Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia

Reels पर तकरार, क्यों लोगों में बढ़ रहा है हर जगह वीडियो बनाने का बुखार?

महाकाल से लेकर गणेशजी तक, क्‍या है मंदिर प्रशासन का रील्‍स से निपटने का प्‍लान?

हमें फॉलो करें Reels
webdunia

नवीन रांगियाल

  • रील्‍स की वजह से देशभर में लगातार हो रही मौतें और विवाद
  • क्‍या सोचते हैं लाखों फॉलोअर्स वाले इन्‍फ्लूएंसर?
  • मनोचिकित्‍सक ने बताया- क्‍या है युवाओं की रील्‍स बनाने की मानसिकता के पीछे?
  • उज्‍जैन महाकाल प्रशासन बना रहा सख्‍ती के नए नियम
  • खजराना गणेश मंदिर में 30 सुरक्षागार्ड कर रहे निगरानी
controversy over reels in india: रील्‍स और वीडियो बनाने की दीवानगी ने देशभर में कई तरह की दिक्‍कतें पैदा कर दी हैं। आए दिन रील्‍स बनाने के चक्‍कर में स्‍टंट करते हुए युवाओं की मौत हो जाती है तो कहीं विवाद हो रहे हैं। कहीं मेट्रो में तो कहीं सार्वजनिक स्‍थलों पर रील्‍स बनाने वालों की वजह से आम लोगों को शर्मिंदा होना पडता है। देशभर के धार्मिक स्‍थलों पर रील्‍स बनाने वालों की पूरी टीम अपने लवाजमों के साथ पहुंच रही हैं। हालात यह है कि मंदिर जैसे पवित्र स्‍थल पर्यटन स्‍थल बनते जा रहे हैं।

Ujjain Mahakal temple : चाहे उज्‍जैन महाकाल हो, केदारनाथ हो, ओंकारेश्‍वर या देश का कोई मंदिर और धार्मिक स्‍थल। इन दिनों हर जगह से रील्‍स बनाने की वजह से विवाद और मारपीट सामने आ रहे हैं। हाल ही में इंदौर के ढोल ताशें बजाने वाली एक टीम ने केदारनाथ में हाई एल्‍टि्टयूड पॉइंट पर पहुंचकर रील्‍स बनाने को लेकर विवाद हुआ, जिसका वीडियो सामने आया है। बता दें कि चार धाम यात्रा में उत्‍तराखंड प्रशासन ने रील्‍स और वीडियो पर रोक लगा दी है।

जानते हैं आखिर क्‍यों मंदिरों में बढ़ रही हैं रील्‍स बनाने की मानसिकता और मंदिर व्‍यवस्‍थापक समिति के पदाधिकारी इसे लेकर क्‍या कदम उठा रहे हैं। इसके साथ ही जानते हैं रील्‍स के बुखार पर क्‍या कहते हैं मनोचिकित्‍सक?
चारधाम यात्रा में रील्‍स पर रोक : बता दें कि रील्‍स और शॉर्ट्स से परेशान होकर अब उत्‍तराखंड सरकार ने Char Dham Yatra 2024: चारधाम यात्रा पर जाने वाले यात्री अब मंदिरों के आस-पास वीडियो और रील्स (Videos and Reels) पर रोक लगा दी है। उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने चारधाम मंदिर के 50 मीटर के दायरे में वीडियो या रील्स बनाने पर रोक लगा दी है। साथ ही 31 मई तक VIP दर्शन पर भी रोक को बढ़ा दिया है। पहले यह रोक 25 मई तक थी। सरकार ने ये फैसला बढ़ती भारी भीड़ को देखते हुए लिया है।

मोबाइल ले जाने पर पैनल्‍टी तय कर रहे हैं : उज्‍जैन महाकाल मंदिर के प्रशासन मृणाल मीणा ने वेबदुनिया को बताया कि पहले हमारे पास क्‍लॉक रूम का स्‍टोरेज नहीं था, अब हमने  क्‍लॉक रूम का स्‍टोरेज बढ़ाया है जिससे ज्‍यादा से ज्‍यादा श्रद्धालुओं के फोन वहां रखे जा सके। महाकाल मंदिर में फोन पूरी तरह से प्रतिबंधित है, लेकिन फिर भी लोग किसी न किसी तरह से अंदर ले जाते हैं। हमने सिक्‍योरिटी को इसके लिए अलर्ट किया है। प्रशासन फोन ले जाने वालों के लिए एक पैनल्‍टी का भी प्रावधान कर रही है, जैसे ही इस बारे में तय  होगा इसे लागू करेंगे।

30 गार्ड कर रहे निगरानी : खजराना गणेश मंदिर के पूजारी पंडित अशोक भट्ट ने बताया कि 30 गार्ड है जो पूरी तरह से निगरानी करते हैं, अगर मंदिर परिसर में कोई आपत्‍तिजनक रिकॉर्डिंग होती है तो हम तुरंत रोकते हैं। हालांकि सामान्‍य तौर पर यहां लोग परिवार के साथ फोटो लेते हैं इससे ज्‍यादा कुछ नहीं होता।
webdunia

