Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पीटीआई सबसे बड़ा दल, पाकिस्तान में अबकी बार इमरान खान की सरकार...

webdunia
गुरुवार, 26 जुलाई 2018 (08:20 IST)
इस्लामाबाद। पाकिस्तान में नेशनल असेंबली चुनाव की मतगणना में पूर्व क्रिकेटर एवं राजनेता इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ (पीटीआई) अन्य दलों के मुकाबले काफी आगे चल रही है। पीटीआई ने अब तक प्राप्त रुझानों में 114 सीटों पर बढ़त बना ली है और वह बहुमत से 23 सीटें दूर हैं। माना जा रहा है कि इमरान खान ही पाकिस्तान के अगले प्रधानमंत्री होंगे। 
 
पाकिस्तान के डॉन अखबार के अनुसार नेशनल असेंबली की 270 सीटों के मिले रुझान में पीटीआई 114 सीटों पर आगे चल रही है जबकि भ्रष्टाचार मामले में जेल की सजा काट रहे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) ने 64 सीटों पर आगे है। पाकिस्तान की दो बार प्रधानमंत्री रहीं दिवंगत नेता बेनजीर भुट्टे के बेटे बिलावल भुट्टो जरदारी की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) ने 42 सीटों पर बढ़त बना रखी है। अन्य 50 सीटों पर आगे चल रहे हैं। 
 
इस स्थिति में पाकिस्तान में त्रिशंकु के आसार नजर आ रहे हैं। पीपीपी और पीएमएल एन दोनों मिलकर भी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है। दूसरी ओर इस चुनाव में इमरान को सेना का समर्थन प्राप्त है ऐसे में माना जा रहा है कि अन्य पर इस समय इमरान के साथ जाने का दबाव होगा। 
 
पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'यह स्पष्ट धोखाधड़ी है। जिस तरह से जनादेश का अपमान किया गया है, वह बर्दास्त नहीं है।'
 
पाकिस्तान में चुनाव आयोग के सचिव बाबर याकूब ने बुधवार को कहा कि चुनाव नजीतों में देरी के पीछे कोई  षड्यंत्र नहीं है। उन्होंने कहा कि ऐसा तकनीकी विफलता की वजह से हो सकता है क्योंकि देश में नई परिणाम  प्रेषक प्रणाली प्रारंभ की गई है। 
 
उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में नेशनल असेंबली की 272 सीटों के लिए बुधवार को मतदान हुआ था और कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतगणना शुरू हो गई थी। देशभर के मतदान केंद्रों पर 371,000 सैनिक तैनात किए गए हैं जो वर्ष 2013 में हुए चुनाव के दौरान तैनात किए गए सैनिकों की संख्या के लगभग पांच गुना है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

मोदी के मंत्री बोले, 15 साल से सीएम हैं नीतीश, अब छोड़ देना चाहिए कुर्सी