सस्ती टीमों का सटीक वार

महँगी टीमें हो रही हैं नाकाम

बुधवार, 30 अप्रैल 2008 (15:41 IST)
वेबदुनिया आकलन
इंडियन प्रीमियर लीग में अब तक (30 अप्रैल तक) कुल 16 मैच खेले जा चुके हैं, लीग की शुरुआत से पहले जब खिलाड़ियों की बोली लगाई जा रही थी, तब देश सबसे रईस उद्योगपति मुकेश अंबानी ने सबसे महँगी मुंबई टीम खरीदी। मुंबई इंडियन्स टीम में उन्‍होने सचिन तेंडुलकर, सनथ जयसूर्या, शान पोलाक, हरभजनसिंह जैसे अनुभवी खिलाड़ियों को शामिल किया।

मुंबई इंडियन्स टीम 111.9 मिलियन यूएस डॉलर की कीमत देकर खरीदी गई आईपीएल की सबसे महँगी टीम है। किसी टीम के लिए बोर्ड को चुकाई गई सबसे अधिक धन राशि के लिहाज से विजय माल्‍या के अधिपत्‍य वाली बंगलोर रॉयल चैलेंजर्स टीम दूसरे नंबर पर है। माल्या ने 111.6 मिलियन यूएस डॉलर देकर राहुल द्रविड़ 'द वॉल' की कप्‍तानी में एक धुरंधर टीम खड़ी की जो की आईपीएल की दूसरी महँगी टीम है। इस मामले में तीसरे नंबर पर डेकन चार्जर्स (हैदराबाद टीम) का नाम आता है।

आईपीएल की अन्य टीमों की बात करें तो इस पूरे महासंग्राम की सबसे सस्ती टीम राजस्‍थान रॉयल्‍स है, जिसे इमर्जिंग मीडिया ने मात्र 67 मिलियन डॉलर देकर खरीदा है। इसके बाद शाहरुख खान की कोलकाता नाइट राईडर्स, प्रीति जिंटा की किंग्‍स इलेवन पंजाब, जीएमआर ग्रुप की दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स और इंडिया सीमेंट की चेन्‍नई सुपर किंग का नाम हैं। ये सारी टीमें 100 मिलियन डॉलर से कम कीमत में खरीदी गई हैं।

यह तो बात हुई इनकी कीमतों की अब देखते है की टूर्नामेंट में कौन सी टीम कितने मैच जीत कर अंक तालिका में कहाँ है। यहाँ आकर सब कुछ उल्‍टा हो जाता है। अब तक प्रत्‍येक टीम ने लगभग 4 मैच खेले हैं और उनमें जितने का प्रतिशत देखा जाए तो सस्‍ती टीमों ने ज्‍यादा मैच जीते है बनिस्बत महँगी टीमों के और इस कारण अंक तालिका में सस्‍ती टीमें ऊपर नजर आ रही हैं जबकि महँगी टीमें सेंसेक्‍स की तरह नीचे गिर गई हैं।

टूर्नामेंट में अब तक की स्थिति पर नजर डाली जाए तो चेन्‍नई सुपर किंग्‍स ने अपने सारे मैच जीते हैं और अंक तालिका में सबसे ऊपर 8 अंक लेकर बैठी है, वहीं राजस्‍थान रॉयल्‍स 3 मैच जीतकर 6 अंको के साथ दूसरे स्‍थान पर जा पहुँची है। डेयर डेविल्स और नाइट राइडर्स की टीमें 4-4 अंक लेकर क्रमश: तीसरे और चौथे स्‍थान पर हैं।

लेकिन मुंबई की टीम अब तक 5 मैचों में से सिर्फ 1 ही जीत पाई है, वैसे भी टीम में सचिन की कमी तो पहले से ही थी, उस पर हरभजन भी थप्पड़ विवाद के बाद पूरे टूर्नामेंट से बाहर हो गए। इस हालत में भी हार न मानते हुए शान पोलाक की कप्‍तानी में मुंबई इंडियन्स ने अंक तालिका में अपना खाता खोला कोलकाता के खिलाफ अपनी पहली जीत दर्ज की।

आने वाले मैचों में सचिन मैदान पर नजर आएँगे, लेकिन सचिन का मैदान पर उतरना टीम के लिए कितने फायदेमंद रहेगा?

दूसरी तरफ बंगलोर रॉयल चैलेंजर्स ने भी 4 मैचों में से सिर्फ 1 में ही जीत हासिल की है और अंक तालिका में वे सबसे नीचे हैं। टीम के कप्तान और सलामी बल्लेबाज 'द वॉल' अपनी टीम की जीत में वॉल की तरह खड़े नजर आते हैं। अगर वे खुद ओपनिंग न करते हुए मार्क बाउचर या प्रवीण कुमार में से किसी अन्‍य बल्‍लेबाज को मौका दें तो शायद कुछ हो सकता है।

बुधवार को रॉयल चैलेंजर्स और दिल्ली डेयर डेविल्स के बीच मैच होना है। हालाँकि मुंबई इंडियन्स, रॉयल चैलेंजर्स और डेकन चार्जर्स जैसी टीमें अपने अधिकांश शुरुआती मैच हार चुकी हैं और कोलकाता नाइट राइडर्स को भी अपने पिछले दो मैचों में हार का सामना करना पड़ा है, लेकिन इसके बावजूद टूर्नामेंट अब भी खुला हुआ है और प्रत्येक टीम के लिए अब भी समान अवसर हैं। टूर्नामेंट लंबा जरूर है लेकिन अब वह वक्त आ गया है, जबकि हर मैच का फैसला जीतने वाली टीम को सेमीफाइनल के करीब ले जाएगा।

हैदराबाद की डेक्‍कन चार्जर्स भी अब तक 4 में से सिर्फ 1 ही मैच जीत पाई है और तालिका में 2 अंक लेकर छठवें नंबर पर है। वीवीएस लक्ष्‍मण की कप्‍तानी वाली इस टीम में वैसे तो काफी अनुभवी खिलाडी भरे हुए हैं, लेकिन फिर भी वे अपने पहले तीन मैचों में अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए थे।

अब तक के बनते-बिगड़ते समीकरणों को देखकर यह तो पूरी तरह से नहीं कहा जा सकता की कौन सी टीम सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाएगी, लेकिन इतना जरूर है कि टूर्नामेंट की सबसे महँगी टीमें अपने मालिकों को महँगी पड़ रही हैं या यह कहें की सस्‍ती टीमें महँगी टीमों पर भारी पड़ रही हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें