मुझे भीड़ नहीं, काम करने वाले चाहिए- बुद्ध

बुद्ध के प्रवचन

एक बार गौतम बुद्ध को एक जगह प्रवचन देना था। वक्त हो गया, बुद्ध आए और बिना कुछ बोले वहां से चल दिए। वहां पर करीब-करीब डेढ़ सौ श्रोता उपस्थित होंगे।

दूसरे दिन फिर प्रवचन करना था, करीब सौ लोग उपस्थित थे। पचास कम हो गए।

बुद्ध आए, इधर-उधर देख कर बिना कुछ कहे वापस चले गए।

FILE


तीसरा दिन हुआ साठ के लगभग श्रोता थे। बुद्ध फिर आए और बिना कुछ कहे चले गए।

ऐसे ही चौथा दिन आ गया, कुछ लोग और कम हो गए। बुद्ध तब भी कुछ नहीं बोले।


FILE


जब पांचवां दिन हुआ तो देखा सिर्फ 14 लोग थे। गौतम बुद्ध ने प्रवचन दिया और उपस्थित 14 लोग उनके साथ हो गए।

किसी ने बुद्ध से पूछा- आपने पिछले 4 दिन कुछ नहीं बोला, इसका क्या कारण था। तब बुद्ध ने उसकी जिज्ञासा को शांत किया।

वे बोले- 'मुझे भीड़ नहीं, काम करने वाले चाहिए थे।' यहां वही टिक सकेगा, जिसमें धैर्य हो। जिनमें धैर्य था वे रह गए

वेबदुनिया पर पढ़ें