक होता है। इसके अलावा सूर्य नमस्कार करने से डिलीवरी के समय ज्यादा परेशानी भी नहीं होती है और आसानी से डिलीवरी हो जाती है।
 
विभिन्न प्रकार के आसन सूर्य नमस्कार के दौरान किए जाते हैं जिनकी मदद से मांसपेशियों और जोड़ों को मजबूती मिलती है। इनके अलावा गर्दन, हाथ और पैर भी मजबूत हो जाते हैं। त्वचा में निखार लाने के लिए भी यह आसन लाभदायक होता है। यह आसन करते समय शरीर में खून सही तरह से प्रवाहित होता है जिससे कि त्वचा में रौनक आ जाती है और झुर्रियां भी समाप्त हो जाती हैं।

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. कृष्णगोपाल मिश्र की समीक्षा कृति का लोकार्पण