Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Diwali Rangoli : आंगन में रंगों से कल्पना को करें साकार, जानें रंगोली के 7 प्रकार

webdunia
Diwali Rangoli- व्रत त्योहार हो या कोई पूजा अनुष्ठान...किसी भी प्रकार के मंगल कार्य में रंगोली का बहुत महत्व है और अगर बात की जाए दीपों के पर्व दिवाली की, तो रंगोली के बिना इस त्योहार की कल्पना भी नहीं की जा सकती। आखिर यही तो है हमारी संस्कृति का वह प्रतीक जो जीवन के रंगों को दर्शाकर मन को भी खुशहाली से भर देता है। 
 
समय के साथ-साथ रंगोली बनाने के तरीकों में भी बदलाव आया है, लेकिन इसे लेकर उत्साह और बढ़ा ही है। यही कारण है कि पारंपरिक रंगोली का नयापन भी मन को मोहता है। आइए जानते हैं, कितने प्रकार की बनती है रंगोली - 
 
1 प्राकृतिक रंगोली- अगर आप बाजार में मिलने वाली रंगोली का उपयोग नहीं करना चाहते, तो घर में प्राकृतिक रंगोली तैयार कर आकृतियां बना सकते हैं। इसके लिए आप घर पर ही सूजी व चावल के आटे को अलग-अलग रंगों में रंग सकते हैं। इसके अलावा हल्दी, मसूर की दाल व बेसन का उपयोग कर सकते हैं।
 
 
2 मांडना- वर्तमान में रंगोली का प्रचलन सबसे अधिक है, लेकिन पुरानी परंपरानुसार आज भी आंतरिक इलाकों में मांडने बनाए जाते हैं। यह घर के आंगन या फर्श पर प्राकृतिक रंगों का उपयोग कर आकर्षक ढंग से बनाए जाते हैं। आप अगर ही दिन रंगोली नहीं बनाना चाहते तो मांडना पारंपरिक और खूबसूरत तरीका है।मांडने की एक खासियत यह भी है, कि यह लंबे समय तक बने रहते हैं। इसे बनाने के लिए गीले रंगों का प्रयोग किया जाता है, जो सूखने के बाद लंबे समय तक उतने ही आकर्षक नजर आते हैं।
 
 
3 फूलों की रंगोली- रंगोली बनाने का एक बेहद खूबसूरत तरीका यह भी है। दुनिया में फूलों से ज्यादा सुंदर चीज और कुछ भी नहीं। इन्हीं रंगबिरंगे फूलों और पंखुड़ियों का प्रयोग कर जब रंगोली बनाई जाती है, तो यह न केवल आंखों को खूबसूरत दिखाई देती है, बल्कि इसकी महक से आपका मन भी इस खूबसूरती को महसूस करने लगता है। दक्षिण भारत में खास तौर से इस तरह की रंगोली बनाई जाती है, और अब हर जगह यह प्रचलन है।
 
4 दीपों की रंगोली- घर के बरामदे या बड़े आंगन में कई दीपों और फूलों की पंखुड़ियों को सजाकर बनाई गई यह रंगोली जगमगाती हुई बेहद आकर्षक लगती है। खास तौर से दीपावली की रात यह रंगोली बनाई जाती है, जो पूरे वातावरण को रोशन करने के साथ ही महका देती है। आप इसके लिए खुशबूदार दीपों का प्रयोग भी कर सकते हैं। 
 
5 कृत्रिम सांचों से बनी रंगोली- यह रंगोली बाजार में उपलब्ध अलग-अलग आकृतियों और सांचों से बनाई जाती है, जिसके लिए आपको हाथ से मेहनत करने की जरूररत नहीं होती। बस सांचे में रंगोली भरकर अपने अनुसार आकृतियां उकेरी जा सकती हैं। इसमें पहले जमीन पर छन्नी से रंगों को समान रूप से फैलाया जाता है, उसके बाद सांचे या फिर छापों की सहायता से सफेद रंगोली का उपयोग कर आकृतियां बनाई जाती है। यह रंगोली अापके लिए बनाना आसान भी होगा और समय की बचत भी होगी।
 
 
6 रंगों की ओली रंगोली- रंगों की सहायता से, कई लयबद्ध बिंदुओं को मिलाते हुए रंगोली की कई सुंदर-सुंदर आकृतियां बनाई जाती हैं, जो बेहद आसान और आकर्षक होती है। यह तरीका आसान होने के कारण युवतियों के साथ ही छोटी बालिकाएं भी आसानी से रंगोली को आकार दे सकती हैं। इसके बाद इसमें अपने अनुसार रंग भरकर इसे और भी आकर्षक बनाया जाता है। तब तैयार होती है, खूबसूरत रंगोली। अगर आपको रंगोली बनाना कठिन लगता है, तो आपके लिए सबसे बेहतर तरीका यही है। इसके लिए बाजार में किताब उपलब्ध है।
 
 
7 तैलीय रंगों की रंगोली- जी हां, तैलीय रंगों और सामान्य पक्के रंगों द्वारा भी रंगोली बनाई जाती है, जो लंबे समय तक बरकरार रहती है। इसे बार-बार बनाने की आवश्यकता नहीं होती और आप इसके लिए जितने चाहें उतने रंगों का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप इसे सीधे ब्रश की सहायता से मनचाही आकृतियों में घर के आंगन, फर्श या फिर आप जहां चाहें बना सकते हैं। इन 7 तरीकों से आप अपने आगन की रंगोली को सजा सकते हैं। 

7 दिनों की 7 रंगोली और उनका महत्व जानकर हैरान रह जाएंगे आप
दिवाली पर मांडना या रंगोली में किस चीज की आकृति बनाते हैं, जानिए
दीपावली पर रंगोली क्यों बनाते हैं, जानिए इतिहास
webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

World Diabetes Day 2020: डायबिटीज रोगियों को पता होनी चाहिए ये जरूरी बातें