19 अप्रैल को है हनुमान जयंती, रसीला बनारसी पान चढ़ाकर मांग लीजिए मनचाहा वरदान

जय श्रीराम, जय आंजनीपुत्र हनुमान.. चिरंजीवी देव अतुल बलशाली रामभक्त हनुमानकी की कृपा पाने के लिए सच्चे मन से उनकी अर्चना-आराधना करनी चाहिए। आइए जानते हैं हनुमंत कृपा पाने के आसान उपाय.. 
 
 हनुमान जयंती पर पीपल के 11 पत्तों का उपाय अपनाना चाहिए। ब्रह्म मुहूर्त में उठें। इसके बाद नित्य कर्मों से निवृत्त होकर किसी पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ लें। ध्यान रखें, पत्ते पूरे होने चाहिए, कहीं से टूटे या खंडित नहीं हों। 11 पत्तों पर स्वच्‍छ जल में कुमकुम या अष्टगंध या चंदन मिलाकर इससे श्रीराम का नाम लिखें। नाम लिखते समय हनुमान चालीसा का पाठ करें। जब सभी पत्तों पर 'श्रीराम' नाम लिख लें, उसके बाद राम नाम लिखे हुए इन पत्तों की एक माला बनाएं। इस माला को किसी भी हनुमानजी के मंदिर में जाकर वहां बजरंग बली को अर्पित करें।
 
बनारसी पान चढ़ाएं : हनुमान जयंती के दिन बजरंग बली को बना हुआ बनारसी पान चढ़ाना चाहिए। बनारसी पत्ते का बना हुआ पान चढ़ाने से भी हनुमानजी की कृपा प्राप्त होती है।

जो भक्त रामायण या श्रीरामचरित मानस का पाठ करते हैं या इनके दोहे प्रतिदिन पढ़ते हैं, उन्हें हनुमानजी का विशेष स्नेह प्राप्त होता है। हनुमान जयंती को शाम के समय हनुमानजी को केवड़े का इ‍त्र व गुलाब की माला चढ़ाएं। हनुमानजी को खुश करने का यह सबसे सरल उपाय है। 
 
हनुमानजी को यह विशेष पान अर्पित करने से जीवन की हर समस्या का नाश होता है।
 
कैसे बनवाएं हनुमानजी के लिए विशेष पान : इस पान में केवल कत्था, गुलकंद, सौंफ, खोपरे का बुरा और सुमन कतरी डलवाएं। यह पान एकदम ताजा, मीठा और रसभरा होना चाहिए। ध्यान रहे कि पान में चूना, तंबाकू एवं सुपारी नहीं डलती है।
 
कैसे करें हनुमानजी को पान अर्पण : विधि-विधान से पूजन करने के बाद अरज करें 'हे हनुमानजी। यह मीठा पान अर्पण है। मेरे जीवन में मिठास भर दीजिए। हनुमानजी को यदि यह बोलकर अर्पण किया जाए तो बजरंगबली की कृपा से कुछ ही दिनों में हर समस्या दूर हो जाएगी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख हनुमान जी को प्रसन्न करना है तो पहले इन 8 बातों को याद कर लीजिए