क्‍यों सवार हो रहा रील्‍स का पागलपन, क्‍या कहते हैं मनोचिकित्‍सक?
Why the fever of making reels increasing everywhere in india : मनोचिकित्‍सक
डॉ. सुखदा अभिराम भिसे ने वेबदुनिया को बताया कि दरअसल इन दिनों अटेंशन सिकिंग का ग्राफ तेजी से बढ़ा है। बच्‍चों से लेकर बूढ़ों तक को अटेंशन चाहिए और सोशल मीडिया पर यह आसानी से मिल जाता है। दूसरी तरफ परिवार में बच्‍चों से ज्‍यादा बात नहीं होती, जबकि सोशल मीडिया में उन्‍हें अच्‍छा खासा अंटेशन और प्रशंसा मिल जाती है। घरवालों से आलोचना और सोशल मीडिया से प्रशंसा ने बच्‍चों को इस तरफ धकेल दिया है। जबकि मंदिरों में हम ईश्‍वर से जुड़ने और  अपनी परेशानियां दूर करने जाते हैं। आज का युवा इस बात को समझ नहीं पा रहा है। उन्‍हें ध्‍यान रखना होगा कि हर जगह का एक वातावरण और महत्‍व होता है।

क्‍या कहते हैं नागरिक : जागरुक नागरिक रजनीश त्रिवेदी ने बताया कि मंदिरों में इस तरह की प्रथा बंद होनी चाहिए, हालांकि ज्‍यादातर मंदिरों में व्‍यवस्‍थापकों ने ऐसी चीजों को बढ़ावा दिया है। इस वजह से मंदिरों में ढर्रा बिगड़ रहा है। वे खुद ही रील्‍स बनाते हैं और सेल्‍फी लेते हैं तो लोग भी प्रेरित होते हैं। आजकल मंदिरों में फाग उत्‍सव बनाने का चलन चल पडा है, इसका संबंध बृज से है, जबकि अब दूसरे मंदिरों के गर्भ गृह में भी यह सब होने लगा है। मंदिरों में कायदे तय होना चाहिए।

इन्‍फ्लूएंसर ने क्‍या कहा: वेबदुनिया ने इसे समझने के लिए एक इन्‍फ्लूएंसर रितिका से चर्चा की। रितिका ने बताया कि वो खुद रील्‍स बनाती है, लेकिन ऐसी चीजों का पूरा ध्‍यान रखती है। मंदिर और सार्वजनिक स्‍थलों की गरिमा और दायरों का ध्‍यान रखा जाना चाहिए। मैं खुद नियमों का पालन करती हूं।

शॉर्ट्स और रील की वजह से कब- कब हुए विवाद?
महाकालेश्वर मंदिर उज्‍जैन: महाकालेश्वर मंदिर में दो लड़कियों को रील बनाने से रोकने पर उन्होंने मंदिर की महिला सुरक्षा गार्डों की पिटाई कर दी। पलक और परी नाम की लड़कियों को मंदिर परिसर के अंदर इंस्टाग्राम रील रिकॉर्ड करने से रोके जाने पर उन्होंने गार्डों से भिड़ंत कर दी। इसके बाद दोनों के बीच हाथापाई हुई और लड़कियों ने महिला सुरक्षा गार्डों की पिटाई कर दी।
केदारनाथ में प्‍यार का इजहार : जुलाई 2023 में केदारनाथ मंदिर में एक लड़की द्वारा अपने बॉयफ्रेंड को प्रपोज करने का वीडियो सोशल मीडिया पर आग की तरह फ़ैल गया था, जिससे ऑनलाइन बहस छिड़ गई। वीडियो में पीले रंग की साड़ी पहने सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर विशाखा फुलसुंगे मंदिर के बाहर एक घुटने पर बैठकर अंगूठी देकर अपने बॉयफ्रेंड को प्रपोज करती नजर आ रही थी। लड़का प्रपोजल स्वीकार कर लेता है, जिसके बाद दोनों गले मिलते हैं। इस घटना के बाद बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर कमेटी ने इस हरकत पर अपनी नाराजगी जताई थी।

महाबोधि मंदिर में ओ मेरी जान : महिला पुलिसकर्मियों ने मंदिर में बनाई डांस रील दिसंबर 2023 में बिहार के गया के महाबोधि मंदिर में दो महिला कांस्टेबलों को उनकी डांस रील का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद निलंबित कर दिया गया था। दोनों कांस्टेबल "ओ मेरी जान, अरे ओ मेरी जान..." गाने पर डांस रील बनाते समय वर्दी में थी, जो पुलिस विभाग के नियमों के खिलाफ है। बता दें कि महाबोधि मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं को मोबाइल फोन ले जाने की अनुमति नहीं है। हालांकि, सुरक्षाकर्मी अपने फोन को मंदिर के अंदर ले जा सकते हैं और इसी का फायदा दोनों महिला पुलिसकर्मियों ने उठाया।

