अपनी टीमों का भाग्य बदलने उतरेंगे कोहली और स्मिथ

शनिवार, 15 अप्रैल 2017 (12:50 IST)
बेंगलुरु। भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ इंडियन प्रीमियर लीग दस में शुक्रवार को जब आपने-सामने होंगे तो उनका एकमात्र लक्ष्य अपनी फ्रेंचाइजी टीमों क्रमश: रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और राइजिंग पुणे सुपरजॉइंट को जीत दिलाना होगा। इन दोनों फ्रेंचाइजी टीमों को अब तक के अपने 4 मैचों में 3 में हार का सामना करना पड़ा है और वे अब जीत की लय हासिल करने के लिए बेताब हैं।
 
कोहली ने चोट से उबरने के बाद अर्धशतक जड़ा जो आरसीबी के लिए अच्छे संकेत हैं लेकिन बाकी बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन के कारण इस कम स्कोर वाले मैच में उसे मुंबई इंडियंस से हार झेलनी पड़ी थी। दूसरी तरफ से पुणे को गुजरात लॉयंस के खिलाफ अच्छी शुरुआत के बावजूद हार का सामना करना पड़ा था। 
 
विश्व क्रिकेट के दो प्रमुख बल्लेबाज और हाल में समाप्त हुई टेस्ट श्रृंखला में अपने देशों की कमान संभालने वाले कोहली और स्मिथ यहां अलग तरह के मुकाबले में एक दूसरे पर भारी पड़कर अपनी टीमों का भाग्य बदलने की कोशिश करेंगे। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी आईपीएल दस में अभी तक अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए और उन पर रन बनाने का दबाव है। 
 
आरसीबी को अपने दोनों मैच पुणे और गुजरात के खिलाफ खेलने हैं जो अब भी अपनी अंतिम एकादश को ठोस रूप देने के लिए जूझ रही हैं। इन दो मैचों में जीत से वह अंकतालिका में अपनी स्थिति में काफी सुधार कर सकता है। पुणे भी अपने मैदान पर सनराइजर्स हैदराबाद और फिर मुंबई में मुंबई इंडियंस का सामना करने से पहले आरसीबी के खिलाफ दो अंक हासिल करना चाहेगा। 
 
क्रिस गेल की फॉर्म आरसीबी के लिए चिंता का विषय है। गेल ने जो पिछली 11 पारियां खेली हैं उनमें वह अर्द्धशतक भी नहीं लगा पाए। चिन्नास्वामी का विकेट धीमा है और गेल को यह रास नहीं आ रहा है। गेल को यहां तक कि दूसरी बार बाहर बिठाया जा सकता है क्योंकि टीम प्रबंधन शेन वॉटसन को अंतिम एकादश में शामिल कर सकता है।
 
एबी डिविलियर्स ने भी चोट से उबरने के बाद 89 रन की पारी खेली थी और आरसीबी फिर से उनसे ऐसी बल्लेबाजी की उम्मीद कर रहा होगा। इनके अलावा केदार जाधव पर भी काफी जिम्मेदारी है जो अच्छी फॉर्म में चल रहे हैं। 
 
गेंदबाजी विभाग में सैमुअल बद्री के शानदार प्रदर्शन से उसे मजबूती मिली है। उनके अलावा युजवेंद्र चहल और पवन नेगी भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। पुणे भी बल्लेबाजी में स्मिथ पर निर्भर है जबकि बेन स्टोक्स और धोनी अब तक कमाल नहीं दिखा पाए हैं। गेंदबाजी में पिछले मैच में इमरान ताहिर के नहीं चल पाने के कारण टीम के समीकरण गड़बड़ा गए थे। ताहिर को यहां की धीमी पिच रास आ सकती है। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख ट्वंटी-20 में पोलार्ड दुनिया के पांचवें बल्लेबाज बने