Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने नस्ली समानता से जुड़े आदेश पर किए हस्ताक्षर

webdunia
बुधवार, 27 जनवरी 2021 (22:02 IST)
वॉशिंगटन। अमेरिका में व्यवस्थित नस्लवाद को खत्म करने के अपने मुख्य चुनावी वादे को पूरा करने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए राष्ट्रपति जो बाइडन ने देशभर में नस्ली समानता सुनिश्चित करने के लिए कई कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर किए हैं।

मंगलवार को राष्ट्रपति के चार कदमों की घोषणा करते हुए व्हाइट हाउस ने बताया कि बाइडन ने एक अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पिछले साल मई में मीनियापोलिस पुलिस के एक अधिकारी द्वारा हत्या का उल्लेख किया। श्वेत पुलिस अधिकारी ने फ्लॉयड की गर्दन को अपने घुटनों से दबाया था और उसके यह कहने के बावजूद दबाव कम नहीं किया था कि उसका दम घुट रहा है। इस घटना के विरोध में देशभर में प्रदर्शन हुए थे।

बाइडन ने इस हत्या को न्याय की गर्दन पर घुटना (नी ऑन द नेक ऑफ जस्टिस) करार दिया और कहा कि इसकी वजह से जमीनी बदलाव आया। इसने मन और मनोदशा को बदला। बाइडन ने कहा, राष्ट्रपति पद के लिए अपने प्रचार अभियान के दौरान मैंने यह बात बिल्कुल स्पष्ट की थी कि एक राष्ट्र के तौर पर वह समय आ गया है जहां हम अमेरिका में गहरी नस्ली असमानताओं और व्यवस्थित नस्लवाद का सामना कर रहे हैं जिसने हमारे देश को काफी खोखला किया।

नस्ली समानता की दिशा में चार कार्यकारी कदमों और आवासन एवं आपराधिक न्याय से व्यवस्थित नस्लवाद को उखाड़ फेंकने के पहले प्रयास के तहत बाइडन ने फिर अपने प्रशासन की प्रतिबद्धताओं को दर्शाया है जिसके तहत देश भर के परिवारों के लिए ‘अमेरिकन ड्रीम’ को हकीकत में बदलने की कोशिश की गई। जिसके तहत अश्वेत और अन्य अमेरिकियों के लिए अर्थव्यवस्था व अन्य क्षेत्रों में समान अवसर उपलब्ध हों।

कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर से जुड़े व्हाइट हाउस के समारोह में बाइडन ने कहा, हमनें इस राष्ट्र के स्थापना से जुड़े सिद्धांतों का कभी पूरी तरह अनुपालन नहीं किया कि सभी लोग समान हैं और जीवनभर समान रूप से व्यवहार किए जाने का अधिकार रखते हैं। अब कदम उठाने का वक्त आ गया है, सिर्फ इसलिए ही नहीं कि ऐसा करना सही है बल्कि इसलिए भी कि अगर हम ऐसा करते हैं तो यह हम सभी के लिए बेहतर होगा।

उन्होंने कहा, काफी लंबे समय तक हमनें एक संकीर्ण, तंग नजरिए को पनपने दिया। एक कार्यकारी आदेश में बाइडन ने संघीय एजेंसियों को विदेशी लोगों से भय खासकर एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीपीय देशों के लोगों के खिलाफ खौफ के फिर से पनपने के खिलाफ कदम उठाने को कहा। उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस महामारी के दौरान इसमें काफी बढ़ोतरी हुई है।

उन्होंने कहा, यह अस्वीकार्य हैं और यह अमेरिका के मुताबिक नहीं है। मैंने न्याय विभाग से एशियाई अमेरिकियों और प्रशांत द्वीपीय समुदाय के लोगों के साथ अपनी साझेदारी बढ़ाने को कहा है जिससे इस तरह के घृणा अपराध रोके जा सकें।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

दिल्ली पुलिस ने कहा- किसान नेताओं ने दिए भड़काऊ भाषण, किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा