Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

चीन और पाकिस्तान को UN के मंच से PM मोदी ने लगाई लताड़, जानिए बड़ी बातें

हमें फॉलो करें webdunia
शनिवार, 25 सितम्बर 2021 (23:20 IST)
न्यूयॉर्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को आज संबोधित करते हुए चीन और पाकिस्तान का नाम लिए बिना उन्हें उनके कृत्यों के लिए कठघरे में खड़ा किया और आतंकवाद एवं विस्तारवाद के खतरे को लेकर विश्व समुदाय का आह्वान किया कि मौजूदा हालात में वैश्विक लोकतांत्रिक व्यवस्था, वैश्विक कानूनों एवं वैश्विक मूल्यों के संरक्षण के लिए निरंतर कार्य करना होगा।

मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें अधिवेशन को संबोधित करते हुए यह आह्वान किया। उन्होंने विश्व समुदाय का विश्व में हो रहीं घटनाओं को लेकर निर्भीकता से आगे आने का भी आह्वान किया। मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत में संयुक्त राष्ट्र महासभा के नए अध्यक्ष मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद को बधाई दी और कहा कि उनका वैश्विक निकाय के सर्वोच्च सदन का अध्यक्ष बनना सभी विकासशील देशों विशेषकर छोटे द्वीपीय देशों के लिए गौरव की बात है।

उन्होंने कहा कि बीते डेढ़ साल से पूरा विश्व सदी की सबसे बड़ी महामारी का सामना कर रहा है। उन्होंने इस भयंकर महामारी में जान गंवाने वाले दुनिया के करोड़ों लोगों को श्रद्धांजलि भी अर्पित की। इस मौके पर मोदी ने भारत के लोकतंत्र में रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने वाले पिता की संतान के 20 साल से गुजरात के मुख्यमंत्री एवं भारत के प्रधानमंत्री के पद पर बतौर शासनाध्यक्ष काम करने के अनुभव को साझा करते हुए कहा कि लोकतंत्र परिणाम दे सकता है और लोकतंत्र ने परिणाम दिया है।
webdunia

मोदी ने विश्व मंच पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए दुनिया को उनके एकात्म मानव दर्शन एवं अंत्योदय के सिद्धांत से परिचित कराया। उन्होंने कहा कि भारत इसी सिद्धांत पर चलते हुए एकीकृत एवं समानतापूर्ण विकास की ओर बढ़ रहा है जो सर्वसमावेशी, सर्वस्पर्शी, सर्वव्यापी एवं सर्वपोषक है। प्रधानमंत्री ने इसके साथ ही भारत में जनधन खाते, प्रधानमंत्री आवास, नल जल योजना, आयुष्मान भारत योजना के साथ तकनीक के सहारे प्रगति के प्रयासों की जानकारी दी।

उन्होंने यह भी बताया कि भारत ने कोविड महामारी से निपटने के लिए डीएनए आधारित दुनिया का पहला टीका बना लिया है जो 12 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को लगाने के लिए तैयार है। साथ ही एम आरएनए आधारित टीका भी विकसित हो रहा है। हमने नथुनों के जरिए दी जाने वाली कोरोना की वैक्सीन भी बना ली है। भारत ने मानवता के लिए एक बार फिर से दुनिया को वैक्सीन देना शुरू कर दिया है। उन्होंने विश्व के टीका उत्पादकों का भारत में आने एवं टीका उत्पादन करने का भी आह्वान किया।

इसके बाद मोदी ने कोविड महामारी के लिए चीन की भूमिका पर चिंता जताते हुए कहा कि इस महामारी ने सबक दिया है कि विश्व अर्थव्यवस्था को विकेन्द्रीकृत एवं विविधतापूर्ण बनाने तथा वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को विस्तार देने की आवश्यकता है। हमारा आत्मनिर्भर भारत अभियान इसी भावना से प्रेरित है। वैश्विक औद्योगिक विकेन्द्रीकरण के लिए भारत विश्व का एक लोकतांत्रिक और भरोसेमंद साझीदार बन रहा है।
webdunia

उन्होंने कहा कि भारत ने इकॉनोमी और ईकोलॉजी में संतुलन स्थापित किया है। 450 गीगावाट स्वच्छ ऊर्जा उत्पादन के लक्ष्य के साथ ही भारत को दुनिया का सबसे बड़ा हरित हाइड्रोजन हब बनाने की दिशा में अग्रसर है।
उन्होंने कहा, हमें अपनी आने वाली पीढ़ियों को जवाब देना है कि जब फैसले लेने का समय था, तब जिन पर विश्व को दिशा देने का दायित्व था, वो क्या कर रहे थे?

