Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

दिवाली रेसिपीज : दीपावली पर बनती हैं ये 5 पारम्परिक डिशेज, जानिए कैसे बनाएं

हमें फॉलो करें webdunia
deepawali recipies 2022 : दीपावली का त्योहार हो और मिठाई की बात न हो, यह भला कैसे संभव है। तो देर किस बात की। यहां जानिए और घर पर ही मिनटों में बनाइऐ यह खास स्वीट्‍स। यहां पाठकों के लिए विशेष तौर पर प्रस्तुत हैं इस त्योहार पर बनाएं जाने वाले 5 तरह की मिठाइयों की आसान विधियां...diwali recipies
 
1. मीठे पेठे
 
सामग्री : 4 कप मैदा, 1/2 कप रवा, 1 कटोरी घी (मोयन के लिए), चुटकी भर नमक, थोड़ा-सा बेकिंग पाउडर, 2 कटोरी शकर, तलने के लिए घी अलग से।
 
विधि : सबसे पहले रवा और मैदा छान लें। अब उसमें नमक व गरम घी का मोयन देकर गुनगुने पानी से कड़ा आटा गूंथ लें। फिर उसकी बड़ी-बड़ी लोई बनाकर उसे मोटा बेल लें। अब चाकू की सहायता से उसकी लंबी-लंबी स्ट्रिप काट लें और कपड़े पर सुखने के लिए अलग-अलग फैला दें। 

 
अब एक कढ़ाई में घी गरम करके धीमी आंच पर सारे पेठे तल लें। ध्यान रखें कि पेठों का रंग ज्यादा न बदलें। सारे पेठे तलने के बाद एक बर्तन में शकर में 1/2 कप पानी डालकर बूरे की चाशनी तैयार करें।
 
पेठे ठंडे होने के बाद कड़छी की सहायता से उन पर चाशनी बिखेरती जाएं। जब सारे पेठों पर चाशनी चढ़ जाए और वे पूरी तरह ठंडे हो जाए तब उन्हें एयर टाइट डिब्बे में भर दें और दीपावली के पर्व का मीठे पेठे के साथ आनंद उठाएं।

2. बेसन लड्डू 
 
सामग्री : 1 कप मोटा बेसन, 2-3 बड़ा चम्मच घी, शकर बूरा 1 कप, 1 चम्मच इलायची पाउडर, ड्रायफ्रूट्स की कतरन (अंदाज से), चांदी का वर्क।
 
विधि : सबसे पहले 1 कप मोटा बेसन सेकें अर्थात्‌ २ मिनट माइक्रो करें। लगातार चलाते रहें। अब 2-3 चम्मच घी डालें व लगातार चलाएं, जब तक बेसन हल्का भूरा ना हो जाए। बीच में ध्यान रखें ताकि जले ना। इसे करीब 7-8 मिनट माइक्रो करें। अब बेसन बाहर निकाल कर ठंडा करें। घी तथा शकर आप कम या ज्यादा भी कर सकते हैं। यहां इस बात का ध्यान रखें कि माइक्रोवेव का उपयोग सिर्फ बेसन सेकने के लिए उपयोग करें। बाकी सारी विधि माइक्रोवेव से बाहर ही करें।
 
 
अब शकर का बूरा, पीसी इलायची व ड्रायफ्रूट्स मिलाकर बीच-बीच में बॉउल में चम्मच चलाते रहें, जब ठंडा होने लगे तो इसके छोटे-छोटे लड्डू बनाएं और चांदी का वर्क से सजाकर पेश करें। 

3. गुझिया 
 
सामग्री : 250 ग्राम मैदा, 1/4 कटोरी घी (मोयन के लिए), 150 ग्राम खोया/मावा, 200 ग्राम पिसी चीनी, 1/4 कटोरी कटे मेवे, आधा छोटा चम्मच इलायची पाउडर, 1 कटोरी चीनी, किशमिश, तलने के लिए घी, 1/4 कटोरी दूध।
 
विधि : खोया/मावे को चलनी से छान कर कढ़ाई में धीमी आंच पर गुलाबी सेंक कर ठंडा कर लें। अब उसमें शकर बूरा, कटे मेवे, इलायची पाउडर, किशमिश, डालकर अच्छी तरह मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें। 
 
मैदे में मोयन डाल कर गूंथ कर रख लें। मैदे की छोटी-छोटी लोई बनाकर गोल पूरी बेलकर मावे का मिश्रण भरें और ऊपर से दूसरी पूरी ढंक कर किनारों पर दूध लगा कर उसे चारों ओर से चिपका दें। थोड़ी देर कपड़े पर सुखने के लिए रखें। इस तरह सभी गुझिया तैयार कर लें और एक कढ़ाई में घी गरम करके धीमी आंच पर तल लें। अब तैयार गुझिया से त्योहार मनाएं।

4. सोन पापड़ी 
 
सामग्री : सवा कप बेसन, सवा कप मैदा, 250 ग्राम घी, ढाई कप शकर, डेढ़ कप पानी, 2 चम्‍मच दूध, आधा चम्‍मच इलायची पाउडर।
 
वि‍धि ‍: बेसन और मैदे को मि‍ला दें और घी गरम करके उसमें हल्‍का गोल्‍डन होने तक भूनते रहें। इसे कुछ देर अलग रखकर ठंडा होने दें। बीच बीच में हि‍लाते रहें। इसके साथ में ही पानी शकर और दूध डालकर चाशनी भी तैयार कर लें। और इसे तैयार मि‍श्रण में डाल दें।
 
मि‍श्रण को तब तक फेंटते रहें जब तक उसके धागे ना बनने लगे। अब इसे तेल लगी थाली में डालें और उस पर इलायची पाउडर बुरक दें। हल्‍के हाथ से दबा दें। ठंडा हो जाने पर बर्फी के आकार में काट लें और एयरटाइट डि‍ब्बे में सोन पापड़ी को भर रख दें।

5. मक्खन बड़ा 
 
सामग्री : मैदा 500 ग्राम, चीनी 1 किलो, घी, 1 कप दही, 1 चुटकी मीठा सोडा, इलायची पाउडर, पिस्ता, चांदी का वरक। 
 
विधि : सबसे पहले मैदा व सोडा छान लें। अब 200 ग्राम घी गुनगुना करके मैदे में डालें व दही से गूंध लें। रोटी के आटे जैसा, छोटे-छोटे चपटे गोले बनाएं व ऊपर से चाकू से क्रॉस या हल्का-सा निशान बना दें। एक कढ़ाई में घी गर्म करके धीमी आंच पर सभी बड़ों को सुनहरे होने तक तल लें।
 
 
अब चीनी में 2 कप पानी डालें एवं 2 तार की चाशनी बना लें। जब चाशनी थोड़ी ठंडी हो जाए तब मक्खन बड़े डालें व 10 मिनट रखने के बाद छलनी में निकाल लें। ऊपर से वरक एवं पिस्ता से सजाएं और खस्ता मक्खन बड़ा पेश करें। 

webdunia
 


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

रंगोली और वास्तु का क्या है कनेक्शन