Alen musk: अमेरिकी ‘स्‍पेस यात्रा’ के बाद फ‍िर से सुर्खि‍यों में आया यह ‘शख्‍स’

रविवार, 31 मई 2020 (13:42 IST)
करीब 9 साल पहली बार अब अमेरिका ने अपने वैज्ञान‍िकों को स्पेस में भेजा है। वैज्ञान‍िक रॉबर्ट बेंकन और डगलस हर्ले ने जब फॉल्‍कन-9 रॉकेट में सवार होकर स्‍पेस की तरफ उड़ान भरी तो स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क भी फ‍िर से सुर्खि‍यों में आ गए हैं।

एलन मस्‍क का नाम भव‍िष्‍य की तकनीक के ल‍िए ल‍िया जाता है। उन्‍होंने पहले साइबर ट्रक, टनल, फ्लाइंग कार जैसी तकनीकों में बेहद उल्‍लेखनीय काम क‍िया है। अब मस्‍क ने स्पेस में द‍िलचस्‍पी ली है। करीब 9 साल बाद अमेरिकी जमीन से वैज्ञान‍िकों को अंतरिक्ष में भेजने के बाद स्‍पेसएक्‍स के सीइओ एलन मस्क पर फिर से दुन‍ियाभर की नजर है।

37.2 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ फोर्ब्‍स की लिस्ट में 37वें सबसे धनी व्‍यापारी के तौर पर भी उनका नाम दर्ज है।

आखि‍र कौन है एलन मस्‍क?
साउथ अफ्रीका के प्रिटोरिया शहर में 1971 में एलन मस्क का जन्म हुआ था। उनके पास अमेरिका कनाडा और साउथ अफ्रीका की नागरिकता है। वे अपनी कंपनी टेस्ला के माध्यम से धरती पर जबकि स्पेसएक्स के जरिए अंतरिक्ष में ट्रांसपोर्ट के क्षेत्र में भविष्य की तकनीक पर काम कर रहे हैं।

2003 में स्थापित टेस्ला इंक इलेक्ट्रिक वाहनों की सबसे बड़ी निर्माताओं में शाम‍िल है। एलन मस्क की कंपनी टेस्ला ने 21 नवंबर 2019 को अपना साइबर ट्रक लॉन्च किया था। यह पूरी तरह से इलेक्ट्रिक है।  इसके साथ ही यह पिकअप ट्रक ऑनरोड और ऑफरोड दोनों तरह की ड्राइविंग के लिए सबसे अच्‍छा माना गया है। य‍ह करीब 34 हजार क‍िलोग्राम तक भार उठा सकता है। एक बार चार्ज होने पर 400 किलोमीटर तक चलता है।

एलन मस्क ने भीड़भाड़ भरे सड़क मार्ग के विकल्प के रूप में भूमिगत परिवहन सुरंग की शुरुआत दिसंबर 2018 में की थी। इसकी लॉन्चिंग के समय मस्क ने कुछ संवाददाताओं और मेहमानों को इस क्रांतिकारी लेकिन कुछ उबड़-खाबड़ सुरंग की यात्रा भी करवाई थी। उस समय इसमें चलने वाली स्पेशल कार की स्पीड 64 किलोमीटर प्रति घंटा रही। लेकिन, अब उनकी टीम इसकी स्पीड को बढ़ाकर 241 किमी प्रतिघंटा करने के लिए काम कर रही है।

टेस्ला का इस समय पूरा ध्यान रोडस्टर नाम की फ्लाइंग कार बनाने पर है। साल 2017 में एलन मस्क ने इस कार को सार्वजनिक किया था लेकिन इसे लेकर परीक्षण अब भी जारी हैं। पहले इस कार को 2020 के अंत तक लॉन्च होना था। अब इसमें 2022 तक समय लगेगा।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख अहमदाबाद में ट्रंप के कार्यक्रम से फैला Corona : संजय राउत