Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सर्दियों के मौसम में ये 5 सब्जियां आपकी सेहत चमका देगी

हमें फॉलो करें webdunia

अनिरुद्ध जोशी

बुधवार, 2 नवंबर 2022 (15:19 IST)
These 5 vegetables in winter season: सब्जियां हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं बशर्ते हम उन्हें उचित तरीके से साफ करने के बाद उचित तरीके से पकाएं। कहते हैं कि अधपकी सब्जी में ज्यादा पोषक तत्व होते हैं। हर मौसम की अपनी सब्जियां होती हैं। भोजन में रोटी का कम और सब्जियों का ज्यादा उपयोग करना चाहिए। आओ जानते हैं सदियों के मौसम में खाई जाने वाली 5 खास ही सब्जियां। 
 
नोट : जब भी आप खाना खाने बैठें तो साथ में टमाटर, मूली और गाजर भी साथ में जरूर खाएं।
 
1. कोझियारी भाजी : कोझियारी भाजी की भाजी साल में दो तीन बार जरूर खाएं। इससे खाने से हर तरह के रोग दूर हो जाते हैं। अधिकतर आदिवासी इस भाजी को खाते हैं। माना जाता है कि इसे खाने वाला कभी बीमार नहीं पड़ता। छत्तीसगढ़ के बैगा आदिवासी लोग इस भाजी को खाकर हमेशा स्वस्थ और तंदुरुस्त बने रहते हैं। बैगा आदिवासी मानते हैं कि जंगलों में पाई जाने वाली कोझियारी भाजी को साल में एक बार जरूर खाना चाहिए। कोझियारी भाजी यानी जंगल में होने वाली सफेद मूसली का पत्ता। ये सभी जानते हैं कि सफेद मूसली शक्तिवर्धक औषधि है। 
 
2. चौलाई का साग (amaranth) : चौलाई का साग तो आपने खाया ही होगा लेकिन बहुत कम, कभी-कभार। यह सब्जी बहुत ही आसानी से मिल जाती है। यह हरी पत्तेदार सब्जी है जिसके डंठल और पत्तों में प्रोटीन, विटामिन ए और खनिज की प्रचुर मात्रा होती है। चौलाई में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन-ए, मिनरल्स और आयरन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।
 
इस सब्जी को खाने से आपके पेट और कब्ज संबंधी किसी भी प्रकार के रोग में लाभ मिलेगा। पेट के विभिन्न रोगों से छुटकारा पाने के लिए सुबह-शाम चौलाई का रस पीने से भी लाभ मिलता है। चौलाई की सब्जी का नियमित सेवन करने से वात, रक्त व त्वचा विकार दूर होते हैं।
 
चौलाई को तंदुलीय भी कहते हैं। चौलाई दो तरह की होती है- एक सामान्य पत्तों वाली तथा दूसरी लाल पत्तों वाली। कटेली चौलाई तिनछठ के व्रत में खोजी जाती है। भादौ की कृष्ण पक्ष की षष्ठी को यह व्रत होता है। चौलाई को खाने से आंतरिक रक्तस्राव बंद हो जाता है। यह सब्जी खूनी बवासीर, चर्मरोग, गर्भ गिरना, पथरी रोग और पेशाब में जलन जैसे रोग में बहुत ही लाभदायक सि‍द्ध हुई है।
webdunia
3. बथुआ (chenopodium) : बथुआ सब्जी का नाम बहुत कम लोगों ने नहीं सुना होगा। बथुआ एक वनस्पति है, जो खरीफ की फसलों के साथ उगती है। बथुए में लोहा, पारा, सोना और क्षार पाया जाता है। बथुए में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है। ग्रामीण क्षेत्र में इसकी अधिकतर सब्जी बनाई जाती है। इसका रायता भी बनता है। इसका शरबत के रूप में भी उपयोग होता है। जैसे मैथी या गोभी के पराठे बनाए जाते हैं उसी तरह बथुए का पराठा भी स्वादिष्ट होता है। 
 
यह गोंगुरा या पालक के पत्तों की तरह दिखने वाला छोटा-सा हरा-भरा पौधा काफी लाभदायक है। बथुआ न सिर्फ पाचनशक्ति बढ़ाता बल्कि अन्य कई बीमारियों से भी छुटकारा दिलाता है। सर्दियों में इसका सेवन कई बीमारियों को दूर रखने में मदद करता है। यह शाक प्रतिदिन खाने से गुर्दों में पथरी नहीं होती। कब्ज और पेटरोग के लिए तो यह रामबाण है। बथुआ आमाशय को बलवान बनाता है, गर्मी से बढ़े हुए यकृत को ठीक करता है। इसकी प्रकृति तर और ठंडी होती है तथा यह अधिकतर गेहूं के खेत में गेहूं के साथ उगता है और जब गेहूं बोया जाता है, उसी सीजन में मिलता है।
 
4. ताजा हरा लहसुन (Fresh green garlic) : जैसे हरा प्याज होता है, उसी तरह हरा लहसुन होता है। प्याज के लंबे पत्तों की तरह लहसुन के पत्ते भी लंबे होते हैं। इनको काटकर सब्जी बनाई जाती है, जैसे मूली के पत्तों की सब्जी बनाई जाती है उसी तरह। इसका स्वाद बढ़ाने के लिए लहसुन के पत्तों को किसी अन्य सब्जी जैसे गोभी या आलू के साथ मिलाकर भी बना सकते हैं। यह सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद है। इसकी सब्जी हृदय रोग और कैंसर जैसे रोग को नहीं होने देती है। यह इम्युन पावर भी बढ़ाती है।
 
5. पालक (spinach ): सर्दियों में पालक खाने के बहुत सारे फायदे हैं। इसमें भरपूर आयरन होता है जिससे खून की कमी दूर होती है। इसाथ ही इसमें विटामिन ए, बी, सी कैल्शियम, एमिनो और फोलिक एसिड भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। पालक की सब्जी बनाकर खाएं या इसका ज्यूस बनाकर पिएं यह दोनों ही फायदेमंद है। इसे कच्चा भी खा सकते हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

रास्ते अलग-अलग नजर आ रहे हैं शिवराज और वीडी शर्मा के