Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

एक सदी पुरानी इंदौर की विक्टोरिया लाइब्रेरी

हमें फॉलो करें webdunia
webdunia

अपना इंदौर

इंदौर रेसीडेंसी व छावनी क्षेत्र के शिक्षित-प्रबुद्ध वर्ग की ज्ञान पिपासा शांत करने के लिए 1881 ई. में एक सार्वजनिक संस्‍था की स्थापना का विचार मूर्तरूप लेने लगा था, तब एक छोटा वाचनालय यहां स्‍थापित किया गया था। यह एक संयोग ही था। इसकी स्थापना के कुछ वर्षों बाद ही इंग्लैंड की महारानी विक्टोरिया की जुबली मनाई जाने की घोषणा की गई। तभी इस वाचनालय को 'विक्टोरिया लाइब्रेरी' का स्वरूप देने का निश्चय किया गया।
 
संयोगितागंज हाईस्कूल के परिसर में लगी हुई प्राचीन इमारत जिसके द्वार पर 'महादेवी वर्मा ग्रंथालय' का नामपट्ट लगा हुआ है। अभी कुछ वर्षों पूर्व तक विक्टोरिया लाइब्रेरी के नाम से जानी जाती थी।
 
इंदौर रेसीडेंसी व छावनी क्षेत्र के शिक्षित-प्रबुद्ध वर्ग की ज्ञान पिपासा शांत करने के लिए 1881 ई. में एक सार्वजनिक संस्‍था की स्थापना का विचार मूर्तरूप लेने लगा था, तब एक छोटा वाचनालय यहां स्‍थापित किया गया था। यह एक संयोग ही था। इसकी स्थापना के कुछ वर्षों बाद ही इंग्लैंड की महारानी विक्टोरिया की जुबली मनाई जाने की घोषणा की गई। तभी इस वाचनालय को 'विक्टोरिया लाइब्रेरी' का स्वरूप देने का निश्चय किया गया।
 
ग्रंथालय भवन के निर्माण के लिए समिति ने 4000 रु. का संकलन कर लिया तो रेसीडेंसी अधिकारियों ने ग्रंथालय भवन के निर्माण हेतु भूमि प्रदान कर दी। देखते ही देखते वर्तमान भवन निर्मित हुआ और 17 नवंबर 1887 को एक समारोह में सेंट्रल इंडिया के लिए भारत सरकार के गवर्नर जनरल के एजेंट सर लिपल ग्रिफिन ने इस ग्रंथालय को विधिवत उद्घाटित घोषित किया।
 
ग्रंथालय भवन के निर्माण पर अनुमानित व्यय से अधिक धन लग गया था और भवन निर्माण समिति पर 1,200 रु. का कर्ज हो गया था। 1889 की बात है, जब यह समस्या कार्यवाहक ए.जी.जी. मिस्टर हेनवी के समक्ष रखी गई तो उन्होंने तत्काल 1,000 रु. का अनुदान ग्रंथालय के लिए स्वीकृत कर दिया।
 
1905 ई. में इस ग्रंथालय के पुराने नियमों को संशोधित किया गया और इसका प्रबंध संभ्रांत नागरिकों की समिति को सौंप दिया गया जिसमें सभी वर्ग के नागरिक थे। उस समय इसके सदस्यों की कुल संख्या 81 थी जिनमें 41 हिन्दू, 23 पारसी, 8 मुस्लिम व 9 ईसाई थे। इनमें 39 शासकीय कर्मचारी थे और शेष इंदौर रेसीडेंसी व होलकर राज्य के अधिकारी थे। उस वर्ष ग्रंथालय की आय 40 रु. थी और 15 रु. मासिक अनुदान रेसीडेंसी से प्राप्त होता था। उसी वर्ष प्रथम सहायक मिस्टर रेनॉल्ड ने विक्टोरिया लाइब्रेरी का अवलोकन किया व प्रभावित होकर 1,000 रु. का अनुदान दिया।
 
1911 ई. में इस लाइब्रेरी के अध्यक्ष श्री पी. नंदलाल थे, जिन्होंने ए.जी.जी. को एक विस्तृत आवेदन पत्र प्रस्तुत करते हुए ग्रंथालय भवन की दुरुस्ती, पुस्तकों के क्रय व कर्मचारियों के वेतन हेतु अधिक अनुदान की मांग की थी। उन्होंने भवन की उपयोगिता बताते हुए इस बात को भी रेखांकित किया था कि रेसीडेंसी के कर्मचारियों के यहां सार्वजनिक कार्यक्रम भी आयोजित होते रहते हैं।
 
आजादी के बाद भी यह ग्रंथालय उपेक्षा का शिकार बना रहा। भवन जीर्ण-शीर्ण हो गया है और अतिक्रमण का शिकार हो रहा है। रोटरी क्लब ने इसकी सुध ली है और वर्तमान रख-रखाव व संचालन का दायित्व अपने ऊपर ले लिया है, फिर भी बहुमूल्य भूमि, भवन व ग्रंथों की सुरक्षा के लिए बड़ी निधि की आवश्यकता है। शासन, नगर निगम, विश्वविद्यालय, नागरिक व उद्योगपतियों का समूह मिलकर इसकी रक्षा कर सकता है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

नौकरी कर रहे कश्मीरी पंडितों का सवाल, क्या कश्मीर में सच में कोई जगह सुरक्षित है?