Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ठंड में बढ़ती है गठिया की समस्या, लेकिन इलाज है आसान, जानिए 5 जरूरी टिप्स

हमें फॉलो करें webdunia
गठिया, जोड़ों में होने वाली एक तकलीफ है, जिसका सही समय पर उपचार बेहद आवश्यक है। गठि‍या के उपचार के लिए जरूरी है, उसकी पहचान होना। इसलिए जब भी आप जोड़ों में तकलीफ महसूस करें, डॉक्टर की सलाह से गठि‍या का पता लगाएं, और उसके बाद ही उसके उपचार की ओर ध्यान दें।
 
बहुत से लोगों को जैसे ही मालूम होता है कि उन्हें गठिया है, तो वे जीने की उमंग ही खो बैठते हैं। लेकिन जिस तरह हर मुश्किल का सामना किया जा सकता है, उस तरह गठिया का भी मुकाबला करके सेहत को बेहतर बनाया जा सकता है और दर्द को कम किया जा सकता है। जानिए कुछ आसान तरीके -
 
1 अगर आप जोड़ों में या जोड़ों के आसपास दर्द, अकड़ाहट या सूजन महसूस कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें, बजाए खुद यह तक करके बैठने के, कि आपको गठिया है। जब एक बार डॉक्टर यह तय कर दें कि गठिया है तो उससे उसका प्रकार मालूम कर लें। क्योंकि गठिया कई किस्म का होता है और हरेक का अलग-अलग तरह से उपचार होता है। सही डायग्नोसिस से ही सही उपचार हो सकता है।
 
2 सही डायग्नोसिस जल्द हो जाए तो अच्छा। जल्द उपचार से फायदा यह होता है कि नुकसान और दर्द कम होता है। उपचार में दवाइयां, वजन प्रबंधन, कसरत, गर्म या ठंडे का प्रयोग और जोड़ों को अतिरिक्त नुकसान से बचाने के तरीके शामिल हैं।
 
3 जोड़ों पर दबाव से बचें। ऐसी मशीनें भी उपलब्ध हैं जिससे रोजमर्रा का काम आसान हो जाता है। जितना वजन बताया गया है, उतना ही बरकरार रखें। ऐसा करने से कूल्हों व घुटनों पर नुकसान देने वाला दबाव कम पड़ता है।
 
4 कसरत करें। कसरत करने से दर्द कम हो जाता है, क्र‍ियाशीलता में वृद्धि होती है, थकान कम होती है और आप पूरी तरह स्वस्थ रहते हैं। गठिया के लिए मजबूती प्रदान करने वाली भी कई कसरतें हैं। अपने डॉक्टर या फिटनेस विशेषज्ञ से उसके बारे में मालूम कर लें।
 
स्ट्रैचिंग एक्सरसाइज से जोड़ व मांसपेशियां लचीले रहते हैं। इससे तनाव कम होता है और रोजाना की गतिविधियां जारी रखने में भी मदद मिलती है। इसलिए स्ट्रेचिंग वाली एक्सरसाइज या खिंचाव वाली एक्सरसाइज जरूर करें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

‘कॉम्पीटीशन’ की दौड़ में कोचिंग की ‘होड़’ कब तक?