पांडव पंचमी : क्षमावान, दयालु और सत्यवादी थे महाभारत के ये 5 अतुलनीय योद्धा...

प्रतिवर्ष कार्तिक मास की पंचमी तिथि को पांडव पंचमी पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष पांडव पंचमी सोमवार, 12 नवंबर 2018 को पड़ रही है। महाभारत का अधिकांश घटनाक्रम पांडवों और कौरवों से संबंधित है।
 
महाभारत के 5 प्रसिद्ध वीर योद्धा थे पांडव, जिन्हें पांडु पुत्रों के रूप में जाना जाता है। पांडु के पांचों पुत्रों में से युधिष्ठिर, भीम और अर्जुन की माता कुंती थीं तथा नकुल और सहदेव की माता माद्री थी। यहां जानिए 5 पांडवों का अद्‍भुत चरित्र : 
 
पांडव 5 भाई थे जिनके नाम ये हैं :-  1. युधिष्ठिर 2. भीम 3. अर्जुन 4. नकुल 5. सहदेव
 
***** 
 
महाभार‍त के योद्धा 5 पांडवों का अतुलनीय चरित्र 
 
* युधिष्ठिर : धर्मात्मा एवं सत्यवादी योद्धा। 
 
* भीम : अपनी शक्ति के लिए प्रसिद्ध।
 
* अर्जुन : महान योद्धा एवं धर्नुधर के रूप में विश्वविख्यात।
 
* नकुल : निपुण घुड़सवार, पशु विशेषज्ञ।
 
* सहदेव : तलवार में निपुण।
 
* इन पांचों के अलावा, महाबली कर्ण भी कुंती के ही पुत्र थे, परंतु उनकी गिनती पांडवों में नहीं की जाती है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING