Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

श्री गणेश प्रतिमा विसर्जन की शुभ कथा : 10 दिनों की मेहनत से बढ़ गया था गणपति का तापमान

हमें फॉलो करें webdunia
गणेशोत्सव श्री बाल गंगाधर तिलक ने  अंग्रेजों के खिलाफ भारतीयों को एकजुट करने के लिए आयोजित किया था जो कि धीरे-धीरे पूरे राष्ट्र में मनाया जाने लगा है।  
 
धार्मिक ग्रन्थों के अनुसार श्री वेद व्यास ने गणेश चतुर्थी से श्री गणेश को लगातार 10 दिन तक  महाभारत कथा सुनाई थी जिसे श्री गणेश जी ने अक्षरश: लिखा था। 
 
10 दिन बाद जब वेद व्यास जी ने आंखें खोली तो पाया कि 10 दिन की अथक मेहनत के बाद गणेश जी का तापमान बहुत अधिक हो गया है। तुरंत वेद व्यास जी ने गणेश जी को निकट के सरोवर में ले जाकर ठंडा किया था। इसलिए गणेश स्थापना कर चतुर्दशी को उनको शीतल किया जाता है।
 
इसी कथा में यह भी वर्णित है कि श्री गणपति जी के शरीर का तापमान ना बढ़े इसलिए वेद व्यास जी ने उनके शरीर पर सुगंधित सौंधी माटी का लेप किया। यह लेप सूखने पर गणेश जी के शरीर में अकड़न आ गई। माटी झरने भी लगी। तब उन्हें शीतल सरोवर में ले जाकर पानी में उतारा। इस बीच वेदव्यास जी ने 10 दिनों तक श्री गणेश को मनपसंद आहार अर्पित किए तभी से प्रतीकात्मक रूप से श्री गणेश प्रतिमा का स्थापन और विसर्जन किया जाता है और 10 दिनों तक उन्हें सुस्वादु आहार चढ़ाने की भी प्रथा है। 
 
इसलिए प्रतीकात्मक स्वरूप श्री गणेश की माटी की प्रतिमा को स्थापित कर उन्हें 10 दिनों तक खास प्रसाद चढ़ाकर उस समय का स्मरण और सम्मान किया जाता है....और शीतल सरोवर में जिस तरह वेदव्यास जी ने उन्हें राहत दिलाई थी वही दोहरा कर श्री गणेश को पुन: उनके दिव्य धाम के लिए विदा किया जाता है....मान्यता है कि10दिन श्री गणेश धरती पर आते हैं और भक्तों की कामना पूरी करते हैं....

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

श्री गणेश विसर्जन 2021 : जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, मंत्र और कथाएं