Amla Navami Recipes : इन खास व्यंजनों से मनाएं आंवला नवमी का पर्व, बनेंगे स्वस्थ और तंदुरुस्त

आंवला नवमी पर आंवला वृक्ष के पूजन के साथ-साथ आंवले के व्यंजन खाने का खास महत्व है। आंवला पाचनशक्ति बढ़ाकर भूख बढ़ाता है तथा आलस्य को दूर करता है। अत: इस दिन खास तौर पर आंवले का सेवन किया जाना चाहिए। यहां आपके लिए प्रस्तुत हैं आंवले कुछ खास व्यंजन, आइए जानें 
 
मुरब्बा
 
सामग्री : 1 किलो ताजे आंवला, 10 ग्राम चूना, 25 ग्राम मिश्री, सवा किलो शक्कर, 1 चम्मच काली मिर्च, 5-7 केसर के लच्छे, पाव चम्मच इलायची पावडर।
 
विधि : 1 किलो ताजे एवं साफ-सुथरे आंवले लेकर पानी में तीन दिन भीगने दें। इसके बाद उन्हें पानी से निकालकर कांटों से गोद लें और चूना पानी में घोलकर उसमें आंवले को तीन दिन तक भीगने दें। चौथे दिन साफ पानी से धोकर मिश्री तथा पानी में उन्हें भाप दें। फिर कपड़े पर फैलाकर सुखा लें।
 
 
अब चाशनी बनाकर उसमें आंवले छोड़ दें और पकाएं। जब आंवले अच्छी तरह गल जाएं तब उसमें काली मिर्च, केसर और इलायची मिला दें। तत्पश्चात मुरब्बा ठंडा करके मर्तबान में भरकर रख दें। तैयार आंवले का मुरब्बा दिल को ताकत और दिमाग को तरोताजा करने साथ-साथ सेहत के बहुत ही लाभदायी है। 
 
आंवले के खुरमे की सब्जी
 
सामग्री : 200 ग्राम बेसन, 10-15 कली सूखे आंवले (जो बाजार में सूखे हुए मिलते हैं), 4-5 हरी मिर्च, 4-5 कली लहसुन, अदरक एक गांठ (बारीक कटी हुई), 250 ग्राम प्याज (किसी हुई), 1 चम्मच लाल मिर्च, 1 चम्मच सूखा धनिया, 1 चम्मच हल्दी, 2 बड़े चम्मच मॉयन के लिए तेल 1/2 (आधा) चम्मच सौंफ, जीरा, अजवाइन, तेलपात, स्वादानुसार नमक, गरम मसाला, तलने के लिए तेल। 
 
(ऊपर दी गई सामग्री को दो हिस्सों में करना है। आधा आंवले के खुरमे के लिए व आधा तरी वाली सब्जी के लिए)। 
 
खुरमे बनाने की विधि : सबसे पहले 10-15 सूखे आंवलों को गरम तेल में तलिए, ठंडा होने पर बारीक मिक्सी में पीसिए। आंवला और बेसन साथ में मिलाकर छान लीजिए। ऊपर दी गई सामग्री में से आधी सामग्री बेसन के साथ मिला लीजिए (प्याज, हरी मिर्च, अदरक, लहसुन, सौंफ, अजवाइन, लाल मिर्च, स्वादानुसार नमक, मॉयन के लिए दो चम्मच तेल) आदि सभी सामग्री डालकर खुरमे की तरह आटा गूंथ लें। गैस पर कड़ाही रखकर तेल गरम करके गूंथे हुए आटे की छोटे, गोल, चपटे खुरमे बनाकर तलिए, सुनहरा होने पर निकालिए।

 
तरी के लिए सामग्री : सबसे पहले कड़ाही में दो बड़े चम्मच तेल डालकर गरम करें। फिर उसमें जीरा व तेजपान और उपरोक्त बची हुई आधी सामग्री (अदरक, हरी मिर्च, प्याज, लहसुन) डालकर सुनहरा होने तक भूनें। फिर उसमें एक-एक चम्मच सूखा धनिया, लाल मिर्च, हल्दी डालकर भूनें।
 
जब मसाले तेल छोड़ने लगे तो आधा लीटर पानी डालकर एक उबाली लें, और आंवले के खुरमे डाल दें। फिर 15 से 20 मिनट तक पकने दें। पकने के बाद आधा चम्मच गरम मसाला व हरा धनिया डालकर गर्म-गर्म पराठे के साथ सर्व करें।
 
पाचनशक्ति बढ़ाने वाला आंवले का अचार
 
सामग्री : 1 किलो ताजे हरे आंवले, बादाम 100 ग्राम, लालमिर्च आधा चम्मच, अदरक 50 ग्राम, प्याज 50 ग्राम, नमक स्वादानुसार, सरसों का तेल आवश्यकतानुसार।
 
विधि : आंवले को साफ करके उनमें छुरी से चरके लगा लें (गोद लें) ताकि उनके अंदर मसाला भरा जा सकें। तत्पश्चात बादाम को छोड़कर सभी सामग्री को कूटकर मसाला तैयार करें और आंवले में डाल दें। फिर सरसों का तेल डालकर उनको छौंक लें। जब खूब भुन जाए तो उन्हें ऊपर से किसी बर्तन से ढंकें और कुछ मिनट बाद उतार लें। लीजिए अब बड़ा ही स्वादिष्ट अचार तैयार हो जाएगा। 
 
अब इसे शीशे के स्वच्छ मर्तबानों में डालकर रख दें और काम में लाएं। यह अचार पाचनशक्ति को बढ़ाने के साथ-साथ भूख को बढ़ाकर शरीर के आलस्यपन को दूर करता है।
 

भरवां आंवला अचार
 
सामग्री : 1 किलो ताजे बड़े आकार के आंवले, 100 ग्राम राई, 100 ग्राम सरसों, 100 ग्राम पिसी लाल मिर्च, आधा चम्मच हल्दी, 25 ग्राम सौंफ, चुटकीभर हींग, 500 ग्राम मीठा तेल, नमक स्वादानुसार।

 
विधि : आंवलों को धोकर कपड़े से साफ पौंछ कीजिए। अब एक बर्तन में आंवले डालकर दो बड़े चम्मच तेल डालकर धीमी आंच पर पकाएं। हल्के से पकने पर उन्हें आंच से उतार कर ठंडा कर लें। तत्पश्चात आंवलों की गुठलियां अलग कर दें।
 
अब कड़ाही में तेल गरम करके उसे थोड़ा-सा ठंडा कर लें। इस तेल में उपरोक्त सभी मसालें डालकर चलाएं। पूरी तरह ठंडा होने पर आंवले में चम्मच की सहायता से मसाला भर दें और जार में भरकर बंद कर दें। लीजिए तैयार है चटपटा भरवां आंवला अचार।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख आंवला नवमी की कथा : आंवल्या राजा की यह विशेष कथा है सबसे प्रामाणिक