यह है ठहाकेदार जोक : पितृभाषा क्यों नहीं?

हिन्दी हमारी मातृभाषा है, पितृभाषा क्यों नहीं?
.
.
.
क्योंकि माताजी ने पिताजी को कभी बोलने ही नहीं दिया।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख सबसे मस्त जोक : आने वाली Generation में मां अपने बच्चों से बोलेगी