Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मध्यकाल के संत चैतन्य महाप्रभु की जयंती

webdunia
chaitanya mahaprabhu birthday
- आचार्य गोविन्द बल्लभ जोशी 
 
भारतीय उपासना पद्धति में व्रत उत्सवों का बहुत महत्व है। शैव, वैष्णव सहित सभी उपासक इनको बहुत पवित्रता से आचरण में उतारते हैं। जिन-जिन आचार्यों ने उपासना पद्धतियों में जो कुछ भी विशेष उपलब्धियां प्राप्त की वह जन मानस में स्वीकार होती चली गईं। 
 
चैतन्य महाप्रभु ऐसे संत हुए हैं जिन्होंने भक्ति मार्ग का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत किया। चैतन्य देव का आविर्भाव पूर्वबंग के अपूर्व धाम नवद्वीप में फाल्गुन पूर्णिमा, होली के दिन हुआ था। उनके पिता का नाम पंडित जगन्नाथ मिश्र और माता का नाम शचीदेवी था।
 
 
24 (चौबीस) वर्ष की अवस्था में लोककल्याण की भावना से संन्यास धारण किया, जब भारत वर्ष में चारों ओर विदेशी शासकों के भय से जनता स्वधर्म का परित्याग कर रही थी। तब चैतन्य महाप्रभु ने यात्राओं में हरिनाम के माध्यम से हरिनाम संकीर्तन का प्रचार कर प्रेमस्वरूपा भक्ति में बहुत बड़ी क्रांति फैला दी। संन्यास ग्रहण के पश्चात श्री चैतन्य ने दक्षिण भारत की ओर प्रस्थान किया। उस समय दक्षिण में मायावादियों के प्रचार-प्रसार के कारण वैष्णव धर्म प्रायः संकीर्तन का प्रचार न करते तो यह भारत वर्ष वैष्णव धर्म विहीन हो जाता। 
 
हरिनाम का स्थान-स्थान पर प्रचार कर चैतन्य देव श्रीरंगम्‌ पहुंचे और वहां गोदानारायण की अद्भुत्‌ रूपमाधुरी देख भावावेश में नृत्य करने लगे। चैतन्य का भाव-विभावित स्वरूप देख मंदिर के प्रधान अर्चक श्रीवेंकट भट्ट चमत्कृत हो उठे और भगवान की प्रसादी माला उनके गले में डाल दी तथा उन्हें बताया कि वर्षाकालीन यह चातुर्मास कष्ट युक्त, जल प्लावन एवं हिंसक जीव-जंतुओं के बाहूल्य के कारण यात्रा में निषिद्ध है, अतः उनके चार मास तक अपने घर में ही निवास की प्रार्थना की। 
 
श्रीवेंकट भट्ट के अनुरोध पर चैतन्य देव के चार मास उनके आवास पर व्यतीत हुए। उन्होंने पुत्र श्रीगोपाल भट्ट को दीक्षित कर वैष्णव धर्म की शिक्षा के साथ शास्त्रीय प्रमाणोंसहित एक स्मृति ग्रंथ की रचना का आदेश दिया। 
 
कुछ समय पश्चात श्रीगोपाल भट्ट वृंदावन आए एवं वहां निवास कर उन्होंने पंचरात्र, पुराण और आगम निगमों के प्रमाणसहित 251 ग्रंथों का उदाहरण देते हुए हरिभक्ति विलास स्मृति की रचना की। इस ग्रंथ में उन्होंने एकादशी तत्व विषय पर विशेष विवेचना की। 
 
इस प्रसंग में आचार्य गौर कृष्ण दर्शन तीर्थ कहते हैं चातुः साम्प्रदायिक वैष्णवों के लिए आवश्यक रूप में एकादशी व्रत का महत्वपूर्ण स्थान है। एकादशी व्रत करने से जीवन के संपूर्ण पाप विनष्ट हो जाते हैं। इस व्रत को सहस्रों यज्ञों के समान माना गया है। ब्रह्मचारी, गृहस्थ, वानप्रस्थ, संन्यासी तथा विधवा स्त्रियां भी एकादशी व्रत के अधिकारी हैं। एकादशी व्रत त्याग कर जो अन्न सेवन करता है, उसकी निष्कृति नहीं होती। जो व्रती को भोजन के लिए कहता है, वह भी पाप का भागी होता है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Weekly Forecast : जानिए नए सप्ताह के नए सितारे क्या लाए हैं आपके लिए