Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

POK में आतंकियों के ठिकानों पर गरजीं भारतीय तोपें तो बौखलाया पाकिस्तान, फिर दी परमाणु युद्ध की गीदड़ भभकी

webdunia
मंगलवार, 22 अक्टूबर 2019 (07:53 IST)
इस्लामाबाद। बार-बार सीमा पर संघर्षविराम उल्लंघन पर पाकिस्तान (Pakistan) को भारत ने मुंहतोड़ जवाब दिया। पीओके (POK) में आतंकी ठिकानों पर भारतीय तोपें गरजीं, लेकिन पाकिस्तान के मंत्री और नेता मुंह की खाने के बाद भी नहीं मान रहे हैं और भारत को गीदड़ भभकियां दे रहे हैं।
अपने ऊटपटांग बयानों से सुर्खियों में रहने वाले पाकिस्तान के रेलमंत्री (railway minister) शेख रशीद (shaikh rashid) ने भारत का बिना नाम लिए परमाणु युद्ध (nuclear war) की धमकी दी है। सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक सवाल के जवाब में शेख रशीद ने कहा कि अब ऐसा युद्ध नहीं होगा कि 4-6 दिन तक टैंक, तोपें चलेंगी जबकि सीधे-सीधे परमाणु जंग होगी।
webdunia
पाकिस्तान के रेलमंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा कि '126 दिन धरने में शामिल था, उस वक्त मुल्क के हालात और सरहदी मामलात ऐसे नहीं थे। यह सीरियस थ्रेट है इस मुल्क को और ये जंग खौफनाक हो सकती है। ये कन्वेंशनल आर्म नहीं होगी। जो अक्ल के अंधे ये समझ रहे हैं कि 4-6 दिन टैंक, तोपें चलेंगी या हवाई जहाज, एयर अटैक होंगे या नेवी के गोले चलेंगे... नो वे। दिस विल बी एटॉमिक वॉर। दिस विल बी अ क्लियर कट एटॉमिक वॉर। और जिस तरह की जरूरत होगी उस तरह के हथियारों का प्रयोग करेंगे, इस्तेमाल करेंगे।' शेख रशीद वही नेता हैं जिन्हें कुछ दिनों पहले एक समारोह के दौरान उस समय माइक से बिजली का करंट लग गया था, जब वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नाम ले रहे थे। इसके बाद उन्होंने हास्यास्पद बयान दिया था कि उन्हें करंट लगने के पीछे भारत का हाथ है।
 
पहले भी दे चुके हैं बेतुके बयान : शेख रशीद इससे पहले भी भारत को परमाणु युद्ध की गीदड़भभकी दे चुके हैं। कुछ हफ्ते पहले ही उन्होंने भारत को धमकी देते हुए कहा था कि पाकिस्तान के पास 125 ग्राम और 250 ग्राम के भी परमाणु बम हैं, जो किसी खास लक्ष्य पर मार कर सकते हैं। उन्होंने कहा था कि 'भारत सुन ले कि पाकिस्तान के पास पाव और आधा पाव के एटम बम भी हैं, जो किसी खास इलाके को निशाना बना सकते हैं।' इस बयान के लिए सोशल मीडिया पर उनकी खिल्ली भी उड़ी थी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

2021 के बाद 2 से अधिक बच्चे वाले लोगों को नहीं मिलेगी सरकारी