केदारनाथ में मांग में भरा सिंदूर : जुलाई 2023 में केदारनाथ मंदिर के बाहर एक व्यक्ति द्वारा महिला के माथे की मांग सिंदूर से भरने की एक इंस्टाग्राम रील बहुत वायरल हुई थी। वीडियो के कैप्शन में लिखा गया था, ‘मंडप में तो सभी मांग भरते हैं, तुम मेरी मांग केदारनाथ में भरना’--- इस घटना के बाद संज्ञान लेते हुए पुलिस प्रशासन ने उस समय कहा था, ‘इस तरह की शॉर्ट वीडियो या रील बनाने वालों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। अगर कोई व्यक्ति मंदिर परिसर में रील बनाता हुआ पाया जाता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी’

काशी विश्‍वनाथ में ‘हुआ छोकरा जवां’ : काशी विश्वनाथ मंदिर के बाहर ‘हुआ छोकरा जवां’ पर डांस किया था। यह जून 2023 की बात है। जब वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर के सामने एक बहुत ही भद्दी डांस रील शूट की गई थी, जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। वीडियो में एक युवक और युवती को ‘हुआ छोकरा जवां’ गाने पर डांस करते हुए देखा गया था। हैरान करने वाली बात तो यह थी कि युवक और युवती को डांस करता देख बड़ी संख्या में भीड़ उनके आसपास इकट्ठी हो गई और सभी लोग उनके लिए तालियां बजा रहे थे। हालांकि, घटना के बाद बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के छात्रों ने हरकत का विरोध किया था।
webdunia

भोला बाबा दे दे नोट छापन की मशीन : भोला बाबा देदे नोट छापन की मशीन गाने पर जनवरी 2023 में इंस्टाग्राम इन्फ्लुएंसर तरुण नामदेव की मध्य प्रदेश के मंदसौर में पशुपतिनाथ मंदिर में एक डांस रील बहुत तेज़ी से वायरल हुई थी। दरअसल, तरुण ने पशुपतिनाथ मंदिर के अंदर ‘भोला बाबा देदे नोट छापन की मशीन’ गाने पर डांस किया था। जब मामला थोड़ा गर्माया तो मंदिर प्रशासन ने तरुण को नोटिस दिया और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी। जिसके बाद तरुण ने अपनी रील के लिए माफ़ी मांगी और अपने इंस्टाग्राम पेज से रील को हटाया था।

मुन्‍नी बदनाम हुई पर नाच : ‘मुन्नी बदनाम हुई’ पर किया डांस अक्टूबर 2022 में नेहा मिश्रा नाम की एक सोशल मीडिया इन्फ़्लुएंसर ने मध्य प्रदेश के छतरपुर में एक मंदिर में ‘मुन्नी बदनाम हुई’ गाने पर डांस रील बनाकर अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट की थी। इस हरकत पर बजरंग दल के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने कड़ी आपत्ति जताई थी। घटना के बाद राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पुलिस को नेहा के खिलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने का निर्देश दिया था। आलोचना के बाद नेहा ने रील हटा दी और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए माफ़ी मांगते हुए एक नया पोस्ट किया।

महाकाल गर्भगृह में डांस : महाकालेश्वर मंदिर में बनाई रील अक्टूबर 2022 में, मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर में डांस रील बनाने वाली कुछ लड़कियों का वीडियो इंस्टाग्राम पर तेजी से वायरल हुआ था। वीडियो में एक लड़की मंदिर के गर्भगृह में जलाभिषेक करती हुई दिखाई दे रही है। इस दौरान अन्य लड़कियां मंदिर परिसर के आसपास बॉलीवुड गानों पर डांस कर रही है। तत्कालीन गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने उस समय पर घटना का संज्ञान लिया और मामले की जांच के आदेश दिए। आपको बता दें कि दिसंबर 2022 से महाकालेश्वर मंदिर में मोबाइल फोन प्रतिबंधित है।

रग रग में तू इस तरह समाने लगी : महाकाल मंदिर में शर्मनाक हरकत अक्टूबर 2021 में उज्जैन के महाकाल मंदिर में फिल्मी गाने पर वीडियो बनाने वाली एक महिला के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। दरअसल, महिला ने महाकाल मंदिर में फिल्मी गाने ‘रग रग में तू इस तरह समाने लगी’ पर डांस का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। वीडियो पोस्ट करने के अगले दिन ही विरोध के बाद महिला ने धार्मिक भावना को आहत करने के लिए माफी मांग ली थी। लेकिन, उसी के अगले दिन मंदिर के पुजारियों द्वारा महिला के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

आगर-मालवा में एसपी से भिड़े भाजपा विधायक, FIR के बदले पुलिसकर्मियों पर 3 लाख की रिश्वत लेने का आरोप