आज विश्व के सामने प्रतिगामी सोच और आतंकवाद का खतरा बढ़ता जा रहा है। इन परिस्थितियों में पूरे विश्व को विज्ञान आधारित, तर्कपूर्ण और प्रगतिशील सोच को विकास का आधार बनाना ही होगा। उन्होंने भारत में इस दशा में प्रयासों का उल्लेख करते हुए कहा कि अपनी आजादी के 75वें वर्ष के उपलक्ष्य में भारत 75 ऐसे सैटेलाइट्स को अंतरिक्ष में भेजने वाला है जो भारतीय विद्यार्थी, स्कूल-कॉलेजों में बना रहे हैं।

मोदी ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि प्रतिगामी सोच के साथ, जो देश आतंकवाद का पॉलिटिकल टूल के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें ये समझना होगा कि आतंकवाद उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है। ये सुनिश्चित किया जाना बहुत जरूरी है कि अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने और आतंकी हमलों के लिए ना हो।
ALSO READ: UN मुख्यालय में बोले PM मोदी, कुछ देश आतंकवाद का इस्तेमाल राजनीतिक टूल के तौर पर कर रहे हैं
हमें इस बात के लिए भी सतर्क रहना होगा कि वहां की नाजुक स्थितियों का कोई देश अपने स्वार्थ के लिए एक टूल की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश ना करे। इस समय अफगानिस्तान की जनता वहां की महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों को मदद की जरूरत है और इसमें हमें अपना दायित्व निभाना ही होगा।
ALSO READ: UN के मंच पर PM मोदी ने संयुक्त राष्ट्र को दे डाली नसीहत
हिन्द प्रशांत क्षेत्र में चीन की ओर से मिल रही चुनौती की पृष्ठभूमि में मोदी ने कहा, हमारे समंदर भी हमारी साझी विरासत हैं। इसलिए हमें ये ध्यान रखना होगा कि समुद्री संसाधन का हम उपयोग करें, दुरुपयोग नहीं। हमारे समंदर, अंतरराष्ट्रीय व्यापार की जीवनरेखा भी हैं। इन्हें हमें विस्तारवाद और एकाधिकारवाद की दौड़ से बचाकर रखना होगा।
ALSO READ: UN के मंच से चीन पर PM मोदी ने की चोट, कहा- दुनिया को विस्तारवाद पर लगाना होगी लगाम | PM Modi in UNGA
उन्होंने कहा कि नियम आधारित विश्व व्यवस्था को सशक्त करने के लिए, अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक सुर में आवाज उठानी ही होगी। सुरक्षा परिषद में भारत की अध्यक्षता के दौरान बनी विस्तृत सहमति, विश्व को समुद्री सुरक्षा के विषय में आगे बढ़ने का मार्ग दिखाती है।

मोदी ने महान कूटनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य को उद्धृत करते हुए कहा कि जब सही समय पर सही कार्य नहीं किया जाता, तो समय ही उस कार्य की सफलता को समाप्त कर देता है। उन्होंने विश्व शासन की इस सर्वोच्च संस्था की गिरती साख पर बेलाग टिप्पणी करते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र को खुद को प्रासंगिक बनाए रखना है तो उसे अपनी प्रभावशीलता को सुधारना होगा, भरोसे को बढ़ाना होगा।
ALSO READ: पीएम नरेंद्र मोदी के कार्यकाल के 5 सबसे बड़े असंभव कार्य, जो उन्होंने संभव कर दिखाए
उन्होंने कहा, संयुक्त राष्ट्र पर आज कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। इन सवालों को हमने जलवायु परिवर्तन के संकट में देखा है, कोविड के दौरान के देखा है। दुनिया के कई हिस्सों में चल रहे छद्म युद्ध- आतंकवाद और अभी अफगानिस्तान के संकट ने इन सवालों को और गहरा कर दिया है। प्रधानमंत्री ने चीन पर हमला करते हुए कहा कि कोविड के उद्गम के संदर्भ में और ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग को लेकर वैश्विक शासन से जुड़ी संस्थाओं ने दशकों के परिश्रम से बनी अपनी विश्वसनीयता को नुकसान पहुंचाया है।

उन्होंने कहा, यह आवश्यक है कि हम संयुक्त राष्ट्र को विश्व व्यवस्था, वैश्विक कानूनों एवं वैश्विक मूल्यों के संरक्षण के लिए निरंतर सुदृढ़ करें। प्रधानमंत्री ने नोबेल पुरस्कार विजेता गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर की एक कविता की कुछ पंक्तियां पढ़ीं और उनका अर्थ बताते हुए कहा, अपने शुभकर्म के पथ पर निर्भीक होकर बढ़ो, सभी दुबर्लताएं, सभी शंकाएं समाप्त हों।

उन्होंने कहा कि ये संदेश आज के संदर्भ में संयुक्त राष्ट्र के लिए जितना प्रासंगिक है उतना ही हर जिम्मेदार देश के लिए भी प्रासंगिक है। ऐसा विश्वास है, हम सबका प्रयास, विश्व में शांति और सौहार्द बढ़ाएगा, विश्व को स्वस्थ, सुरक्षित और समृद्ध बनाएगा।(वार्ता)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

केदारनाथ से 5 राज्यों का चुनावी शंखनाद कर सकते हैं PM मोदी