lockdown : घर की इन चीजों को नियमित करें साफ वरना सेहत को होगा नुकसान

इस समय देश की कोरोना वायरस के कारण जो स्थिति है, उसको ध्यान में रखते हुए हमें अपने साथ-साथ घर की साफ-सफाई का विशेषतौर पर ध्यान रखना बेहद जरूरी हो जाता है। वैसे तो सभी लोग अपने घर को रोजाना ही साफ करते व करवाते हैं, लेकिन कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हें नियमित साफ करने पर अधिकांश लोग जोर नहीं देते। यदि इन चीजों को साफ करना भूले तो उनके इस्तेमाल से घर के सदस्यों को इससे खतरा हो सकता है, क्योंकि अधिकतर हम इन चीजों का इस्तेमाल करते हैं और ये चीजें वायरस फैलाने का कारण भी बनती हैं।
 
तो आइए जानें कुछ महत्वपूर्ण बातें, जो इस समय हमें ध्यान रखना बेहद जरूरी हैं।
 
1 घर का मेन गेट -
 
बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि घर के मुख्य दरवाजे व मेन गेट को भी रोजना साफ करना चाहिए। ऐसा करने से घर में पॉजिटिविटी आने के साथ ही इंफेक्शन का खतरा भी कम होता है।
 
2 डिश टॉवेल -
 
जिस तौलिये से आप घर के बर्तनों को पोंछते हैं उसे डिश टॉवेल कहते है। उन्हें भी रोजाना साफ करना जरूरी होता है वरना गंदे डिश टॉवेल इस्तेमाल करने से बर्तन साफ होने की बजाय गंदे होंगे और बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ जाएगा।
 
3 किचन और बाथरूम का फर्श -
 
इन दो जगहों पर गंदगी फैलने की सबसे ज्यादा आशंका रहती है। बाथरूम और किचन को व इनमें लगे सिंक को नियमित अच्छे एंटी-बैक्टीरियल लिक्व‍िड से साफ करें।
 
4 रिमोट कंट्रोल -
 
चाहे टीवी का रिमोट हो या एसी का, कई लोग इन्हें छूते है, कई बार खाते खाते हुए उन्हीं हाथों से रीमोट का इस्तेमाल करते है। जिस वजह से उनमें गंदगी चिपक जाती है।
 
5 महिलाएं अपने पर्स को रोजाना साफ करें -
 
महिलाएं अपने पर्स में कई तरह का सामान रखती है, दिनभर उसे अपने साथ ले जाते हुए यहां-वहां, रखने का काम पड़ता है। ऐसे में पर्स नीचे से काफी गंदा हो जाता है। गंदे पर्स को अगर आपने घर के सोफे या बेड पर रखा तो इंफेक्शन का खतरा खतरा होता है। इसलिए अपने पर्स को नीचे से व अदंर से अच्छी तरह से साफ रखें।
 
6 लैपटॉप की नियमित करें साफ-सफाई
 
इस वक्त अधिकतर लोग 'वर्क फ्रॉम होम' हैं और हम में से अधिकतर लोग लैपटॉप का जरूर इस्तेमाल करते ही होंगे लेकिन इसकी सफाई पर उतना ध्यान नहीं देते। यदि आप भी यही गलती कर रहे हैं तो इस गलती को तुरंत सुधार लें और काम करने से पहले इसे साफ करना न भूलें।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख ‘रिस्क’ केवल नागरिक ही ले सकते हैं, सरकारें नहीं!