Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

फलाहार में खाते हैं साबूदाना, तो इसके 10 फायदे भी आपको जानना चाहिए

हमें फॉलो करें sabudana ke sehet fayde
अक्सर लोग उपवास के फलाहार में साबूदाना से बनी डिश ही ज्यादा खाते हैं। अगर आप भी साबूदाना से बने व्यंजन खाना पसंद करते हैं, तो फिर  साबूदाना के ये 10 सेहत फायदे भी आपको जानना चाहिए -
 
1 गर्मी पर नियंत्रण - एक शोध के अनुसार साबूदाना आपको तरोताजा रखने में मदद करता है, और इसे चावल के साथ प्रयोग किए जाने पर यह शरीर में बढ़ने वाली गर्मी को कम कर देता है।
 
2 दस्त लगने पर - जब किसी कारण से पेट खराब होने पर दस्त या अतिसार की समस्या होती है, तो ऐसे में बगैर दूध डाले साबूदाने की बनी हुई खीर बेहद असरकारक साबित होती है और तुरंत आराम देती है।
 
3 ब्लड प्रेशर - साबूदाने में पाया जाने वाल पोटेशियम रक्त संचार को बेहतर कर, उसे नियंत्रित करता है, जिससे ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। इसके अलावा यह मांसपेशियों के लिए भी फयदेमंद है।

4 पेट की समस्याएं - पेट में किसी भी प्रकार की समस्या होने पर साबूदाना खाना काफी लाभप्रद सिद्ध होता है, और यह पाचनक्रिया को ठीक कर गैस, अपच आदि समस्याओं में भी लाभ देता है।
 
5 एनर्जी - साबूदाना कार्बोहाइड्रेट का एक अच्छा स्त्रोत है, जो शरीर में तुरंत और आवश्यक उर्जा देने में बेहद सहायक होता है। 
 
6 गर्भ के समय - साबूदाने में पाया जाने वाला फोलिक एसिड और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स गर्भावस्था के समय गर्भ में पल रहे शिशु के विकास में सहायक होता है।

 
7 हड्डियां बने मजबूत - साबूदाने में कैल्शियम, आयरन, विटामिन-के भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाए रखने और अवश्यक लचीलेपन के लिए बहुत फायदेमंद होता है।
 
8 वजन - जिन लोगों में ईटिंग डिसऑर्डर की समस्या होती है उनका वजन आसानी से नहीं बढ़ पाता। ऐसे में साबूदाना एक बेहतर विकलप होता है जा उसका वजन बढ़ाने में सहायक है।
 
9 थकान - साबूदाना खाने से थकान कम होती है। यह थकान कम कर शरीर में आवश्यक उर्जा के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है।

 
10 त्वचा - साबूदाने का फेसमास्क बनाकर लागाने से चेहरे पर कसाव आता है, और झुर्रियां भी कम होती है। यह त्वचा में कसाव बनाए रखने के लिए भी फायदेमंद है।
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Indira Gandhi Death Anniversary : इंदिरा गांधी के बचपन से लेकर अंतिम पल तक का सफर