Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कोरोना का इलाज माने जाने वाले हिमालयी फूल बुरांश के और भी हैं 10 फायदे, जानिए यहां

हमें फॉलो करें webdunia
Buransh Tree
 
कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अब एक नया पौधा सामने आया है, जिसका नाम है 'बुरांश' (Buransh)। वैज्ञानिकों की मानें तो यह फूल कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं होगा। बुरांश के पौधे का वैज्ञानिक नाम रोडोडेंड्रन अर्बोरियम (Rhododendron arboreum) है। शोधकर्ताओं की मानें तो इसके फूल की पंखुड़ि‍यों में पाया जाने वाला फायटोकेमिकल (Phytochemicals) का इस्‍तेमाल कोरोना वायरस (कोविड-19) के इलाज के तौर पर किया जा सकता है। 
 
यह पौधा ज्यादातर हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड तथा कश्मीर में पाया जाता है। बुरांश उत्तराखंड का राज्य वृक्ष है। ये पौधा भारत के अलावा नेपाल, थाईलैंड, पाकिस्तान, चीन और श्रीलंका में भी पाया जाता है। इसे आमतौर पर बुरस, बराह तथा ब्रास के फूल आदि अन्य नामों से भी जाना जाता है। इस हिमालयी फूल में मिलने वाला कैमिकल जहां हर तरह के संक्रमण को मात देता है, वहीं ये पौधा हमें कोरोना से बचाने में कारगर साबित हो सकता है। यह लाल फूल औषधीय गुणों से भरपूर माना जाता हैं। 
 
यहां जानिए बुरांश फूल के 10 फायदे-Rhododendron Benefits in Hindi
 
1. हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और कश्मीर के रहवासी बुरांश के फूलों तथा इसकी पंखुड़ियों के रस का उपयोग सेहतमंद बने रहने के लिए करते आ रहे हैं तथा इसका स्क्वाश, जैम और शरबत बनाने में भी इसका उपयोग करते हैं। बुरांश के पौधे में पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट तत्व हृदय के लिए लाभदायी होता है तथा इसका सेवन हृदय रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। 
 
2. बुरांश फूल की पंखुड़ियां जुकाम, सिर दर्द, बुखार तथा मांसपेशियों के दर्द को आराम देने में काम भी करती हैं। 
 
3. भारत में तेजी से बढ़ते कोरोना मामले में बुरांश फूल से जल्द ही एक ऐसी दवा आ सकती है, जो कोरोना रोगियों को राहत देने का काम करेगी। 
 
4. बुरांश फूल की पंखुड़ि‍यों में एंटीवायरल खूबियां होने के कारण यह कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम है। 
 
5. अगर लगातार सिर दर्द हो रहा हो तो बुरांश के पत्तों को पीसकर सिर पर लगाने अथवा बुरांश के पत्तों का चूर्ण बनाकर नाक से सूंघने पर भी सिर दर्द में आराम मिलता है। 
 
6. बुरांश डाईयूरेटिक औषधि मानी जाती है। इससे किडनी रोगियों को खुलकर यूरिन लाने तथा लिवर रोग में भी इसका सेवन फायदा देता है। खासकर बुरांश पौधों की छाल में लिवर को सेहतमंद रखने के गुण पाए जाते हैं। 

 
7. अगर आपको सांसों से संबंधित रोग है, तो बुरांश के पौधे का उपयोग आपको लाभ दिला सकता है, इसके लिए आपको बुरांश के सूखे पत्तों को उपयोग में लाना होगा, इन पत्तों को आप तम्बाकू के साथ मिलाकर इसके धुएं की सांस लेने से श्वसनतंत्र के रोग में लाभ मिलेगा। 
 
8. डायबिटीज या मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए बुरांश को आयुर्वेदिक दवा के तौर पर इस्तेमाल‍ किया जाता है। एक रिसर्च के अनुसार, बुरांश में पाया जाने वाला एन्टी हिपेरग्लिसेमिक नामक गुण रक्त में मौजूद शुगर की मात्रा नियंत्रित करने का काम करता है। 
 
9. कुछ लोगों को शरीर में जलन की शिकायत रहती है, ऐसे समय में बुरांश के पौधे के औषधीय गुणों से आप लाभ ले सकते हैं, इसके लिए बुरांश के फूलों का शर्बत बनाकर पीने से शरीर की जलन शांत होकर इस समस्या से राहत मिलती है। Buransh Juice Benefits
 
10. बुरांश का पौधा कोरोना के अलावा स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है, क्योंकि यह पौधा जहां आयरन, कैल्शियम, जिंक कॉपर आदि पोषक तत्वों से भरा है, वहीं इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल गुण शरीर को स्वस्थ रखने तथा शरीर की कमजोरी दूर करने का कार्य करते हैं। 
 
आरके.
 
अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Benefits of Basil : सुबह खाली पेट तुलसी खाने के फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप